Cerca

Vatican News
तुर्की सीरिया संघर्ष तुर्की सीरिया संघर्ष  (AFP or licensors)

सीरिया में एक अंतहीन मानवीय त्रासदी, इटली की कारितास

इटली की कारितास उत्तर-पूर्व सीरिया के कुर्द-आयोजित भागों पर तुर्की के हमलों की निंदा करती है और उनका कहना है कि सैन्य आक्रमण केवल देश के लोगों की अनकही मानवीय पीड़ा को बढ़ाएगा।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी 

रोम, शनिवार 12 अक्टूबर 2019 (वाटिकन न्यूज) : "फिर से अंतरराष्ट्रीय कानून का एक और उल्लंघन" सीरिया में "एक अंतहीन मानवीय त्रासदी" शीर्षक बयान में इटली कारितास ने सीरिया में हो रहे मानव त्रादसी के लिए अपनी संवेदना प्रकट की।

बयान में कहा गया कि सीरिया का उत्तर-पूर्व क्षेत्र जो हमले के अधीन है, "मुख्य रूप से कुर्दों द्वारा बसाया गया" है।

तथाकथित इस्लामिक स्टेट और अन्य आतंकवादी संगठनों के खिलाफ इतने लंबे समय तक लड़ने वाली आबादी को एक बार फिर से बड़े संघर्ष करना पड़ रहा है।" सीरिया पर तुर्की के हमले से पहले से ही बहुत अधिक संख्या में लोग अन्य देशों में शरण लिये हुए हैं। फिर से शुरु हुए संघर्ष से लोगों के विस्थापित होने और अन्य देशों में शरणार्थियों की संख्या तेजी से बढ़ेगी।

सीरिया की 80% आबादी गरीबी में रहती है, बयान में लिखा है कि 13 मिलियन से अधिक लोगों को मानवीय सहायता की आवश्यकता है। सबसे कमजोर लोग बुजुर्ग, महिलाएं, विकलांग और 5.6 मिलियन बच्चे ही सबसे अधिक पीड़ित हैं।

रक्तपात बंद करने की अपील

इटली कारितास ने पूरे अंतरराष्ट्रीय समुदाय से "बिना किसी शर्त के इसे रोकने के लिए आवश्यक कदम उठाने" की अपील की है। कारितास का कहना है, "अब पहले से कहीं अधिक हमें प्रतिबद्धता और सभी की एकजुटता की आवश्यकता है, ताकि हम इस युद्ध का एक शांतिपूर्ण समाधान पा सकें ताकि हम सबसे जरूरी मानवीय जरूरतों का तुरंत जवाब दे सकें।"

सीरिया के लोग "नौ वर्षों के युद्ध से त्रस्त हो चुके हैं, जिसने मौत, विनाश और गरीबी का कारण बना है"। यहां के सभी लोगों को शांति की आवश्यकता है क्योंकि उन्हें अपने जीवन को गरिमा के साथ जीने का अधिकार है।

12 October 2019, 17:05