खोज

Vatican News
आमदर्शन समारोह में लोगों के साथ संत पापा फ्राँसिस आमदर्शन समारोह में लोगों के साथ संत पापा फ्राँसिस 

वाटिकन ने विश्वासियों के संघों के लिए समय सीमा निर्धारित की

लोकधर्मी, परिवार एवं जीवन के लिए गठित परमधर्मपीठीय परिषद के लिए पोप फ्रांसिस द्वारा अनुमोदित आज्ञप्ति, विश्वासियों के अंतरराष्ट्रीय संघों के नेताओं के जनादेश की लंबाई को विनियमित करेगा। नये प्रावधानों का मकसद है यह सुनिश्चित करना कि उन संघों में अधिकारी, मिलन की सेवा में समर्पित हों और व्यक्तिवाद एवं दुर्व्यवहार के जोखिमों को रोकें।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शनिवार, 12 जून 2021 (रेई)- लोकधर्मी, परिवार और जीवन के लिए गठित परमधर्मपीठीय परिषद ने एक आज्ञप्ति जारी की है – जो विश्वासियों के अंतरराष्ट्रीय संघों में, व्यक्तिगत एवं सार्वजनिक दोनों,   और अंतरराष्ट्रीय प्रशासकीय निकाय की चुनाव प्रक्रिया में प्रशाकीय जनादेश की अवधि एवं संख्या तथा सदस्यों की आवश्यक प्रतिनिधित्वता को नियंत्रित करेगी।

उन निर्दोषों को संत पापा फ्रांसिस ने अनुमोदन दिया है जिसको शुक्रवार को प्रकाशित किया गया और यह तीन माह में लागू हो जाएगा। यह विश्वासियों के सभी संघों एवं परिषद द्वारा मंजूरी प्राप्त या चयनित संस्था को एक साथ लायेगा।  

एक स्वस्थ बदलाव

प्रशासनिक पदों पर आज्ञप्ति का उद्देश्य है "एक स्वस्थ बदलाव" को प्रोत्साहन देना ताकि अधिकार का प्रयोग सेवा के रूप में किया जा सके और उसे कलीसियाई एकता  में व्यक्त किया जा सके।

परिषद द्वारा आज्ञप्ति पर जारी एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि पोप फ्रांसिस, "अपने पूर्वाधिकारियों के अनुरूप, मिशनरी बदलाव के दृष्टिकोण से विश्वासियों के संघों की कलीसियाई परिपक्वता की यात्रा के लिए आवश्यक जरूरतों को समझने का सुझाव देते हैं" (एवंजेली गौदियुम 29-30) जिसमें "व्यक्तिगत स्वतंत्रता के लिए सम्मान; आत्म-संदर्भवाद, एकपक्षवाद और निरपेक्षता पर काबू पाना; एक व्यापक सहभागिता को बढ़ावा देना, साथ ही साथ समुदाय की अनमोल अच्छाई को बढ़ावा देना शामिल है।”

रचनात्मक विकास के लिए अवसर

दूसरी ओर, अनुभव ने दिखलाया है कि "प्रबंधन जिम्मेदारियों के नियमित आवर्तन के माध्यम से प्रशासनिक निकायों के पीढ़ीगत परिवर्तन, संघ की जीवन शक्ति के लिए बहुत लाभदायक है ˸ यह रचनात्मक विकास और रचनात्मक निवेश के लिए एक प्रोत्साहन का अवसर है; यह करिश्मे के प्रति निष्ठा को मजबूत करता है; यह समय के संकेतों की व्याख्या के लिए सांस और प्रभावशीलता देता है; यह मिशनरी कार्रवाई के नए और वर्तमान तरीकों को प्रोत्साहित करता है।"

साथ ही साथ, परिषद, "संस्थापकों द्वारा निभाई गई महत्वपूर्ण भूमिका से अवगत," उन्हें जनादेश के लिए निर्धारित सीमा से दूर करने के अधिकार के लिए सुरक्षित रखता है।

12 June 2021, 15:34