खोज

Vatican News
कार्डिनल टर्कसन कार्डिनल टर्कसन 

कोरोनावायरस : भाईचारा, एकजुटता को मजबूत करने का समय

कोरोना वायरस संकट के मद्देनजर वाटिकन के समग्र मानव विकास परिषद ने एक संदेश प्रकाशित कर, एकात्मता एवं भाईचारा की अपील की है।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, बृहस्पतिवार, 12 मार्च 20 (रेई)˸ समग्र मानव विकास हेतु गठित परमधर्मपीठीय परिषद के अध्यक्ष कार्डिनल पीटर टर्कसन ने संदेश में कहा है, "कोरोना वायरस आपातकाल भाईचारा एवं हमारे बीच अभेद्य आपसी संबंध के महत्व को समझने का एक सुअवसर है। हम सबसे कठिन दौर से गुजर रहे समुदायों को सलाह देना चाहेंगे कि वे सब कुछ को हानि मानते हुए न जीयें।"  

उन्होंने कहा है कि वे संत पापा के साथ महामारी से सभी पीड़ितों, उनके परिवार एवं पीड़ितों की सेवा करने वाले लोगों के प्रति कलीसिया के सामीप्य का आश्वासन देते हैं।  

महामारी

कोरोना वायरस जिसको कोविड -19 से भी जाना जाता है इसके द्वारा विश्वभर में करीब 4,300 लोगों की मौत हो गयी है और करीब 1,19,600 लोग संक्रमित हैं। चीन जहाँ दिसम्बर में इस संक्रमण की शुरूआत हुई थी वहां करीब 80,700 लोग संक्रमित हुए और 3,158 लोगों की मौत हो गयी।  

इटली में इस महामारी से करीब 10,000 लोग प्रभावित हैं और 631 लोगों की मौत हो चुकी है। सरकार ने पूरे देश में आपातकाल घोषित किया है और संक्रमण रोकने का लिए उपाय अपनाते हुए, यात्रा एवं सार्वजनिक सम्मेलनों पर प्रतिबंध लगाया है। वायरस का प्रभाव इटली के सभी 20 प्रांतों में पाया गया है। इताली सरकार के आदेश के अनुसार इटली के धर्माध्यक्षों ने वायरस के प्रसार को रोकने हेतु सार्वजनिक मिस्सा समारोहों एवं अन्य धर्मविधिक प्रार्थनाओं को 3 अप्रैल तक स्थगित कर दिया है।  

कार्डिनल ने कहा है कि "यदि हम पहले की तरह अपने विश्वास को जीने के लिए एक साथ नहीं आयेंगे, तब ईश्वर हमें अपने आपको पुष्ट करने, प्रार्थना के नये प्रकार को खोजने एवं ईश्वर के साथ व्यक्तिगत संबंध स्थापित करने का अवसर प्रदान करेंगे।"

एकात्मता एवं सामाजिक न्याय

कार्डिनल टर्कसन ने याद किया कि संत पापा फ्राँसिस एवं कई शीर्ष अधिकारियों ने इस संकट की घड़ी में विभिन्न देशों के प्रति एकात्मता व्यक्त करते हुए चिकित्सा उपकरण एवं आर्थिक सहायता प्रदान की है।   

उन्होंने आशा व्यक्त की है कि सभी लोग इस तरह की परम्परा को जारी रखेंगे खासकर, उन देशों में जहाँ स्वास्थ्य सुविधाएँ कमजोर हैं और जो वायरस से घबराये हुए महसूस कर रहे हैं।  

वाटिकन अधिकारी ने वर्तमान संकट को देखते हुए राजनीतिक एवं आर्थिक नेताओं से अपील की है कि वे सामाजिक न्याय की अवहेलना न करें तथा अर्थव्यवस्था और अनुसंधान का सहयोग करें।

परिषद ने राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा प्रणाली एवं संगठनों को प्रोत्साहन दिया है कि काथलिक और गैर-काथलिक सभी एक-दूसरे की मदद करना जारी रखें तथा इस नई महामारी का हल पाने हेतु हरसंभव प्रयास करें जैसा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन एवं राष्ट्रीय और स्थानीय राजनीतिक अधिकारियों ने सलाह दी है।  

कार्डिनल टर्कसन ने आशा व्यक्त की है कि आवश्यकता का यह समय, एकात्मता को मजबूत करने, राष्ट्रों एवं लोगों के बीच एकता लाने के अनुकूल अवसर बन जाए।

उन्होंने कहा, " यह उपकरणों एवं संसाधनों को बांटने हेतु अंतरराष्ट्रीय एकात्मता  में बढ़ने का समय है।" उन्होंने सभी की एकात्मता पर उम्मीद करते हुए, परमधर्मपीठ की ओर से विश्व के विभिन्न हिस्सों में स्वास्थ्य देखभाल एवं सुविधाओं द्वारा समर्थन का आश्वासन दिया, विशेषकर, सुदूर क्षेत्र जहाँ अधिक कठिनाइयाँ हैं।

 

12 March 2020, 16:46