खोज

Vatican News
तुनिसिया जारदजिस बंदरगाह में मछुआरे तुनिसिया जारदजिस बंदरगाह में मछुआरे 

वाटिकन ने मछुआरों के अधिकारों के उल्लंघन को रोकने का किया आह्वान

समग्र मानव विकास हेतु गठित विभाग के प्रीफेक्ट कार्डिनल पीटर टर्कसन ने विश्व मत्स्य दिवस के लिए एक संदेश जारी किया, जो रविवार, 21 नवंबर को मनाया जाएगा।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शनिवार 20 नवम्बर 2021 (वाटिकन न्यूज) : समुद्र में काम कर रहे मछुआरों की स्थिति दयनीय है। अभी भी बहुत सारे मानवाधिकार उल्लंघन हो रहे हैं, यह देखते हुए काथलिक कलीसिया अंतरराष्ट्रीय संगठनों, सरकारों, नागर समाजों, आपूर्ति श्रृंखला के विभिन्न लोगों और गैर सरकारी संगठनों से एक साथ मिलकर इसे रोकने का आह्वान कर रही है।

समग्र मानव विकास हेतु गठित विभाग के प्रीफेक्ट कार्डिनल पीटर टर्कसन ने कहा कि काथलिक कलीसिया के सुसमाचार और मजिस्टेरियम की शिक्षा को ध्यान में रखते हुए परमधर्मपीठ ने हमेशा उन अधिकारों के सम्मान की वकालत की है जो देश के सामाजिक और आर्थिक विकास के लिए प्रारंभिक शर्त के रूप में आगे बढ़ते हैं।

उन्होंने रविवार, 21 नवंबर को मनाए जाने वाले विश्व मत्स्य दिवस के मद्देनजर एक बयान में कहा कि विश्व मत्स्य दिवस समारोह एक महत्वपूर्ण अनुस्मारक के रूप में कार्य करता है। हमें स्थायी स्टॉक सुनिश्चित करने के लिए वैश्विक मत्स्य पालन के तरीके को बदलने और स्वस्थ पारिस्थितिकी तंत्र पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए, साथ ही मछुआरों के मानवाधिकारों की रक्षा करना चाहिए।

कार्डिनल टर्कसन ने उल्लेख किया कि विश्व मत्स्य दिवस 1998 में पहली बार मछुआरा समुदायों द्वारा मनाया गया था, जो मत्स्य पालन क्षेत्र में रहने वाले मछुआरों की जीवन शैली को उजागर करना चाहते थे। यह क्षेत्र सबसे अधिक संख्या में श्रमिकों को रोजगार देता है जो दुनिया भर में सबसे अधिक कारोबार वाली खाद्य वस्तुओं में से एक ‘मछली’ का उत्पादन करते हैं।

जहाज पर जीवन की चुनौतियाँ

इस विश्व मत्स्य दिवस के दौरान, कार्डिनल टर्कसन ने कहा कि कलीसिया हमारा ध्यान औद्योगिक / वाणिज्यिक मछली पकड़ने के क्षेत्र पर केंद्रित करना चाहती है, जो पहले से ही बहुत लंबे समय से समुद्र में मानवाधिकारों के उल्लंघन से संबंधित परेशानियों और चुनौतियों के जाल में उलझा हुआ है, कोविड-19 महामारी के कारण परेशानियाँ और बढ़ गई। महामारी ने मछुआरों और उनके परिवारों के लिए जीवन को और अधिक समस्याग्रस्त बना दिया।

कार्डिनल टर्कसन ने अंतरराष्ट्रीय संगठनों द्वारा काम करने की स्थिति, समुद्र में सुरक्षा और अवैध, गैर-रिपोर्टेड और अनियमित (आईयूयू) मछली पकड़ने के संबंध में विभिन्न सम्मेलनों और समझौतों को लागू करने के लिए किए गए निरंतर प्रयासों को स्वीकार किया।

उन्होंने अफसोस जताया कि जब मछली पकड़ने वाला जहाज एक बार बंदरगाह को छोड़ देता है, तो मछुआरे उन परिस्थितियों के बंधक बन जाते हैं, जिन्हें जमीन से मीलों दूर होने के कारण निगरानी करना बेहद मुश्किल होता है। चालक दल नियमित रूप से तट पर नहीं आ सकता क्योंकि मछली पकड़ने वाला जहाज महीनों तक कभी कभी सालों तक मछली पकड़ने के क्षेत्र को नहीं छोड़ता है।

प्रति वर्ष 24,000 मौतें

मछुआरों को कप्तान और अधिकारियों द्वारा धमकियों और डांट का सामना करना पड़ता है। उन्हें किसी भी तरह के मौसम में अधिक से अधिक मछली पकड़ने के लिए दिन-रात अंतहीन पारियों में काम करने के लिए मजबूर किया जाता है, ऐसी स्थितियाँ थकान और व्यावसायिक दुर्घटनाओं का कारण बनती हैं।

कार्डिनल टर्कसन ने उल्लेख किया कि दुनिया के औद्योगिक मछली पकड़ने के जहाज की औसत आयु 20 वर्ष से अधिक पुरानी है। मछली पकड़ने के उद्योग में एक साल में 24,000 से अधिक मौतें दर्ज की जाती हैं। मृतक के परिवारों और रिश्तेदारों को बहुत कम या कोई मुआवजा नहीं दिया जाता है, जिनके शरीर जल्दी से समुद्र में दफन हो जाते हैं।

कार्डिनल टर्कसन ने मछुआरों की सुरक्षा पर चिंता व्यक्त की, जिनकी दुनिया के औद्योगिक मछली पकड़ने के जहाज में औसत आयु 20 वर्ष से अधिक है। जहाज की स्थितियां अमानवीय हैं, रसोई और खाने की जगह गंदी रहती है, पानी की टंकियों और पाइप में जंग लग गया है, पीने का पानी प्रतिबंधित है और खराब और अपर्याप्त भोजन गुणवत्ता है।

कार्डिनल तुर्कसन ने अन्य खतरों को गिनाते हुए कहा कि राष्ट्रीय जल में अवैध शिकार के कारण, कभी-कभी सशस्त्र संघर्ष होते हैं, जहाज को जब्त कर लिया जाता है और उसके चालक दल को गिरफ्तार कर लिया जाता है। मालिक उन्हें बिना किसी मजदूरी और प्रत्यावर्तन की कोई उम्मीद के विदेश में छोड़ देता है। कभी-कभी, मछुआरों को भी ओवरटाइम का भुगतान नहीं किया जाता है, एजेंट अनुबंध के अंत तक वेतन का एक हिस्सा रखता है। बेईमान मछली पकड़ने वाले जहाज के मालिक भी अवैध, गैर-सूचित और अनियमित मछली पकड़ने, अंतरराष्ट्रीय आपराधिक गतिविधियों, जैसे व्यक्तियों की तस्करी और दासता, साथ ही ड्रग्स और हथियारों की तस्करी में संलग्न हैं।

कलीसिया का प्रयास

कार्डिनल टर्कसन ने कहा कि परमधर्मपीठ मछुआरों के मानवाधिकारों के उल्लंघन की निंदा करता है और मछली पकड़ने के उद्योग को मानव के हितों के केंद्र में रखने और श्रम अधिकारों का सम्मान करने का आह्वान करता है।

उन्होंने अपने संदेश में संत पापा फ्राँसिस के विश्वपत्र फ्रातेल्ली तुत्ती का हवाला दिया, "हम दुख के प्रति उदासीन नहीं हो सकते; हम किसी को भी बहिष्कृत के रूप में जीवन से गुजरने की अनुमति नहीं दे सकते। इसके बजाय, हमें अपने आरामदायक अलगाव से उभरने और मानवीय पीड़ा को अनुभव करने और उनके संपर्क में आने की चुनौती महसूस करनी चाहिए।”

इस प्रकार उन्होंने काथलिक कलीसिया के स्टेला मारिस बंदरगाह की प्रेरिताई में संलग्न पुरोहितों और स्वयंसेवकों से मछुआरों का स्वागत करने और उनके चेहरों पर पीड़ित येसु मसीह के चेहरे को देखने और उन्हें आध्यात्मिक और भौतिक सहायता प्रदान करने के लिए अपने उदार मिशन को जारी रखने का आग्रह किया।

 

 

20 November 2021, 15:26