खोज

Vatican News
पाकिस्तान के ख्रीस्तीय पाकिस्तान के ख्रीस्तीय  (AFP or licensors)

कश्मीरी भाई-बहनों के लिए ख्रीस्तियों की प्रार्थना

लाहौर के ख्रीस्तीय एकतावर्धक वार्ता समिति ने कश्मीरी भाई-बहनों के लिए एक विशेष प्रार्थना सभा का आयोजन किया था जिसमें पाकिस्तान के विभिन्न ख्रीस्तीय समुदायों ने भाग लिया।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

प्रार्थना सभा में काथलिक, एंगलिकन, प्रेस्बिटेरियन और आर्मी ऑफ सालवेशन ख्रीस्तीय समुदायों ने भाग लिया। प्रार्थना के अंत में कश्मीर के पीड़ित भाई-बहनों के लिए शांति की अपील की गयी, जिसको लेकर भारत और पाकिस्तान के बीच अभी भी बहुत अधिक तनाव बना हुआ है।   

अंतरधार्मिक सभा

प्रार्थना सभा में पाकिस्तान के मुस्लिम नेताओं को भी निमंत्रित किया गया था और इसका संचालन पाकिस्तान में ख्रीस्तीय एकता एवं अंतरधार्मिक वार्ता के लिए गठित आयोग के सचिव फादर फ्राँसिस नादिम ओएफएम कैप ने किया।

सभा के प्रतिभागियों ने भारत और पाकिस्तान में नये संकट का समाधान वार्ता द्वारा करने की अपील की।  

सभी धार्मिक नेताओं ने कश्मीर के भाई-बहनों को मानव प्रतिष्ठा, न्याय एवं स्वतंत्रता के आंदोलन में उनका सहयोग करने की प्रतिबद्धता व्यक्त की तथा उन सभी कश्मीरी भाई-बहनों की याद की जिन्होंने पाकिस्तान की आजादी के लिए अपना सहयोग दिया था। सभा ने पाकिस्तान एवं भारत के बीच शांति एवं सौहार्द के लिए प्रार्थना की तथा हार्दिक अपील की कि भारत और पाकिस्तान के बीच राजनीतिक विवाद को बिना हथियारों के, एक वास्तविक और स्थायी शांति की संभावना के साथ, वार्ता द्वारा हल किया जाए।

प्रार्थना सभा के अंत में शांति के प्रतीक स्वरूप सफेद कबूतर को आशा के साथ आकाश में उड़ गया। उन्होंने कहा कि "शांति का यह संदेश भारत-पाक सीमा तक पहुँचेगी और मेल-मिलाप को प्रोत्साहन देगी।"

21 August 2019, 15:49