खोज

Vatican News
इथियोपिया में दैनिक जीवन, प्रतीकात्मक तस्वीर इथियोपिया में दैनिक जीवन, प्रतीकात्मक तस्वीर  (AFP or licensors)

जीवन का प्रसारण एक उपहार है जिसकी रक्षा ज़रूरी है

महाधर्माध्यक्ष विन्चेन्सो पालिया ने बुधवार को एक ऑनलाईन मंच में पति-पत्नी के बीच प्रेम तथा प्रजनन तकनीकियों पर प्रकाश डालते हुए कहा कि जीवन का प्रसारण एक उपहार है जिसका संरक्षण मनुष्य का दायित्व है।

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफरय वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शुक्रवार, 20 नवम्बर 2020 (रेई,वाटिकन रेडियो): वाटिकन स्थित जीवन सम्बन्धी परमधर्मपीठीय अकादमी के अध्यक्ष महाधर्माध्यक्ष विन्चेन्सो पालिया ने बुधवार को एक ऑनलाईन मंच में पति-पत्नी के बीच प्रेम तथा प्रजनन तकनीकियों पर प्रकाश डालते हुए कहा कि जीवन का प्रसारण एक उपहार है जिसका संरक्षण मनुष्य का दायित्व है।     

स्वास्थ्य सम्बन्धी विश्व नवाचार संगठन (डब्ल्यू.आई.एस.एच.) द्वारा उक्त मंच का आयोजन किया गया था, जिसमें प्रजनन की नवीन तकनिकियों तथा इनसे जुड़े नैतिक मुद्दों पर विचार विमर्श किया गया।   

जीवन का प्रसारण

महाधर्माध्यक्ष पालिया ने जीवन के संचरण से सम्बन्धित काथलिक धर्म की महत्वपूर्ण स्थिति को रेखांकित किया, इसलिये कि इसे उन कारकों के संबंध में समझा जाना चाहिये, जो यौन गतिविधि, पति-पत्नी और पीढ़ी के बीच प्रेम को एकीकृत करते हैं।

उन्होंने कहा कि काथलिक परम्परा इस एकता को मूलभूत मानवशास्त्रीय सत्य मानती है, जो सभी संस्कृतियों में व्याप्त है। अस्तु, पति-पत्नी अथवा दम्पत्तियों के बीच प्रेम एवं पीढ़ियों के बीच का बंधन "एक कर्तव्य से अधिक उपहार" है, और हमसे सुरक्षा का आह्वान करता है।

मानव जीवन और भ्रातृ एकजुटता

महाधर्माध्यक्ष पालिया ने स्पष्ट किया कि प्रत्येक बच्चा एक पुरुष एवं एक स्त्री के साक्षात्कार से जन्म लेता है, जो उनके अस्तित्व एवं इतिहास का अभिन्न अंग होता है। उन्होंने कहा कि जन्म का अनुभव मानवीय यौन गतिविधि को समझने में हमारी मदद करती है, क्योंकि प्रत्येक बच्चा उस सहबन्धन के बीच जन्म लेता है जो उसकी मेज़बानी करते हैं। उन्होंने कहा कि हर तरह से "मानव जीवन और भ्रातृ एकजुटता का समर्थन किया जाना चाहिये इसलिये कि यह दांपत्य जीवन और परिवार की फलदायी अभिव्यक्ति है।"

 

20 November 2020, 09:59