खोज

Vatican News
ख्रीस्तीय की मृत्य अन्त नहीं, प्रतीकात्मक तस्वीरः मार्च 2021 ख्रीस्तीय की मृत्य अन्त नहीं, प्रतीकात्मक तस्वीरः मार्च 2021  (© Simon Lehmann - PhotoGranary)

मान्यवर क्रोची के अन्तयेष्टि याग में कार्डिनल फिलोनी

वाटिकन राज्य सच्चिवालय में लगभग तीस वर्षों तक सेवा दे चुके मान्यवर धर्माध्यक्ष फ्राँको क्रोची की अन्तयेष्टि पर गुरुवार को सन्त पेत्रुस महागिरजाघर में कार्डिनल फरदीनानदो फिलोनी ने ख्रीस्तयाग अर्पित कर प्रवचन किया तथा दिवंगत आत्मा के समर्पित कार्यों की याद कर उनके प्रति भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की।

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफर-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शुक्रवार, 30 जुलाई 2021 (रेई,वाटिकन रेडियो): वाटिकन राज्य सच्चिवालय में लगभग तीस वर्षों तक सेवा दे चुके मान्यवर धर्माध्यक्ष फ्राँको क्रोची की अन्तयेष्टि पर गुरुवार को सन्त पेत्रुस महागिरजाघर में कार्डिनल फरदीनानदो फिलोनी ने ख्रीस्तयाग अर्पित कर प्रवचन किया तथा दिवंगत आत्मा के समर्पित कार्यों की याद कर उनके प्रति भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की।

वाटिकन सिटी, शुक्रवार, 30 जुलाई 2021 (रेई,वाटिकन रेडियो): वाटिकन राज्य सच्चिवालय में लगभग तीस वर्षों तक सेवा दे चुके मान्यवर धर्माध्यक्ष फ्राँको क्रोची की अन्तयेष्टि पर गुरुवार को सन्त पेत्रुस महागिरजाघर में कार्डिनल फरदीनानदो फिलोनी ने ख्रीस्तयाग अर्पित कर प्रवचन किया तथा दिवंगत आत्मा के समर्पित कार्यों की याद कर उनके प्रति भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की।

परिचय

91 वर्षीय धर्माध्यक्ष फ्राँको क्रोची का निधन बुधवार 28 जुलाई को हो गया था। इटली के मिलान में 25 जून 1930 को जन्में धर्माध्यक्ष क्रोची 30 सितम्बर सन् 1961 को पुरोहित अभिषिक्त किये गये थे, जिसके बाद आपने रोम तथा वाटिकन में अपनी सेवाएँ अर्पित की थीं। ईशशास्त्र सहित साहित्य और कलीसियाई कानून में आपने स्नातक की उपाधियाँ ग्रहण की थीं तथा तीस वर्षों तक वाटिकन सच्चिवालय में कोषाध्यक्ष रहे थे।

धन्यवाद ज्ञापन

ख्रीस्तयाग प्रवचन में कार्डिनल फिलोनी ने धर्माध्यक्ष क्रोची के अनुपम कार्यों का स्मरण किया तथा कहा कि अपनी दीर्घकालीन बीमारी के अवसर पर भी धर्माध्यक्ष ने अपने विश्वास का उत्तम साक्ष्य प्रस्तुत किया। उन्होंने अपनी पीड़ा द्वारा ईश्वर में अपने अटल विश्वास का उदाहरण प्रस्तुत किया जो हम सब के लिये आदर्श है।

कार्डिनल महोदय ने कहा, "इस दुनिया से उनके चले जाने पर हम दिवंगत धर्माध्यक्ष के कार्यों, उनकी प्रेरिताई, उनकी गवाही एवं उनके व्यक्तित्व के माध्यम से कलीसिया को तथा ईश्वर को समर्पित उपहार के लिये हार्दिक आभार व्यक्त करते हैं। धर्माध्यक्ष क्रोची ने जो भलाई की है, वह न केवल कृतज्ञतापूर्वक याद करने का विषय है और न ही केवल कोई सुखद स्मृति ही है, अपितु वह बीज है जो प्रस्फुटित होकर फल उत्पन्न करता है। अस्तु, यूखारिस्त के माध्यम से हम दिवंगत आत्मा के लिये प्रभु ईश्वर के प्रति धन्यवाद ज्ञापित करें तथा धर्माध्यक्ष क्रोची की चिर शान्ति हेतु प्रार्थना करें।"    

कार्डिनल फिलोनी ने कहा कि किसी ख्रीस्तीय की मृत्यु उसका अन्त नहीं है क्योंकि प्रेरितवर सन्त योहन के अनुसार प्रेम हमें सदैव ईश्वर में जीने में समर्थ बनाता है, इस जीवन में तथा इस जीवन के पार भी। सन्त योहन लिखते हैं, यदि हम एक दूसरे से प्यार करेंगे, तो ईश्वर हममें बने रहेंगे क्योंकि ईश्वर का प्रेम पूर्ण है, वे ही सम्पूर्ण हैं।

 

30 July 2021, 11:45