खोज

Vatican News
दक्षिण सूडान के नेतओं के साथ संत पापा फ्राँसिस दक्षिण सूडान के नेतओं के साथ संत पापा फ्राँसिस 

द. सूडान में शांति हेतु वार्ता की मेजबानी इजीदियो समुदाय द्वारा

दक्षिण सूडान में संघर्ष का समाधान करने के लिए शांति वार्ता की नवीनतम श्रृंखला, रोम में संत इजीदियो समुदाय के तत्वावधान में संपन्न होगी।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

रोम, सोमवार 29 जुलाई 2019 ( वाटिकन न्यूज)  : आठ साल पहले, दक्षिण सूडान दुनिया का सबसे नया देश बना। खार्तूम से अपनी आजादी की घोषणा करने के बाद युवा राष्ट्र की आशाएं बढ़ गई थीं, जिसने दशकों तक उस पर शासन किया था। वे आशाएँ अल्पकालिक थीं। 2013 के बाद से, विनाशकारी गृह युद्ध में लगभग 400,000  लोगों की मौत हुई,करीब 4 मिलियन लोगों को अपने घरों से निकाला गया और 2 मिलियन से अधिक लोगों को भोजन और सुरक्षा की तलाश में पड़ोसी देशों में पलायन करना पड़ा।

शान्ति वार्ता

देश में शांति को पुनर्जीवित करने के लिए कई प्रयास किए गए हैं। सितंबर 2018 में इथियोपिया के अदीस अबाबा में एक शांति समझौते पर हस्ताक्षर करने के बाद, संत पापा फ्राँसिस द्वारा वाटिकन के कासा सांता मार्था में अप्रैल 2018 में आयोजित आध्यात्मिक मनन-प्रार्थना के दौरान परस्पर विरोधी पक्षों के बीच एक निर्णायक क्षण का अनुभव हुआ। इस बैठक ने दक्षिण सूडान की सरकार के नेताओं और विपक्ष के सदस्यों को एक साथ लाया।

संत पापा फ्राँसिस की पहल

संत पापा फ्राँसिस ने देश के नेताओं से उम सामान्य मुद्दों को खोजने का आग्रह किया: "जो उन्हें एकजुट करता है", उन्होंने कहा, "इस तथ्य के साथ शुरुआत करें कि आप एक और एक ही देश के लोगों से संबंधित हैं"। संत पापा ने नेताओं से कहा कि ईश्वर की निगाह उन पर है, जैसा कि उनके लोगों की निगाह उनपर है। उनकी निगाहें, "न्याय, सुलह और शांति के लिए अपनी प्रबल इच्छा को व्यक्त करता है"। लोग, पिछले संघर्षों से थक गए हैं और हताश हो गये हैं। संत पापा ने उन्हें याद दिलाया कि युद्ध विनाश लाती है और युद्ध के साथ सब कुछ खो जाता है।

संत इजीदियो सामुदाय की पहल

संत इजीदियो समुदाय के तत्वावधान में रोम में गत सप्ताह शांति हेतु आगे की वार्ता हुई। एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में बोलते हुए, राष्ट्रीय पूर्व संक्रमणकालीन समिति के उपाध्यक्ष गेब्रियल चांग ने दक्षिण सूडान के भविष्य पर चर्चा और संवाद करने हेतु संत इजीदियो समुदाय को मेजबानी करने के लिए धन्यवाद दिया। उन्होंने रोम की बैठक को "एक महत्वपूर्ण अवसर के रूप में वर्णित किया, जिसने उन्हें विभिन्न राजनीतिक ताकतों के बीच शांति के लिए एक साथ काम करने की अनुमति दी, जो असंभव को संभव बनाता है।"

29 July 2019, 16:51