खोज

Vatican News
वाटिकन के वित्तीय सचिवालय के अध्यक्ष जेस्विट फादर जुवन अंतोनियो ग्वेर्रेरो अल्वेस वाटिकन के वित्तीय सचिवालय के अध्यक्ष जेस्विट फादर जुवन अंतोनियो ग्वेर्रेरो अल्वेस  (Society of Jesus)

फादर ग्वेर्रेरो ˸ कलीसिया के मिशन में पीटर्स पेंस का सहयोग

विश्वव्यापी कलीसिया की उदारता एवं पोप की सेवा को समर्थन देने हेतु परम्परागत दानसंग्रह (पीटर्स पेंस) दिवस के पूर्व, वाटिकन के वित्तीय सचिवालय के अध्यक्ष जेस्विट फादर जुवन अंतोनियो ग्वेर्रेरो अल्वेस ने दानसंग्रह एवं उसके प्रयोग का आंकड़ा प्रस्तुत किया। उनका कहना है कि "लोगों को यह जानने का अधिकार है कि पैसे कैसे खर्ज किये जाते हैं।" उन्होंने कहा, "सहयोग करना आवश्यक हैं क्योंकि विश्वासियों के सहयोग के बिना कलीसिया के मिशन को जीवित रखने की कल्पना हम नहीं कर सकते।"

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शनिवार, 26 जून 2021 (रेई)- विश्वव्यापी कलीसिया की उदारता एवं पोप की सेवा को समर्थन देने हेतु परम्परागत दानसंग्रह की पूर्व संध्या, वाटिकन वित्तीय सचिवालय के अध्यक्ष फादर जुवन अंतोनियो ग्वेर्रेरो अल्वेस ने एक साक्षात्कार में बतलाया कि दानसंग्रह का प्रयोग उदार कार्यों एवं विश्वभर की कलीसिया में संत पापा द्वारा मदद देने के लिए की जाती है।

सवाल – फादर ग्वेर्रेरो, कई लोग सवाल करते हैं और कई विरोधाभासी खबरों के बाद जानना चाहते हैं कि पीटर्स पेंस क्या है?

सबसे पहले, मैं कहना चाहता हूँ कि लोगों को जानने का अधिकार है कि हम उन पैसों को कैसे खर्च करते हैं जो हमें दिये जाते हैं। कभी-कभी विरोधाभास इसलिए होता है क्योंकि जानकारी की कमी होती है। यह परदर्शिता की कमी के कारण भी हो सकता है। जब मैंने वित्तीय सचिवालय के अध्यक्ष की सेवा शुरू की, पोप ने मुझसे पारदर्शिता पर विशेष ध्यान देने की बात कही थी। वित्तीय सचिवालय में इस अवधि के दौरान मैंने विश्वासियों के सामने परमधर्मपीठ का वित्तीय आंकड़ा प्रस्तुत करने की कोशिश की है जिसको मैं जानता हूँ और जो मेरे लिए उचित लगता है।

सवाल- तो, पीटर्स पेन्स का मकसद क्या है?

हम संत पापा के उदार पहुँच की बात करते हैं और यह वही है। उदार दान, जो स्थानीय कलीसिया, संस्था, परिवार या जरूरत में पड़े लोगों को दी जाती है। लेकिन यह राशि केवल रोम से नहीं आती है और वाटिकन ही विश्व के विभिन्न हिस्सों में उदार कार्यों के लिए इसका वितरण करता है। यह पीटर्स पेंस के उद्देश्यों में से एक है। पीटर पेंस के लिए अनुदान प्रदान की जाती है और उसका वितरण उन स्थानों पर शीघ्र की जाती है जहाँ आवश्यकता है। प्रथम स्रोत से मुझे जो जानकारी मिली है उसके अनुसार : 2021 में, जब से यह अर्थव्यवस्था के लिए सचिवालय के पर्यवेक्षण और नियंत्रण में रहा है, अब से, पीटर्स पेंस संग्रह को 21 मिलियन यूरो का अनुदान मिला है (इससे कुछ अधिक भी हो सकता है क्योंकि पिछले साल यह बाद में आया।) निश्चय ही, 8 मिलियन यूरो सुसमाचार प्रचार या चर्च इन नीड (जरूरत में कलीसिया) के द्वारा सामाजिक परियोजनाओं में खर्च किये गये, खासकर, अफ्रीका, एशिया एवं लातीनी अमरीका में।

सवाल – हालांकि, पीटर्स पेंस को केवल उदार कार्यों में खर्च नहीं किया जाता...

वास्तव में, इस बात की व्याख्या करना और इसे समझना भी महत्वपूर्ण है कि पोप के उदार दान का कुछ हिस्सा, उदारता में एकता के उनके मिशन हेतु खर्च किये जाते हैं, जिसको वे विश्वव्यापी कलीसिया के लिए वाटिकन के विभिन्न विभागों एवं परमधर्माध्यक्षीय रोमी कार्यालय (रोमन कूरिया) की सेवा में करते हैं। कुछ विभागों का बजट है जरूरतमंद कलीसियाओं एवं कठिन मानवीय स्थिति में पड़े लोगों की मदद करना। कूरिया की इन संस्थाओं का अपना कोई आमदनी नहीं है और आमतौर पर वे अपनी सेवा के लिए आर्थिक प्रतिकार स्वीकार नहीं करते। विश्वास की एकता, धर्मविधि, कलीसिया की अदालत, पोप के संचार, संग्रहालय में विरासत की देखभाल जहाँ मानवता के इतिहास के महत्वपूर्ण दस्तावेज संग्रहित हैं, विश्वभर में संत पापा के प्रतिनिधि आदि सेवाएँ जिन्हें विश्वव्यापी कलीसिया के लिए सम्पन्न की जाती हैं इनमें कोई आमदनी नहीं है और इनके कुछ अंश पीटर पेंस के दानसंग्रह से आते हैं।

सवाल- अक्सर पीटर्स पेंस फंड की बात होती है। क्या आप बता सकते हैं कि संग्रह के के कुछ अंश का बचत क्यों किया जाता है और यह फंड क्यों स्थापित किया गया था?

बचत के संबंध में, तथ्य यह है कि पीटर्स पेंस फंड का अस्तित्व दशकों से है, मूल व्याख्या यह है कि जब कोई महत्वपूर्ण, असाधारण अनुदान राशि आता है, उदाहरण के लिए पोप के मिशन हेतु बड़ा वसीयत, तब यह विवेकी नहीं लगता है कि उसे तुरन्त उसी साल खर्च कर दिया जाए। उसे बाद में अधिक आवश्यकता के समय भी खर्च किया जा सकता है अथवा फंड का प्रयोग दीर्घकालिन परियोजना को मदद देने के लिए भी किया जा सकता है। निश्चय ही, इन बचतों की सही देखभाल परिवार के बुद्धिमान पिता की तरह, कलीसिया की सामाजिक धर्मशिक्षा के सिद्धांतों के आधार पर की जानी चाहिए। साथ ही इस बात को भी ध्यान में रखना चाहिए कि हर साल जो अनुदान राशि प्राप्त होता है वह मिशन के सभी खर्चों का वहन नहीं कर पाता है।

सवाल- क्या महामारी के कारण हुई आर्थिक मंदी ने पीटर्स पेंस संग्रह को अधिक प्रभावित किया?

हमने विगत कुछ सालों से ही दानसंग्रह में गिरावट महसूस किया है। 2015 से 2019 के बीच दानसंग्रह में 23 प्रतिशत कमी हुई थी। इस कमी के अलावा, 2020 में, कोविड के पहले साल में, पीटर्स पेंस राजस्व 18% कम था। इस साल फिर से महामारी से संबंधित संकट महसूस होने की संभावना है। कुछ दानों का एक विशिष्ट उद्देश्य होता है, अन्य दान सामान्य रूप से संत पिता के लिए चढ़ावा होते हैं। 2019 में पीटर्स पेंस दानसंग्रह कुल 53.86 मिलियन यूरो था, जिसको इस तरह वितरण किया गया ˸ 43 मिलियन यूरो पीटर्स पेंस संग्रह के सामान्य फंड के लिए और 10.8 मिलियन यूरो कलीसिया और दुनिया में जरूरत की स्थितियों के लिए विशिष्ट स्थलों को प्रदान किये गये। 2020 में कुल 41.1 मिलियन यूरो हुए थे जिसमें से 30.3 मिलियन पीटर्स पेंस के लिए एवं 13.8 मिलियन विशेष उद्देश्य के लिए दिये गये।  

सवाल – क्या आप "विशिष्ट लक्ष्य" का अर्थ बतला सकते हैं?

जब हम विशिष्ट या निर्धारित लक्ष्य की बात करते हैं, तो इसका अर्थ है, उदाहरण के लिए, कम विकसित देशों में गिरजाघरों के निर्माण, समाज सेवा जैसे कि बच्चों के लिए अस्पताल या गरीब क्षेत्रों में स्कूलों की मदद करना, हिंसा और गरीबी के कारण कठिन क्षेत्रों में धार्मिक समुदायों की उपस्थिति को समर्थन देना और प्रेरितिक कार्यों के प्रशिक्षण आदि को सहयोग देना। यदि अनुदान राशि को स्पष्ट उद्देश्य के साथ ग्रहण किया जाता है जो दानदाता की चाह का सम्मान किया जाता है। दूसरी ओर कुछ विभागों के बजट को इस साल बढ़ा दिया गया है ताकि कठिनाई में पड़ी कलीसियाओं की मदद की जा सके, उदाहरण के लिए, समग्र मानव विकास हेतु गठित परमधर्मपीठीय परिषद ने इस साल, अधिक कठिन परिस्थितियों से जूझ रहे लोगों की मदद करने के लिए अपना दायरा बढ़ाया है।  

सवाल – फादर ग्वेर्रेरो, सहयोग करना क्यों आवश्यक है? पीटर पेन्स को क्यों दान दिया जाना चाहिए?

सहयोग करना आवश्यक है क्योंकि हम इसकी कल्पना नहीं कर सकते कि विश्वासियों के सहयोग के बिना कलीसिया का मिशन आगे बढ़ाया जा सकता है। दुनियाभर में सुसमाचार की घोषणा, इसकी सभी जरूरतों के साथ, एक समर्थन संरचना का अनुमान लगाती है। कलीसिया हमेशा इसी तरह आगे बढ़ी है। जैसा कि संत पापा फ्राँसिस ने परमधर्मपीठीय मिशन सोसाईटी के लिए अपने संदेश में कहा है, कलीसिया हमेशा दानों के द्वारा आगे बढ़ी है और असंख्या लोगों ने इसमें अपना सहयोग दिया है जो विश्वास के वरदान के लिए कृतज्ञता व्यक्त करते हुए अपनी क्षमता के अनुसार दान देते हैं। कलीसिया की शुरूआत में ही संत पेत्रुस ने येरूसालेम की कलीसिया के लिए दान-संग्रह को प्रोत्साहन दिया था। (1 कोर. 16:1)

सवाल- बहुत सारे नंबर लिखे गए हैं, लगभग 800 मिलियन यूरो की बात की गई है? क्या आप हमें बता सकते हैं कि पीटर्स पेंस फंड के पास वास्तव में कितना पैसा है?

800 मिलियन यूरो... की बात करना मेरे लिए कल्पना के समान है। खाता जिनको मैंने देखा है राज्य के सचिवालय के सभी फंडों को 10 सालों में देखा है जो हमेशा इस संख्या से कम रहे हैं। 2015 में पीटर्स पेंस 319 मिलियन यूरो था। हाल के वर्षों में, इसने अपने संग्रह से औसतन 19 मिलियन यूरो अधिक खर्च किए हैं। 31 दिसम्बर 2020 को पीटर्स पेंस में करीब 205 मिलियन यूरो थे और उनमें से कुछ "लिक्विड" निवेश नहीं थे जिसमें लंदन की बिल्डिंग भी शामिल है। ओबोलो फंड को पिछले सालों परमधर्माध्यक्षीय रोमी कार्यालय के खर्चों के कारण पूंजीकृत किया गया जिसमें जमा किये जा रहे थे उससे कहीं अधिक जरूरत थी। इससे स्पष्ट है कि यह अधिक दिनों तक नहीं चल सकता।  

सवाल – पीटर्स पेंस फंड का प्रबंध आज कौन करता है?

पिछले साल तक, पीटर्स पेंस फंड का संग्रह, प्रबंधन और प्रशासन राज्य सचिवालय के द्वारा किया जाता था। दिसम्बर 2020 में एक मोतू प्रोप्रियो जारी किया गया जिसमें फंडों को एपीएसए (प्रेरितिक परमधर्मपीठ की विरासत का प्रशासन विभाग) को हस्तांतरित किया गया। संग्रह के लिए, इसका एक बड़ा हिस्सा गिरजाघरों में संग्रह के दौरान संत पेत्रुस के महापर्व, 29 जून को होता है। पिछले साल महामारी के कारण अधिकांश गिरजाघर बंद थे, दानसंग्रह 4 अकटूबर को संत फ्राँसिस के पर्व के दिन किया गया था। इस साल, इसे पुनः संत पेत्रुस के महापर्व के दिया किया जाएगा। स्थानीय कलीसियाएँ अपने दानसंग्रह को धर्मप्रांतों में भेजते हैं और धर्मप्रांत, प्रेरितिक राजदूत को, जो इसे रोम में जमा करते हैं। कई विश्वासी वेब पेज के द्वारा या आईओआर (वाटिकन बैंक) के खाते पर सीधे दान करते हैं।

पिछले दिसम्बर के मोतू प्रोप्रियो के अनुसार, मिशन की एकता हेतु विभिन्न कार्यों के लिए इसमें पूर्ण पारदर्शिता होनी चाहिए। परमधर्मपीठ एक है। हम सभी पेत्रुस के उत्तराधिकारी पोप के मिशन की सेवा में हैं। फंड की व्यवस्था एवं प्रशासन तथा इसे आगे बढ़ाना अब अपसा (APSA) के जिम्मे में है। यद्यपि स्वाभाविक रूप से राज्य सचिवालय प्रेरितिक राजदूतावास के माध्यम से स्थानीय कलीसियाओं की आवश्यकताओं एवं उन देशों के बारे अधिक अच्छी तरह जानता है जिन्हें मदद दिये जाने की आवश्यकता है। आय और व्यय का नियंत्रण अर्थव्यवस्था के लिए सचिवालय की जिम्मेदारी है जहां पीटर्स पेंस का कार्यालय अब स्थित है। हम आशा करते हैं कि हम विश्वासियों को जल्द से जल्द पीटर्स पेंस संग्रह से जुड़ी हर चीज का सटीक लेखा-जोखा दे पाएंगे, जिसकी शुरुआत आय और व्यय से होगी।

 

26 June 2021, 15:37