खोज

Vatican News
14वीं सदी के महान इताली कवि दांते अलीगेरी 14वीं सदी के महान इताली कवि दांते अलीगेरी  (FOTO © GOVERNATORATO SCV - DIREZIONE MUSEI VATICANI)

तीसरी बार बंद होने के बाद वाटिकन संग्राहालय फिर खुला

वाटिकन संग्राहालय को कोविड-19 स्वास्थ्य नवाचार के कारण बंद किये जाने के बाद 3 मई को पुनः खोल दिया गया है।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, मंगलवार, 4 मई 2021 (रेई)- कोविड-19 महामारी रोकने के लिए इताली एवं वाटिकन के स्वास्थ्य नवाचार के अनुसार वाटिकन संग्राहालय को दर्शकों के लिए पुनः खोल दिया गया है। यह तीसरी बार है कि वाटिकन संग्राहालय को कोरोनावायरस के कारण बंद किये जाने के बाद खोला गया है।

पहली बार इसे 9 मार्च 2020 को बंद किया गया था जब इटली में कोरोना वायरस से संक्रमण एवं मौतों की संख्या बढ़ रही थी। सरकार ने 9 मार्च को देशव्यापी लॉकडाऊन की घोषणा की थी जिसके साथ वाटिकन म्यूजियम को भी बंद कर दिया गया था। हालांकि, वाटिकन म्यूजियम के वेबसाईट पर मुफ्त में वर्चुवल पर्यटन उपलब्ध था। इसे 1 जून 2020 को खोल दिया गया था किन्तु 6 नवम्बर को इसे पुनः बंद करना पड़ा जिसे 1 फरवरी को खुला गया। वाटिकन म्यूजियम का द्वार संक्रमण की तीसरी लहर के कारण तीसरी बार 15 मार्च को बंद हुआ था।  

महामारी के खिलाफ उपाय

वाटिकन म्यूजियम की निदेशिका बरबरा जत्ता की उम्मीद है कि तीसरी बार खुलना ही अंतिम खुलना हो। वाटिकन रेडियो के पत्रकार अलेस्सांद्रो दी बुस्सालो से बातें करते हुए वाटिकन संग्राहालय में सुरक्षा एवं इसकी नयी विशेषता के बारे बतलाया।

उन्होंने कहा, "हम एक खास विषयवस्तु के साथ इसे खोल रहे हैं वह है, सुरक्षा।" उन्होंने बतलाया कि पर्यटकों के लिए सुरक्षा के उपायों को सुनिश्चित किया गया है ताकि महामारी को हराया जा सके- जैसे, थर्मल स्कैनर, ऑनलाइन बुकिंग और भीड़ से बचने के लिए पर्यटकों के प्रवाह का प्रबंधन।

7 किलोमीटर लम्बी गैलरी, हॉल एवं गलियारे को खुली खिड़कियों के द्वारा हवादार किया गया है। उन्होंने कहा, "अतः हमारे पर्यटकों की सुरक्षा हमारा एक निश्चित लक्ष्य है।"

दांते का सम्मान

जत्ता ने यह भी बतलाया कि इस तीसरे लॉकडाऊन के दौरान उन्होंने अपने ऑनलाईन डिजिटल सेवा एवं सुरक्षा व्यवस्था को बढ़ाया है एवं रख-रखाव के कई कामों को किया है।  

उन्होंने कहा कि तीसरी बार खुलने की विशेषता है, "वाटिकन म्यूजियम में दांते"। इसका उद्देश्य है 14वीं सदी के महान इताली कवि दांते अलीगेरी की स्मृति को सम्मानित करना जिनकी मृत्यु की 7वीं शताब्दी इस वर्ष मनाई जा रही है।

जत्ता ने कहा कि दांते "डिजिटल ऑनलाइन प्रदर्शनी" द्वारा पर्यटक अपने मोबाइल उपकरणों से घूम सकते हैं और यह जान सकते हैं कि दांते वाटिकन संग्रह में कितना महत्वपूर्ण है।

भविष्य की आशा

जत्ता ने सभी के लिए इस कठिन समय पर खेद प्रकट किया, जिसमें संग्राहालय भी शामिल है जिसे 80 प्रतिशत का घाटा सहना पड़ा है।   

"किन्तु सौभाग्य से, हमारे लिए 'कला के संरक्षकों' का समर्थन प्राप्त है जिन्होंने इस क्षण से बाहर निकलने में हमारी मदद की है।" उन्होंने कहा कि हमें सब कुछ से बढ़कर भविष्य को आशा के साथ देखना है तथा पुनःनिर्माण हेतु गहरी चाह रखनी है।

04 May 2021, 15:48