खोज

हिरोशिमा हिरोशिमा   (AFP or licensors)

कार्डिनल परोलिन ˸ परमाणु हथियार मानव अस्तित्व खतरे में डालता है

वाटिकन राज्य सचिव कार्डिनल पीयेत्रो परोलिन ने परमाणु हथियारों को खत्म करने की नैतिक अनिवार्यता पर जोर दिया है तथा सभी पक्षों का आह्वान किया है कि परमाणु खतरे का जवाब सामूहिक और ठोस प्रतिक्रिया के साथ दिया जाए।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

कार्डिनल परोलिन ने परमाणु हथियारों के पूर्ण उन्मूलन के लिए अंतर्राष्ट्रीय दिवस पर संत पापा फ्राँसिस के शब्दों का हवाला देते हुए कहा, "जब तक परमाणु हथियार मौजूद हैं, हम उनके उपयोग की संभावना से इंकार नहीं कर सकते हैं, जो 'हमारे आमघर के लिए किसी भी संभावित भविष्य' के साथ-साथ मानव जाति के अस्तित्व के लिए भी खतरा है।"

वर्तमान परिदृश्य, जिसमें यूक्रेन में संघर्ष ने बड़े पैमाने पर युद्ध को यूरोप में वापस लाया और "परमाणु हथियारों के उपयोग के प्रतिकूल खतरे" को शुरू किया है, उसपर अपने भाषण को आधारित करते हुए वाटिकन के राज्य सचिव ने कहा, "यह दर्शाता है कि दुनिया परमाणु युद्ध के गर्त की कितनी करीब हो गई है।

विनाशकारी परिणामों के साथ मंडरा रहा खतरा

कार्डिनल परोलिन अंतरराष्ट्रीय दिवस के उपलक्ष्य में, संयुक्त राष्ट्र की एक उच्च स्तरीय सभा को सम्बोधित कर रहे थे, जहाँ उन्होंने "आनेवाले खतरे" और सभी मानवता के लिए इसके विनाशकारी प्रभावों को "कीमती और खतरनाक दायित्व के रूप में वर्णित किया, जो अंतर्राष्ट्रीय सुरक्षा को कमजोर करता है।"

उन्होंने संत पापा फ्राँसिस के परमाणु हथियार के पूर्ण उन्मूलन के आह्वान की याद की जो एक चुनौती है और एक नैतिक एवं मानवीय अनिवार्यता भी है।

कार्डिनल पारोलिन ने परमाणु हथियारों के अप्रसार (एनपीटी) पर संधि के पक्षधरों के अगस्त दसवें समीक्षा सम्मेलन को याद किया, इस तथ्य की निंदा करते हुए कि "परमाणु-हथियार वाले राज्यों (...) की कार्रवाई हमें इस लक्ष्य को प्राप्त करने से बहुत दूर छोड़ देती हैं।"

परमाणु शस्त्रागार के आधुनिकीकरण एवं विस्तार

उन्होंने कहा, "परमाणु शस्त्रागार के आधुनिकीकरण एवं विस्तार द्वारा ये देश एनपीटी के अनुच्छेद VI के तहत अपने निरस्त्रीकरण दायित्वों को पूरा करने के बजाय परमाणु प्रतिरोध पर अपनी निर्भरता बढ़ा रहे हैं।”

कार्डिनल ने उम्मीद जताते हुए स्वीकार किया कि परमाणु निरस्त्रीकरण व्यवस्था में दिशा की कमी नहीं है।

वे संधि के राज्यों द्वारा जून की घोषणा का उल्लेख कर रहे थे ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि परमाणु निरस्त्रीकरण पर प्रगति की जा सकती है, विशेष रूप से सत्यापन, पीड़ितों की सहायता और पर्यावरण उपचार के क्षेत्रों में।

"परमधर्मपीठ ने अपनी आशा व्यक्त की कि टीपीएनडब्ल्यू पर उनकी स्थिति चाहे जो भी हो, परमाणु हथियारों वाले राज्य ऐसे प्रयासों में योगदान देंगे।"

इस प्रकार, कार्डिनल पारोलिन ने राज्यों से व्यापक परमाणु-परीक्षण-प्रतिबंध संधि (सीटीबीटी) को लागू करने और "विखंडन सामग्री पर संधियों और नकारात्मक सुरक्षा आश्वासनों पर" वार्ता शुरू करने के लिए काम करने का आग्रह किया।

सहयोगात्मक कदम की आवश्यकता

हिरोशिमा में शांति स्मारक पर पोप के 2019 के भाषण का हवाला देते हुए, उन्होंने कहा कि "परमाणु हथियारों के पूर्ण उन्मूलन को प्राप्त करने के लिए सामूहिक और ठोस प्रतिक्रिया की आवश्यकता है, जो आपसी विश्वास पर आधारित है और परमाणु उपयोग के विनाशकारी मानवीय और पर्यावरणीय परिणामों पर विचार करती है।"

उन्होंने हमारे अस्तित्व के लिए भयानक खतरे की चिंता व्यक्त करते हुए, सार्वजनिक कार्रवाई की अपील की।

"आइए, हम प्रत्येक अपनी जाँच करें कि हम अपने साझा उद्देश्य तक पहुँचने के लिए अनुकूल वातावरण बनाने में कैसे मदद कर सकते हैं।"

Thank you for reading our article. You can keep up-to-date by subscribing to our daily newsletter. Just click here

27 September 2022, 17:25