खोज

Vatican News
अमेरिका में प्रवेश करने का इन्तजार करते मेक्सिको के प्रवासी महिलाएँ और बच्चे अमेरिका में प्रवेश करने का इन्तजार करते मेक्सिको के प्रवासी महिलाएँ और बच्चे 

प्रवासियों की तस्करी से लड़ने हेतु कार्रवाई की मांग, परमधर्मपीठ

परमधर्मपीठ ने ड्रग्स और अपराध पर संयुक्त राष्ट्र कार्यालय द्वारा आयोजित प्रवासियों की तस्करी पर एक कार्य समूह की बैठक भाग लिया।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शनिवार 16 अक्टूबर 2021 (वाटिकन न्यूज) :  परमधर्मपीठ ने "ब्लॉकचेन मंच के माध्यम से अनियंत्रित भुगतान और प्रवासियों की तस्करी में क्रिप्टोकरेंसी के अनियंत्रित उपयोग की खतरनाक भूमिका" पर चिंता व्यक्त की है। गुरुवार को ऑस्ट्रिया के विएना में संयुक्त राष्ट्र और विशिष्ट संस्थानों में परमधर्मपीठ के स्थायी पर्यवेक्षक, मॉनसिन्योर जानूस उर्बानज़िक की ओर से यूरी टाइखोवलिस ने यह बयान दिया। वे 14-15 अक्टूबर को वियना स्थित ड्रग्स और अपराध पर संयुक्त राष्ट्र कार्यालय (यूएनओडीसी) द्वारा आयोजित "प्रवासियों की तस्करी पर कार्यशाला" में बोल रहे थे।

क्रिप्टोकरेंसी की संदिग्ध दुनिया

टाइखोवलिस ने कहा, "हाल के वर्षों में पारदर्शिता से बचने के लिए नकद भुगतान का उपयोग डिजिटल भुगतान और क्रिप्टोकरेंसी की और भी कम पारदर्शी दुनिया में स्थानांतरित हो गया है।" उन्होंने बताया कि कुछ ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म अपने प्रेषकों और प्रेषण के लाभार्थियों को स्वयं की पहचान करने के लिए बाध्य करते हैं, कुछ क्रिप्टोकरेंसी प्लेटफ़ॉर्म और वर्चुअल असेट सेवा प्रदाता अपने ग्राहकों से पहचान का अनुरोध नहीं करते हैं। परमधर्मपीठ के अधिकारी ने कहा कि यह केवल मनी लॉन्ड्रिंग और इसी तरह के अपराधों के अवसरों को बढ़ाता है।

प्रवासियों का शोषण

एक उदाहरण के रूप में, उन्होंने बाल्कन रूट का हवाला दिया जहां कई प्रवासी इंटरनेट पर तस्करों के वादों को स्वीकार करते हैं और अक्सर आपराधिक तस्करी की जंजीरों के शिकार हो जाते हैं। उन्होंने कहा, "सोशल मीडिया नेटवर्क और तथाकथित 'सरफेस' और 'डार्क' वेब," "सूचना संचार प्रौद्योगिकी (आईसीटी) उपकरण व्यापक रूप से प्रवासियों की तस्करी में भर्ती और परिवहन की सुविधा के लिए उपयोग किए जाते हैं, जिसमें बाल्कन रूट भी शामिल है। अन्य यूरोपीय देश उनके बाद के शोषण के लिए आगे हैं।"

उपकरण और क्रियाएं

टाइखोवलिस ने बताया कि जहां प्रौद्योगिकी का उपयोग बुराई के लिए किया जा सकता है, वहीं कई तकनीकी उपकरण भी हैं, जो कानून प्रवर्तन अधिकारियों, नागरिक समाज के नेताओं और विश्वास-आधारित संगठनों द्वारा विकसित किए गए हैं, जो लोगों को तस्करी के जोखिमों के बारे में अवगत कराते हैं। ऐसे संभावित मामलों की रिपोर्ट करने के लिए साधन उपलब्ध कराना चाहए।

परमधर्मपीठ के अनुसार, सुरक्षित तकनीकी समाधानों के विकास को बढ़ावा देने के लिए राज्य और गैर-राज्य नेताओं को उचित कार्रवाई करनी चाहिए। पारदर्शिता बढ़ाने और इन सेवाओं के भीतर अवैध कार्यों का मुकाबला करने के लिए आभासी संपत्ति की पहचान के लिए तंत्र पेश किया जाना चाहिए। टाइखोवलिस ने कहा कि प्रवासी तस्करी को रोकने और प्रवास को अधिक सुरक्षित, व्यवस्थित और नियमित बनाने के लिए तस्करी और पहल पर रोकथाम अभियानों को बढ़ावा दिया जाना चाहिए।

अपने जोखिमों के बारे में जागरूकता बढ़ाने और आभासी संपत्तियों के सही उपयोग में उपयोगकर्ताओं और लाभार्थियों को शिक्षित करने के लिए, परमधर्मपीठ के अधिकारी ने राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर जागरूकता अभियानों और विशिष्ट प्रशिक्षण कार्यक्रमों को बढ़ावा देने का आह्वान किया, ताकि तस्करी की रोकथाम और प्रवासी, विशेष रूप से जरूरतमंदों के संरक्षण में योगदान दिया जा सके।

16 October 2021, 15:39