Cerca

Vatican News
ईस्टर हत्याकांड के बाद प्रार्थना करते लोग ईस्टर हत्याकांड के बाद प्रार्थना करते लोग  (AFP or licensors)

ईस्टर हत्याकांड जांच: दो अधिकारियों को हत्या का आरोप "नहीं"

पुलिस के प्रमुख और पूर्व रक्षा सचिव दोनों ही संसदीय जांच में घिर गए। श्रीलंका में 21 अप्रैल के नरसंहार में 258 लोगों की मौत हुई थी। मजिस्ट्रेट के अनुसार, उन पर "मानवता के खिलाफ गंभीर अपराध" का आरोप लगाने के लिए पर्याप्त सबूत नहीं हैं।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

कोलंबो, बुधवार 10 जुलाई, 2019 (एशिया न्यूज) : श्रीलंका की एक अदालत ने कल राज्य के दो वरिष्ठ अधिकारियों के खिलाफ लगाये गये हत्या के अभियोग के अनुरोध को खारिज कर दिया। ईस्टर हत्याकांड की जांच कर रही संसदीय जांच आयोग के सामने पुलिस प्रमुख पुजिथ जयसुंदरा और पूर्व रक्षा सचिव हेमासिरी फर्नांडो के नाम आए है जिन्होंने उनपर हत्या का अभियोग लगाने का अनुरोध किया था।

2 जुलाई को, पुलिस प्रमुख और पूर्व रक्षा सचिव को उनकी लापरवाही के लिए गिरफ्तार किया गया था। अभियोग पक्ष उन्हें 21 अप्रैल को इस्लामिक आतंकवादियों द्वारा किए गए नरसंहार को रोकने के लिए कुछ भी नहीं करने का दोषी मानता है। उन नरसंहारों में 258 लोगों की मौत और 500 लोगों के घायल हुए थे। फिलहाल दोनों अस्वस्थ्य रहने के कारण अस्पताल में भर्ती हैं और वे अदालत की सुनवाई में शामिल नहीं हुए।

अभियोजकों का दावा

‘दाप्पुला डी लिवेरा’ राज्य अभियोजक  ने अनुरोध किया था कि उन्हें हत्या के लिए दोषी ठहराया जाए, क्योंकि उनका रवैया "मानवता के खिलाफ गंभीर अपराध" था। इसके बजाय कोलंबो के मजिस्ट्रेट जयारत्ने का दावा है कि उन पर इतने गंभीर अपराध का आरोप लगाने के लिए पर्याप्त सबूत नहीं हैं। दो वरिष्ठ अधिकारियों ने अपनी ओर से राष्ट्रपति के कार्यालय को सतर्क करने का दावा किया है, हालाँकि मैथ्रीपाला सिरीसेना ने कभी भी "खतरों को गंभीरता से नहीं लिया।"

कोलंबो के तीन गिरजाघरों और तीन लक्जरी होटलों में हुए नरसंहारों के बाद, यह पता चला कि भारतीय गुप्त सेवाओं ने नरसंहारों के आखिरी दो घंटे पहले अप्रैल में तीन आतंकवाद अलर्ट जारी किए थे। कोलंबो में अधिकारियों द्वारा सभी चेतावनियों को नजरअंदाज कर दिया गया और यहां तक कि राष्ट्रपति सिरीसेना, जो सरकारी निष्क्रियता के लिए जिम्मेदार व्यक्ति माना जाता है, को सक्षम कार्यालयों में भेजी गई सूचनाओं को "अंधेरे में रखने" के लिए स्वीकार करने हेतु मजबूर होना पड़ा।

10 July 2019, 16:19