खोज

Vatican News
समूद्र  में डूबने से बचाये गये प्रवासी समूद्र में डूबने से बचाये गये प्रवासी 

यूरोपीय संघ प्रवासियों का पुनर्वितरण करे, इटली और फ्रांस की मांग

फ्रांस और इटली यूरोपीय संघ से प्रवासियों को स्वचालित रूप से पुनर्वितरित करने के लिए एक नई प्रणाली की मांग करते हैं। यूरोप में आने वाले लोगों की संख्या में वृद्धि के कारण यूरोपीय संघ के भीतर तनाव को देखते हुए यह मांग की गई।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

रोम, शनिवार 21 सितम्बर 2019 (वाटिकन न्यूज) : यूरोपीय संघ के कई सदस्य देश यूरोप के तटों पर आने वाले प्रवासियों और शरणार्थियों को स्वीकार करने से इनकार करते हैं। इस पर फ्रांसीसी राष्ट्रपति और इतालवी प्रधानमंत्री ने अपनी नाराजगी दिखाई है। हंगरी, चेक गणराज्य, पोलैंड और स्लोवाकिया जैसे देशों ने अक्सर 28 देशों में शरण चाहने वालों को पुनर्वितरित करने के लिए यूरोपीय संघ की योजनाओं की आलोचना की है।

फ्रांसीसी राष्ट्रपति मैक्रोन ने कई खतरनाक यात्रा के बचे लोगों को स्वीकार करने से इनकार करने के लिए यूरोपीय संघ के कई देशों की निंदा की। मैक्रोन ने कहा, "यूरोपीय संघ ने पहुंचने वाले पहले देशों, विशेष रूप से इटली के साथ पर्याप्त एकजुटता नहीं दिखाई है।"

प्रवासियों का स्वचालित रूप से पुनर्वितरण

मैक्रोन ने यूरोपीय संघ के उस नियम का उल्लेख किया है, जो प्रवासियों द्वारा यूरोपीय देशों में प्रवेश करने वाले पहले राष्ट्र को जिम्मेदारी सौंपता है।

लेकिन इटली का कहना है कि अब वह और प्रवासियों के आगमन की संख्या का सामना नहीं कर सकता है। इतालवी प्रधानमंत्री कॉन्टे ने स्पष्ट किया कि वे और राष्ट्रपति मैक्रोन चाहते हैं कि नई प्रणाली यूरोपीय संघ के प्रवासियों को स्वचालित रूप से पुनर्वितरित करे।

प्रधानमंत्री कॉन्टे ने कहा, "मुझे पहले ही राष्ट्रपति मेक्रोन का समर्थन मिल चुका है, प्रवासियों के लैंडिग और पुनर्वितरण के लिए सार्वजनिक रूप से राष्ट्रपति मेक्रोन की शुक्रिया अदा करता हूँ।”

प्रवासियों की संख्या में वृद्धि

प्रधानमंत्री कॉन्टे ने कहा कि यूरोप में आने वाले लोगों की संख्या बढ़ रही है। सैकड़ों प्रवासी इस सप्ताह इटली और ग्रीस पहुंचे, कई लीबिया और तुर्की से नाव द्वारा यात्रा कर रहे थे। वे हजारों प्रवासियों में से हैं जो हर साल भूमध्यसागर से होते हुए यूरोप में प्रवेश करने का प्रयास करते हैं।

21 September 2019, 16:37