बेटा संस्करण

Cerca

Vatican News
बाग्लादेश में छात्रों का प्रदर्शन बाग्लादेश में छात्रों का प्रदर्शन  (ANSA)

छात्रों के प्रदर्शन उपरान्त सड़क सुरक्षा कानून की मंजूरी

दो छात्रों की मौत के बाद ढाका में नौ दिन से छात्रों का प्रदर्शन जारी। प्रदर्शनकारियों ने सड़क सुरक्षा एवं बस सेवा बेहतर करने की मांग की। जुलूस को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने आंसू गैस और लाठी चार्ज किये। आखिर सरकार को नए सड़क सुरक्षा कानून को मंजूरी देनी पड़ी।

माग्रोट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

ढाका, बुधवार 8 अगस्त 2018 (एशियान्यूज) : बांग्लादेश की राजधानी में पिछले हफ्ते दो बसों की होड़ में एक नाबालिग लड़के और लड़की की मौत के बाद देशभर में हजारों छात्रों ने सड़कों पर सुरक्षित सफर की मांग करते हुए शांतिपूर्ण प्रदर्शन किये। इस प्रदर्शन के विरोध में कई बस संचालक अघोषित हड़ताल पर चले गए थे।

ढाका विश्वविद्यालय के छात्रों द्वारा सड़क सुरक्षा और छात्रों पर हमले के विरोध में निकाले गए जुलूस को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े, पानी की बौछार की और लाठी चार्ज किया। प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच हिंसक संघर्ष जारी है जिससे जनजीवन प्रभावित हुआ है।

सड़क सुरक्षा एवं बस सेवा बेहतर करने की मांग

इन लोगों की मांग है कि सड़क सुरक्षा को बेहतर बनाया जाए। प्रदर्शनकारियों ने ट्रांसपोर्ट कानून में भी बदलाव की मांग की है। बांग्लादेश में सड़कें ही नहीं यहां की सार्वजनिक परिवहन व्यवस्था भी विवाद का विषय है, खासकर यहां की बस सेवा बांग्लादेश प्राइवेट बस ऑपरेटरों की दया पर निर्भर हैं जिनके परिचालन के लिए कोई नियम नहीं है। यदि बस ड्राइवर की लापरवाही से किसी की जान जाती है और लोग इसके खिलाफ आवाज उठाते हैं तो फिर बस ऑपरेटर ही हड़ताल पर चले जाते हैं। सरकार न तो कभी इसमें हस्तक्षेप करती है और न ही संबंधित नियमों को मजबूत करने की कोशिश करती है।

 नए सड़क सुरक्षा कानून को मंजूरी

बांग्लादेश की 'आवामी लीग सरकार' ने एक हफ्ते से चल रहे छात्रों के प्रदर्शन को रोकने के लिए कई प्रयास किए लेकिन यह आंदोलन अब भी जारी है।  इसकी वजह से सरकार को सोमवार को सभी हाईस्कूल बंद करने पड़े। प्रदर्शनकारी छात्रों के गुस्से को शांत करने की कोशिश में बांग्लादेश सरकार ने जानबूझकर सड़क हादसा कर जान लेने वालों के लिए मौत की सजा पर विचार करने का वादा किया और नए सड़क सुरक्षा कानून को मंजूरी दी है। प्रधानमंत्री हसीना ने कल प्रदर्शनकारी छात्रों से अपने घरों को लौटने की अपील की थी और कहा था कि कुछ लोग उनके अभियान में घुस कर स्थिति का फायदा उठाने की कोशिश कर रहे हैं।

08 August 2018, 17:15