खोज

Vatican News
डब्ल्यूएचओ का मुख्यालय जिनेवा डब्ल्यूएचओ का मुख्यालय जिनेवा  (AFP or licensors)

परमधर्मपीठ को डब्ल्यूएचओ में स्थायी पर्यवेक्षक का दर्जा दिया गया

डब्ल्यूएचओ की 74वीं विश्व स्वास्थ्य महासभा ने सोमवार को परमधर्मपीठ को गैर-सदस्य राज्य पर्यवेक्षक का दर्जा देने का प्रस्ताव पारित किया।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, बुधवार 2 जून 2021 (वाटिकन न्यूज) : परमधर्मपीठ को विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ), संयुक्त राष्ट्र की विशेष स्वास्थ्य एजेंसी द्वारा एक गैर-सदस्य राज्यका स्थायी पर्यवेक्षक का दर्जा दिया गया है, जो मानव परिवार से संबंधित मुद्दों के लिए कलीसिया की भागीदारी और प्रतिबद्धता का प्रमाण है।

एक गैर-सदस्य राज्य के स्थायी पर्यवेक्षक के रूप में, "वाटिकन प्रेस कार्यालय ने मंगलवार को एक बयान में कहा, "सोमवार, 31 मई 2021 को, विश्व स्वास्थ्य महासभा ने सर्वसम्मति से, इटली द्वारा प्रस्तुत संकल्प "विश्व स्वास्थ्य संगठन में परमधर्मपीठ की भागीदारी" को अपनाया, जो विश्व स्वास्थ्य संगठन के कार्य में परमधर्मपीठ की भागीदारी को औपचारिक रूप देता है। बयान में कहा गया कि यह निर्णय उस संबंध को दर्शाता है जिसे परमधर्मपीठ ने 1953 से इस संगठन के साथ लगातार बनाए रखा है और यह संवाद और अंतर्राष्ट्रीय एकजुटता के माध्यम से, मानवता को पीड़ित करने वाली वैश्विक स्वास्थ्य चुनौतियों को संबोधित करने में राष्ट्रों के परिवार की प्रतिबद्धता का गवाह है।"

विश्व स्वास्थ्य संगठन की 74वीं विश्व स्वास्थ्य महासभा 24-31 मई से ऑनलाइन हुई। विश्व स्वास्थ्य महासभा ने सार्वजनिक स्वास्थ्य के विभिन्न क्षेत्रों में 30 से अधिक प्रस्तावों और निर्णयों को अपनाया। परमधर्मपीठ के पर्यवेक्षक की स्थिति पर मसौदा प्रस्ताव 26 मई को महासभा में प्रस्तुत किया गया था। यह नोट किया गया कि परमधर्मपीठ नियमित रूप से 1953 से एक पर्यवेक्षक के रूप में स्वास्थ्य महासभा के सत्रों में भाग ले रहा है और 1964 से संयुक्त राष्ट्र एक स्थायी पर्यवेक्षक राज्य भी रहा है।

इसके अलावा, परमधर्मपीठ ने जिनेवा, स्विटजरलैंड और वियना, ऑस्ट्रिया में संयुक्त राष्ट्र के कार्यालयों के पर्यवेक्षक मिशनों में भी प्रतिनिधित्व किया है।

71 देशों द्वारा प्रस्ताव पास

इटली द्वारा प्रस्तुत "विश्व स्वास्थ्य संगठन में परमधर्मपीठ की भागीदारी" संकल्प को विश्व स्वास्थ्य सभा द्वारा सर्वसम्मति से अपनाया गया था।

यह दुनिया के सभी भौगोलिक क्षेत्रों के 71 देशों द्वारा सह-प्रायोजित था: अल्बानिया, अल्जीरिया, अंडोरा, अंगोला, सऊदी अरब, अर्जेंटीना, आर्मेनिया, ऑस्ट्रिया, बहरीन, बांग्लादेश, बेल्जियम, बोत्सवाना, ब्राजील, बुल्गारिया, केप वेर्दे, चिली, कोलंबिया, कोस्टा रिका, क्रोएशिया, साइप्रस, इक्वाडोर, मिस्र, एल सल्वाडोर, संयुक्त अरब अमीरात, इस्वातिनी, फिलीपींस, जॉर्जिया, जर्मनी, जापान, ग्रीस, ग्वाटेमाला, हैती, भारत, इंडोनेशिया, आयरलैंड, इटली, केन्या, कुवैत, लातविया, लेबनान, लिथुआनिया, मडागास्कर, माल्टा, मोरक्को, मोनाको, मोंटेनेग्रो, मोज़ाम्बिक, नामीबिया, निकारागुआ, ओमान, पाकिस्तान, पनामा, पेरू, पोलैंड, पुर्तगाल, कतर, चेक गणराज्य, डोमिनिकन गणराज्य, कोरिया गणराज्य और रोमानिया।

इटली: परमधर्मपीठ की भूमिका

इटली सरकार विश्व स्वास्थ्य संगठन में परमधर्मपीठ के स्थायी पर्यवेक्षक की स्थिति को मानवीय और स्वास्थ्य क्षेत्रों में, विशेष रूप से विकासशील देशों में और हाल ही में महामारी के खिलाफ लड़ाई में परमधर्मपीठ द्वारा निभाई गई महत्वपूर्ण भूमिका की मान्यता के रूप में मानती है।

इटली के विदेश मंत्री लुइजी दी माओ ने कहा, "मुझे विश्वास है कि दुनिया भर में लाखों जरूरतमंद लोगों को काथलिक कलीसिया के संगठनों के माध्यम से सहायता प्रदान करने वाले परमधर्मपीठ विश्व स्वास्थ्य संगठन के लिए बहुमूल्य मूल्य लाएंगे और वैश्विक स्तर पर एकजुटता की भावना को और मजबूत करेंगे। यह सभी सदस्य राज्यों के लिए एक बड़ी प्रेरणा होगी। ”

पर्यवेक्षक की स्थिति

विश्व स्वास्थ्य महासभा संकल्प के अनुबंध अनुसार, एक गैर-सदस्य राज्य पर्यवेक्षक के रूप में परमधर्मपीठ को स्वास्थ्य सभा, कार्यकारी बोर्ड और कार्यकारी बोर्ड के कार्यक्रम, बजट और प्रशासन समिति के सत्रों और कार्यों में शामिल किया जाएगा। भागीदारी के अधिकार और विशेषाधिकार" जैसा कि संकल्प के अनुबंध में दिया गया है।

सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि एक सदस्य राज्य के समान, एक गैर-सदस्य पर्यवेक्षक के रूप में, परमधर्मपीठ को "मतदान करने या उम्मीदवारों को आगे रखने का अधिकार नहीं है।"

अनुबंध के अनुसार, परमधर्मपीठ को विश्व स्वास्थ्य संगठन के विश्व स्वास्थ्य सभा की सामान्य बहस में भाग लेने का अधिकार है। परमधर्मपीठ हस्तक्षेप कर सकता है और सदस्य राज्यों की प्राथमिकता के पूर्वाग्रह के बिना, स्वास्थ्य सभा की किसी भी पूर्ण बैठक में, इसकी मुख्य समितियों में, कार्यकारी बोर्ड के साथ-साथ कार्यक्रम, बजट, कार्यकारी बोर्ड की समिति और प्रशासन में वक्ताओं की सूची में अंकित किया जा सकता है।

पीठासीन अधिकारी के निर्णय को चुनौती दिए बिना, परमधर्मपीठ उत्तर दे सकता है और परमधर्मपीठ से जुड़े मुद्दों को उठा सकता है। इसके पास मसौदा प्रस्तावों और निर्णयों को सह-प्रायोजक करने का अधिकार है जो परमधर्मपीठ के संदर्भ में हैं। असेंबली हॉल में, परमधर्मपीठ की सीट सदस्य राज्यों के तुरंत बाद होगी।

02 June 2021, 15:12