Cerca

Vatican News
कारितास यूरोप के महासचिव कारितास यूरोप के महासचिव 

परिवारों की मदद हेतु कारितास यूरोप की अपील

15 मई को अंतरराष्ट्रीय परिवार दिवस मनाया जाता है। कारितास यूरोप ने इस महीने यूरोपीय संसद में चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों से पारिवारिक मूल्यों और उनके हितों की रक्षा करने का आग्रह किया है।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, बृहस्पतिवार, 16 मई 2019 (वाटिकन न्यूज)˸ संयुक्त राष्ट्र अमरीका ने बुधवार को अंतरराष्ट्रीय परिवार दिवस मनाया। इस अवसर पर कारितास यूरोप ने यूरोपीय संसद के भावी उम्मीदवारों से आग्रह किया है कि वे परिवारों के मूल्यों की रक्षा करें एवं उनके कल्याण पर ध्यान दें।

15 मई को अंतरराष्ट्रीय परिवार दिवस पर कारितास यूरोप ने एक वक्तव्य जारी कर कहा, "समावेशी श्रम बाजार और पर्याप्त सामाजिक सुरक्षा तंत्र के साथ परिवार किसी भी निष्पक्ष समाज का मूल आधार और एक आवश्यक स्तंभ है।"

कारितास यूरोप जो कारितास अंतरराष्ट्रीय (160 देशों के विश्व काथलिक कारितास संघ) का सदस्य है यूरोपीय संघ एवं उसके सदस्यों से अपील की है कि वह परिवार के अनुकूल नीतियां बनाएं जो सबके हित में हो। उसका कहना है कि भावी यूरोप के लिए यह आवश्यक है।  

परमधर्मपीठ द्वारा परिवार को समर्थन एवं रक्षा

46 यूरोपीय देशों की 49 राष्ट्रीय कारितास ईकाइयों के नेटवर्क ने कहा है कि यह अनिवार्य है कि यूरोप के नेता सामाजिक अधिकारों के यूरोपीय स्तंभ के लिए प्रतिबद्ध हों तथा परिवारों की रक्षा सुनिश्चित करें।  

यूरोपीय संसद (ईपी) जिसमें हर पाँच वर्षों में चुनाव किया जाता है, इस वर्ष 23 से 26 मई के बीच चुनाव किया जाएगा। सभी 28 सदस्य देशों में सांसदों की निश्चित संख्या निर्धारित है।  

गरीबी एवं समाज से बहिष्कृत

कारितास यूरोप ने इस बात पर गौर किया है कि घर, शिक्षा, स्वास्थ्य एवं अच्छी नौकरी के मद्देनजर परिवारों को गरीबी एवं सामाजिक बहिष्कार का सामना करना पड़ रहा है। वे अपने बच्चों के लिए बेहतर भविष्य सुनिश्चित करने में कठिनाई महसूस कर रहे हैं।  

उन्होंने जोर दिया है कि परिवार पर ध्यान देना समाज पर ध्यान देना है। यह आवश्यक नीतियों की मांग कर रही है जो यूरोप में जारी जनसांख्यिकीय गिरावट को रोक सके तथा गरीबी एवं असमानता का सामना कर सके।

कारितास यूरोप ने भावी सांसदों को सलाह दी है कि वे सबसे वंचित परिवारों के जीवन स्तर को ऊपर उठाने का प्रयास करें। विगत संसद की उपलब्धियों को आगे ले चलें, खासकर, बाल गरीबी दूर करने और जीवन संतुलन के निर्देशन में। इस तरह वे यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि कोई भी पीछे न छूटे तथा सभी बच्चे बेहतर भविष्य प्राप्त कर सकें।

16 May 2019, 16:11