खोज

Vatican News
पत्रकार सम्मेलन को सम्बोधित करते कार्डिनल बारबारिन, 30.01.2020 पत्रकार सम्मेलन को सम्बोधित करते कार्डिनल बारबारिन, 30.01.2020  (AFP or licensors)

रिपोर्ट करने में विफल फ्रेंच कार्डिनल अपील अदालत द्वारा बरी

फ्राँस की एक अपील अदालत ने देश के कार्डिनल फिलिप बारबारिन को एक धर्मप्रान्तीय पुरोहित के दुराचार की रिपोर्ट न करने के दोष से बरी कर दिया है।

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफर-वाटिकन सिटी

लियो, फ्राँस, शुक्रवार, 31 जनवरी 2020 (रेई,वाटिकन रेडियो): फ्राँस की एक अपील अदालत ने देश के कार्डिनल फिलिप बारबारिन को एक धर्मप्रान्तीय पुरोहित के दुराचार की रिपोर्ट न करने के दोष से बरी कर दिया है।

रिपोर्ट न करने का लगा आरोप

लियों के महाधर्माध्यक्ष कार्डिनल फिलिप बारबारिन को 2019 के मार्च में, एक नाबालिग के विरुद्ध यौन दुराचार की रिपोर्ट न करने का दोषी ठहराया गया था तथा छः महीने की निलंबित जेल की सज़ा दी गई थी।

कार्डिनल के अभियोजकों ने कहा कि मुकद्दमें के दौरान कार्डिनल बारबारिन बदनामी के शिकार हुए थे। विगत वर्ष मार्च माह में जब कार्डिनल बारबारिन को दोषी ठहराया गया था, पाँच अन्य महाधर्मप्रान्तीय अधिकारियों को बरी कर दिया गया था।

ग़लती का सबूत नहीं

इस मामले में अभियोजन पक्ष की दलील के बाद बारबारिन के बरी होने की अपील की व्यापक रूप से अपेक्षा की गई थी, इसलिये कि कार्डिनल के, कानूनी रूप से, ग़लत होने का कोई सबूत नहीं था और इसलिए उन्हें दोषी ठहराए जाने का कोई आधार नहीं था।

कार्डिनल बारबारिन पर आरोप लगाया गया था कि उन्होंने 2014 और 2015 में न्यायिक अधिकारियों को उनके महाधर्मप्रान्त में हुए दुराचारों की रिपोर्ट नहीं की थी, विशेष रूप से, फादर बर्नार्ड प्रेनाथ के मामले में जिसने, 1980 एवं 1990 के दशकों के दौरान, कई नाबालिगों के विरुद्ध  यौन दुराचार किया था।   

अपने पक्ष में कार्डिनल बारबारिन ने 2017 में फ्राँस के विख्यात समाचार पत्र "ले मोन्ड" से कहा था कि उन्होंने किसी भी दुराचार को छिपाने का कोई प्रयास नहीं किया था, बल्कि 2015 में फादर बर्नार्ड प्रेनाथ के विरुद्ध लगाये आरोपों की जानकारी प्राप्त करने के उपरान्त उन्हें पुरोहितिक प्रेरिताई से निकाल दिया था।

31 January 2020, 10:04