खोज

Vatican News
इन्डोनेशिया सुन्डा क्षेत्र के लोग इन्डोनेशिया सुन्डा क्षेत्र के लोग  (ANSA)

सुनामी पीड़ितों तक सहायता एजेंसियों की पहुंच

शनिवार को इंडोनेशिया के तट पर आये सुनामी से कम से कम 430 लोगों की मौत हो गई। सहायता एजेंसियां और स्वयंसेवक जीवित बचे लोगों की सहायता करने पहुंचने लगे हैं।

जावा, बुधवार 26 दिसम्बर 2018 (वाटिकन न्यूज) : इंडोनेशिया के तट पर आये सुनामी से पश्चिमी जावा के एक कस्बे में दर्जनों लकड़ी के घर ढ़ह गए हैं। मजदूर मलबे को स्थानांतरित करने के लिए खोदने वाले यंत्र का उपयोग कर रहे हैं ताकि मदद हेतु वाहनों को प्रवेश करने का स्थान मिल सके।

अधिकारियों ने कहा कि सड़कों और पुल के टूटने के कारण कई गांवों में संपर्क नहीं हो पा रहा है।

इंडोनेशियाई टेलीविजन ने निवासियों को ढ़ह गए घरों के अवशेषों पर चढ़ते हुए दिखाया। एक होटल के प्रबंधक ने कहा कि सिर्फ उस स्थल पर 100 से अधिक लोग मारे गए।

राष्ट्रीय बचाव एजेंसी ने कहा कि कई लोग लापता हैं। खोज दल दो क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित कर रही है, जिसमें एक क्षेत्र क्रिसमस पर इंडोनेशियाई लोगों का लोकप्रिय जिला समुद्र तट है।

इस बीच, देश की आपदा एजेंसी ने कहा कि लगभग 16,000 लोग विस्थापित हुए हैं। बहुत से लोग सड़कों पर ही रात बिता रहे हैं जनमें आधी संख्या बच्चों और किशोरों की है।

प्रभावित क्षेत्रों में स्वयंसेवी समूह पहुँच गई है। वे अस्थायी आश्रयों में भोजन पकाने के लिए रसोई बनाना शुरु कर दिये हैं।

चीन मदद करने वाले देशों में से एक है। बीजिंग में विदेश मंत्रालय ने कहा कि वह रेड क्रॉस जैसी सहायता एजेंसियों के माध्यम से धन वितरित करेगा।

रेड क्रॉस के एक अधिकारी ने कहा कि बीमारी को फैलने से रोकने के लिए एजेंसी 22 जल ट्रक भेज रही है। अधिकारी ने कहा कि स्वच्छ जल की आवश्यकता 14 साल पहले हिंद महासागर में आये सुनामी के बाद सीखा गया एक सबक था, जिसमें अनुमानित ढाई लाख लोगों की मौत हुई थी।

26 December 2018, 15:14