खोज

Vatican News
पेरु जा रहे वेनेजुएला के लोग पेरु जा रहे वेनेजुएला के लोग   (AFP or licensors)

यूनिसेफ: वेनेजुएला के प्रवासियों की सहायता हेतु धन की आवश्यकता

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (यूनिसेफ) का कहना है कि वेनेजुएला में संकट से भाग रहे लोगों की सहायता के लिए 29 मिलियन डॉलर तक जुटाने की जरूरत है।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वेनेजुएला, मंगलवार 30 अप्रैल 2019 (वाटिकन न्यूज) : जैसा कि वेनेजुएला में राजनीतिक और मानवीय संकट जारी है, अधिक से अधिक वेनेजुएला अपने घरों से भाग रहे हैं और बेहतर जीवन की तलाश में अन्य पड़ोसी देशों की यात्रा कर रहे हैं। संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (यूनिसेफ) ने एक बयान जारी किया है जिसमें वेनेजुएला की समस्याओं का विवरण दिया गया है साथ ही पड़ोसी देशों, विशेष रूप से कोलंबिया की प्रतिक्रिया की भी प्रशंसा की गई है।

वेनेजुएला का संकट 2010 में तेल की कीमतों में गिरावट से शुरु हुआ। इसने देश की अर्थव्यवस्था को गंभीर नुकसान पहुंचाया। देश में आर्थिक समस्याओं के कारण भोजन और दवाओं की भारी कमी हो गई है।

3.7 मिलियन लोग वेनेजुएला से बाहर

यूनिसेफ के बयान के अनुसार, 3.7 मिलियन वेनेजुएलावासी अन्य देश जैसे कोलंबिया, इक्वाडोर और पेरू भाग गए हैं। लगभग 1.2 मिलियन कोलंबिया में हैं। सीमावर्ती शहर कुकुता में 10,000 वेनेजुएला के बच्चे रहते हैं और उनमें से 3,000 बच्चों के लिए स्कूल में जगह उपलब्ध है। लेकिन बिना मदद के, कोलंबिया में लगभग 370,000 बाल प्रवासियों को विशेष रूप से स्वास्थ्य सेवा के क्षेत्र में, गंभीर खतरे हो सकते हैं। यूनिसेफ का अनुमान है कि कोलंबिया में पहुंचे उन सभी प्रवासियों की पूरी तरह से मदद के लिए 29 मिलियन डॉलर जुटाने की जरूरत है अब तक केवल 5.7 मिलियन डॉलर की राशि जुटाई गई है।

कोलम्बियावासियों की उदारता

यूनिसेफ ने बयान में कहा, "ऐसे समय में जब दुनिया भर में प्रवासी विरोधी भावना बढ़ रही है, कोलंबिया ने उदारतापूर्वक अपने दरवाजे अपने पड़ोसियों के लिए खुले रखे हैं। आर्थिक समस्या के कारण बहुत से परिवार हर दिन वेनेजुएला में अपने घरों को छोड़ने के लिए दर्दनाक निर्णय लेते हैं, तो ऐसे समय में अंतरराष्ट्रीय समुदाय को उनकी बुनियादी जरूरतों को पूरा करने में मदद करने के लिए अपना समर्थन बढ़ाने की जरुरत है। अंतरराष्ट्रीय समुदाय कोलम्बियावासियों की उदारता को कम नहीं होने दे सकते।"

यूनिसेफ ने पहले ही क्षेत्र के पीड़ित बच्चों के लिए मोबाइल स्वास्थ्य क्लीनिक, जल स्वच्छता सुविधाएं और मनोवैज्ञानिक सहायता प्रदान की है।

30 April 2019, 17:11