खोज

Vatican News
भुकम्प पीड़ितों से मुलाकात करते अल्बानिया के धर्माध्यक्ष भुकम्प पीड़ितों से मुलाकात करते अल्बानिया के धर्माध्यक्ष 

संत पापा की सहानुभूति के आभारी अल्बानिया के लोग

अल्बानिया में राष्ट्रीय शोक दिवस घोषित किया गया है जहाँ राहत कर्मी लापता लोगों की खोज कर रहे हैं तथा भुकम्प पीड़ितों की मदद की जा रही है। मरने वालों की संख्या बढ़ती जा रही है। इस बीच तिराना के महाधर्माध्यक्ष फ्रेंदो ने अल्बानिया के लिए संत पापा फ्राँसिस के सहानुभूतिपूर्ण शब्दों के लिए आभार प्रकट किया है तथा कारितास अल्बानिया की सहायता के लिए उन्हें धन्यवाद दिया है।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

अल्बानिया, बृहस्पतिवार, 28 नवम्बर 2019 (रेई)˸ अल्बानिया के प्रधानमंत्री एडी रामा ने कहा, "हम दुर्रेस एवं थुमाने के गाँवों में मलवे को खोद ही रहे हैं जहाँ सबसे अधिक 6.4 तीब्रता से भुकम्प आयी है। कई लोग अभी भी मलवे में दबे हुए हैं और मरने वालों की संख्या कुल 27 हो चुकी है। स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार करीब 650 लोग घायल हैं जबकि 62 लोगों को अस्पतालों में भर्ती किया गया है।

तिराना के महाधर्माध्यक्ष का साक्ष्य

संत पापा फ्राँसिस ने बुधवार को आमदर्शन समारोह के दौरान एवं एक तार संदेश के द्वारा अल्बानियाई लोगों के प्रति अपना आध्यात्मिक सामीप्य प्रकट किया था जिसको अल्बानिया के लोगों ने सहर्ष स्वीकार किया। अल्बानिया के महाधर्माध्यक्ष जॉर्ज अंतोनी फ्रेंदो ने कहा कि "संत पापा फ्राँसिस के शब्दों का बड़ी खुशी के साथ स्वागत किया गया और समाचार पत्रों में उसे तुरन्त प्रकाशित किया गया, इस बात पर जोर देते हुए कि यह उनके देश के प्रति संत पापा के स्नेह को प्रकट करता है।" महाधर्माध्यक्ष फ्रेंदो जिन्होंने दुर्रेस एवं थुमाने शहरों का दौरा किया, बतलाया कि कारितास वहाँ के भुकम्प पीड़ित लोगों की मदद कर रही है। उन्होंने याद किया कि 28 नवम्बर को अल्बानिया के पुरोहितों एवं धर्मसमाजियों की बैठक आयोजित की गयी थी ताकि मदद करने हेतु आगे योजना बनायी जा सके।  

कारितास की सहायता

आंतरिक मंत्रालय द्वारा राहत प्रयास में नागरिक सुरक्षा, पुलिस और क्षेत्र में सेना को एक साथ समन्वित किया जा रहा है। अल्बानिया कारितास के एत्तोरे फौसारो ने बतलाया कि दोनों प्रभावित क्षेत्रों में स्थापित तम्बू शिविरों में कारितास अल्बानिया की टीमें कार्य कर रही हैं। उनके द्वारा दुर्रेस एवं थुमाने में भोजन एवं पेयजल आपूर्ति की जा रही है। शिविर में इस समय कुल 1500 लोग हैं अन्य परिवारों को तिराना एवं दुरात्सो के काथलिक संस्थाओं में रखा गया है।

28 November 2019, 17:10