खोज

Vatican News
बांग्लादेशी प्रवासी बांग्लादेशी प्रवासी  (AFP or licensors)

बांग्लादेश के भूखे जूट श्रमिकों के लिए आशा की किरण

कठोर समय की मार झेल रहे उद्योग के लिए कारितास-समर्थित निजी क्षेत्र के उद्यम के लिए मदद मिल सकती है

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

ढाका, सोमवार 27 मई 2019 (उकान) : बांग्लादेशी मजदूर शाहिदुल इस्लाम ने अपने जीवन के सबसे कठिन वर्षों का सामना कर रहे है वो ढाका में एक जूट मिल में  काम करते हैं और मिल मालिक द्वारा आठ महीने से उसे मजदूरी न मिलने के कारण अपने तीन बच्चों का पेट भरना उसके लिए बहुत कठिन हो गया है।

जूट मजदूर

40 वर्षीय शाहिदुल इस्लाम राजधानी के डेमरा इलाके में स्थित राज्य लतीफ बवानी जूट मिल में एक मजदूर है। उन्हें अपने पिता से नौकरी विरासत में मिली।

इस्लाम ने दो दशकों तक मिल में काम किया है और हाल ही में एक महीने में 9,200 टका (यूएस $ 110) में परिवार का भरण पोषण रहा है। हालांकि, उनकी किस्मत मिल के उन लोगों के साथ रही है, जो पिछली गर्मियों से वित्तीय संकट की चपेट में हैं। सैकड़ों श्रमिकों का दावा है कि उन्हें सितंबर 2018 से कोई वेतन नहीं मिला है।

इस्लाम ने उका न्यूज को बताया, "मुझे अपने परिवार को खिलाना है, किराए का भुगतान करना है, और मेरे दो बच्चों के स्कूल का खर्चा भी देना हैं। मैंने परिवार की जरुरतों के पूरा करने के लिए पैसे उधार लिए हैं, लेकिन अब समय आ गया है और मेरे लेनदार मुझे उदार लौटाने की मांग रहे हैं।

"हम एक दिन में दो भोजन का प्रबंधन भी नहीं कर सकते हैं। यदि यही स्थिति रही तो हम भूखों मरेंगे।"

दुख की बात है कि इस्लाम और उनके सहयोगियों द्वारा महसूस किए गए दर्द और पीड़ा अलग-थलग नहीं हैं। 22 राज्य-स्वामित्व वाली जूट मिलों में 82,000 श्रमिक और अन्य कपड़े और अनाज का उत्पादन करने वाली तीन मिलें भी समान स्थिति में हैं।

भारत के बाद बांग्लादेश दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा जूट उत्पादक है, दोनों देशों से करीब एक दशक से वैश्विक उत्पादन का 90 प्रतिशत जूट का निर्यात होता था।

बांग्लादेश जूट मिल्स कॉर्पोरेशन 

बांग्लादेश जूट मिल्स कॉर्पोरेशन (बीजेएमसी) के अंतर्गत आने वाली सभी मिल्स न केवल मजदूरी का भुगतान बंद कर दिया है, बल्कि 2015 में घोषित संशोधित सरकारी वेतनमान को लागू करने के लिए भी उपेक्षा की है।

अधिकांश सरकारी कार्यालयों और राज्य-संचालित निगमों ने संशोधित सरकारी वेतनमान को लागू किया। अन्य सभी मिल 6 मई से सड़कों और परिवहन अवरुद्ध होने के साथ देशव्यापी हड़ताल पर हैं।

बीजेएमसी के प्रतिनिधियों का तर्क है कि उन्हें वर्षों से भारी नुकसान हो रहा है और सरकार से अधिक वित्तीय सहायता प्राप्त होने तक वे अपने वेतन का भुगतान नहीं कर सकते हैं।

एक क्षेत्रीय समन्वयक अधिकारी सज़ाद शेख ने उका न्यूज को बताया, "उच्च अधिकारियों के साथ बातचीत करने और उच्च अधिकारियों के साथ समझौता करने के लिए बातचीत चल रही है ताकि हम सुनिश्चित कर सकें कि श्रमिकों को भुगतान किया जाए, लेकिन अभी तक कुछ भी अंतिम रूप नहीं दिया गया है।"

"दुनिया बदल गई है, इसलिए आपको इसके साथ बदलने की आवश्यकता है, जीवित रहने के लिए, हमें न केवल सुधार करना होगा, बल्कि उत्कृष्टता प्राप्त करनी होगी।" द जूट वर्क्स (सीजेडब्ल्यू) के उप निदेशक आनंद प्लासीड गोम्स ने कहा।

कारितास बांग्लादेश

सीजेडब्ल्यू देश का प्रमुख निष्पक्ष व्यापार निर्माता और जूट उत्पादों का निर्यातक है। इसे काथलिक कलीसिया के चारिटी विभाग, कारितास बांग्लादेश का समर्थन प्राप्त है।

सीजेडब्ल्यू अपने सभी जूट बीजेएमसी से लेता था, लेकिन अब यह निजी मिलों पर अधिक निर्भर करता है। गोम्स ने कहा कि उच्च मूल्य, खराब गुणवत्ता और देर से डिलीवरी के कारण उनसे माल लेना बंद कर दिया।

कठोर समय की मार झेल रहे उद्योग के लिए कारितास-समर्थित निजी क्षेत्र के उद्यम के लिए मदद मिल सकती है: राज्य में चलने वाले मिल मजदूर शाहिदुल इस्लाम को उम्मीद है कि उद्योग के जल्द ही बुरे दिन खत्म हो जाएंगे।

27 May 2019, 17:40