बेटा संस्करण

Cerca

Vatican News
लापता पत्रकार जमाल की खोज में प्रदर्शन लापता पत्रकार जमाल की खोज में प्रदर्शन  (AFP or licensors)

तुर्की को चाहिए सऊदी संवाददाता के रहस्यमय लापता का जवाब

तुर्की के राष्ट्रपति ने मांग की है कि सऊदी अरब इस सबूत की पेशकश करे कि एक प्रमुख निर्वासित आलोचक अभी भी जीवित है। इस बात का दावा किया गया कि इस्तांबुल के सऊदी वाणिज्य दूतावास में उनकी हत्या कर दी गई थी।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

तुर्की की सरकार का मानना है कि दूतावास में ही जमाल की हत्या कर दी गई है। लेकिन सऊदी सरकार इन आरोपों को ख़ारिज करते हुए कहा है कि जमाल दूतावास में अपना काम करने के बाद बाहर चले गए थे।

इस्तांबुल के सऊदी वाणिज्य दूतावास 

सऊदी अरब के मशहूर पत्रकार जमाल ख़ाशोज्जी दो अक्टूबर को अपनी शादी से जुड़े दस्तावेज़ लेने के लिए तुर्की के इस्तांबुल में अपने देश के वाणिज्यिक दूतावास गए थे, लेकिन वो अब तक वापस नहीं लौटे। वो तलाक़ लेकर तुर्की की ही एक महिला से शादी करना चाहते थे। उनकी मंगेतर हदीजे जेनगीज़ ने कहा कि वो दूतावास के बाहर खड़ी घंटों जमाल के वापस आने का इंतज़ार करती रहीं, लेकिन वो बाहर नहीं आए।

इस घटना ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प को स्थिति के बारे में चिंता व्यक्त करने के लिए प्रेरित किया। इस बीच, अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पेओ ने सऊदी अरब से गायब होने की पूरी तरह से पारदर्शी जांच का समर्थन करने के लिए कहा है। पोम्पेओ ने कहा, "हमने सऊदी पत्रकार और वाशिंगटन पोस्ट के योगदानकर्ता जमाल खशोज्जी की सुरक्षा और ठिकाने पर विवादित रिपोर्ट देखी हैं।"

अमरीका पलायन

एक वक़्त जमाल सऊदी के शाही परिवार के सलाहकार हुआ करते थे। लेकिन धीरे-धीरे वो सऊदी सरकार के प्रखर आलोचक बन गए और 2017 में सऊदी अरब छोड़कर अमरीका चले गए। यहां सिंतबर में उन्होंने वॉशिंगटन पोस्ट अख़बार के लिए लिखना शुरू किया। अपने पहले ही लेख में उन्होंने कहा कि मुझे और कई दूसरे लोगों को गिरफ़्तारी के डर से देश छोड़ने पर मजबूर होना पड़ा।

उन्होंने दावा किया है कि क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान से असहमति जताने वालों पर कार्रवाइयां हुईं और दर्जनों लोगों को हिरासत में लिया गया। हालांकि क्राउन प्रिंस देश में आर्थिक और सामाजिक सुधार लाने की कोशिशें करने का दावा करते रहे हैं।

10 October 2018, 16:45