खोज

Vatican News
येरूसालेम में पवित्र कब्रस्थान का गिरजाघर येरूसालेम में पवित्र कब्रस्थान का गिरजाघर 

कार्डिनल सांद्री ने पवित्र भूमि के लिए उदार दान का आग्रह किया

हर साल पुण्य शुक्रवार को कलीसिया पवित्र भूमि (हॉली लैंड) के विश्वासियों की मदद करने एवं पवित्र स्थलों की रक्षा करने में मदद देने हेतु दानसंग्रह करती है। पूर्वी कलीसियाओं के लिए गठित परमधर्मपीठीय धर्मसंघ के अध्यक्ष कार्डिनल लेओनार्दो सांद्री ने विश्वभर के धर्माध्यक्षों को पत्र लिखकर विश्वासियों से आग्रह किया है कि वे इसके लिए उदारतापूर्वक दान दें।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

पवित्र भूमि, बृहस्पतिवार, 11 मार्च 2021 (रेई)- पूर्वी कलीसियाओं के लिए गठित परमधर्मपीठीय धर्मसंघ के अध्यक्ष कार्डिनल लेओनार्दो सांद्री ने विश्वभर के ख्रीस्तियों से पुनः अपील की है कि वे पवित्र भूमि के लिए वार्षिक दान संग्रह को सहयोग दें, जिसको हर साल पुण्य शुक्रवार के दिन किया जाता है।

धर्मसंघ के अनुसार पवित्र भूमि के लिए दान संग्रह की शुरूआत संत पापाओं की इच्छा पर हुई है ताकि विश्वासियों एवं पवित्र स्थलों के बीच गहरे संबंध को बनाये रखा जा सके। "यह पवित्र भूमि में ख्रीस्तीय जीवन के लिए भौतिक समर्थन का मूल स्रोत तथा  विशेषाधिकार प्राप्त साधन है जिसे कलीसिया विश्व के अन्य हिस्सों के अपने बच्चों से प्राप्त करती है कि वे मध्यपूर्व के कलीसियाई समुदाय के प्रति एकात्मता व्यक्त करें।"

आध्यात्मिक तीर्थयात्रा

अपने पत्र में कार्डिनल सांद्री ख्रीस्तियों को याद दिलाते हैं कि "हरेक पवित्र सप्ताह, हम आध्यात्मिक रूप से येरूसालेम के तीर्थयात्री बनते एवं हमारे प्रभु येसु ख्रीस्त की मृत्यु और पुनरूत्थान पर चिंतन करते हैं।" उन्होंने कहा, "यह अनुभव नये प्रकार के बंधुत्व का आधार है जो क्रूसित येसु द्वारा लोगों के बीच किये गये मेल-मिलाप एवं शांति स्थापना के कार्य से आता है।"  

कार्डिनल सांद्री गौर करते हैं कि पोप फ्रांसिस हमें "मेल-मिलाप के इस वरदान" की याद प्रेरितिक पत्र फ्रातेल्ली तूत्ती में दिलाते हैं। संत पापा फ्राँसिस भाईचारा के सिदधांत के आलोक में हमारे सभी संबंधों पर ध्यान देना चाहते हैं...। भाईचारा, क्रूस पर ख्रीस्त के प्रेम पर आधारित है जहाँ येसु ने शत्रुता की भावना को विराम दिया, घृणा के भ्रष्ट घेरे को तोड़ा तथा पिता से, आपस में एवं सृष्टि के साथ मेल-मिलाप करने के हर रास्ते को खोल दिया।"

मुश्किलताओं का साल  

कार्डिनल सांद्री ने कहा कि सामाजिक दूरी रखने, तीर्थयात्रियों के अभाव में काम नहीं मिलने तथा अपने बच्चों के साथ प्रतिष्ठित जीवन नहीं जी पाने के कारण पवित्र भूमि के ख्रीस्तियों के लिए, दुनिया के अन्य लोगों की तरह साल 2020 एक मुश्किलताओं का साल रहा। उन्होंने गौर किया कि महामारी के कारण पवित्र भूमि के लिए प्रदान की जानेवाली सामान्य वित्तीय सहायता में भी कमी आयी।

संत पापा के शब्दों का हवाला देते हुए कार्डिनल सांद्री ने ख्रीस्तियों को निमंत्रण दिया कि वे "सक्रिय उदारता के आदर्श" भले समारी की छवि पर ध्यान दें तथा उदासीनता के मनोभाव से ऊपर उठें।

इन परिस्थितियों में कार्डिनल सांद्री ने उम्मीद जतायी है कि इस साल पवित्र भूमि दान संग्रह सभी लोगों के लिए एक अवसर होगा, कि हम पवित्र भूमि में कठिन परिस्थिति में रह रहे हमारे भाई-बहनों को अनदेखा नहीं करेंगे बल्कि उनका भार हल्का करेंगे। साथ ही, हमें अपने पवित्र स्थलों की देखरेख को नहीं त्यागेंगे जो ईश्वर के पुत्र के शरीरधारण और हमारी मुक्ति के लिए अपने जीवन को अर्पित करने के रहस्य का ठोस प्रमाण है।

संत पौलुस के शब्दों में कार्डिनल ने कहा, "इस बात का ध्यान रहे : जो कम बोयेगा वह कम लूनेगा और जो अधिक बोयेगा वह अधिक लूनेगा। हरेक ने अपने मन में जितना निश्चित किया है, उतना ही दे। वह अनिच्छा से अथवा लाचारी से ऐसा न करे, क्योंकि ईश्वर प्रसन्नता से देने वाले को प्यार करते हैं।" "ईश्वर आप लोगों को प्रचुर मात्रा में हर प्रकार का वरदान देने में समर्थ हैं जिससे आपको कभी किसी तरह से कोई कमी न हो, बल्कि हर भले काम के लिए चंदा देने के लिए भी बहुत कुछ बच जाए।” (2 कोर. 9:6-8).

कार्डिनल सांद्री ने अपने पत्र के अंत में उस सभी लोगों को संत पापा फ्राँसिस की ओर से गहरा आभार व्यक्त किया, जो विभिन्न तरह से चंदा जमा करने की कोशिश करते हैं उस निष्ठा से कि कलीसिया को अपने सभी बच्चों के लिए इसकी आवश्यकता है।

11 March 2021, 18:33