खोज

Vatican News
ब्रिटेन में मत्स्य व्यापार  का एक दृश्य ब्रिटेन में मत्स्य व्यापार का एक दृश्य  (ANSA)

विश्व मत्स्य दिवस पर वाटिकन ने प्रकाशित किया सन्देश

वाटिकन ने 21 नवम्बर को पड़नेवाले विश्व मत्स्य दिवस के उपलक्ष्य में जारी एक सन्देश की प्रकाशना की जिसमें कोविद-19 महामारी के परिप्रेक्ष्य में मछुओं एवं मत्स्तय व्यापार में लगे लोगों की कठिनाइयों पर ध्यान आकर्षित कराया गया है।

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफर-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शुक्रवार, 20 नवम्बर 2020 (रेई,वाटिकन रेडियो): वाटिकन ने 21 नवम्बर को पड़नेवाले विश्व मत्स्य दिवस के उपलक्ष्य में जारी एक सन्देश की प्रकाशना की जिसमें कोविद-19 महामारी के परिप्रेक्ष्य में मछुओं एवं मत्स्तय व्यापार में लगे लोगों की कठिनाइयों पर ध्यान आकर्षित कराया गया है।

विश्व मत्स्य दिवस

समुद्र एवं समुद्री तटों पर काम करनेवाले तथा मछली व्यापार एवं श्रम से जुड़े लोगों को समर्थन देने के लिये प्रतिवर्ष 21 नवम्बर को विश्व मत्स्य दिवस मनाया जाता है। मत्स्तय व्यापार विश्व के पाँच करोड़ 95 लाख लोगों की आमदनी का स्रोत है, इनमें से 85 प्रतिशत लोग श्रमिक हैं।  

मत्स्य उद्योग एवं कोविद-19 महामारी

अखण्ड मानव विकास सम्बन्धी परमधर्मपीठीय समिति के अध्यक्ष कार्डिनल पीटर टर्कसन द्वारा हस्ताक्षरित सन्देश में इस बात की ओर ध्यान आकर्षित कराया गया कि इस वर्ष महामारी की वजह से लाखों मछुओं एवं सम्पूर्ण मत्स्य उद्योग पर गम्भीर आर्थिक प्रभाव पड़े हैं। सन्देश में कहा गया कि सामाजिक दूरी ने केवल मत्स्य उद्योग पर ही नहीं बल्कि इससे जुड़े होटेल और रेस्तोराँ उद्योग पर भी प्रहार किया है तथा कई मज़दूरों से उनकी मज़दूरी छीन ली है।

एकात्मता पर बल

कार्डिनल महोदय ने इस दुखद विषय के प्रति ध्यान आकर्षित कराया कि मत्स्य व्यापार से जुड़े श्रमिकों की मज़दूरी चले जाने से कई परिवार निर्धन से निर्धनतम हो गये हैं तथा प्राथमिक आवश्यकताओं की नितान्त कमी बनी हुई है। इनकी मदद के लिये उन्होंने एकात्मता का आह्वान किया, इसलिये कि दैनिक आहार की कमी इन्हें मानव तस्करी एवं अपराध संगठनों का शिकार बना सकती है।   

     

20 November 2020, 10:56