खोज

Vatican News
ख्रीस्तयाग में भाग लेते चीन के काथलिक ख्रीस्तयाग में भाग लेते चीन के काथलिक   (AFP or licensors)

अनंतिम समझौते के बाद पहले धर्माध्यक्ष का अभिषेक

वाटिकन प्रेस कार्यालय के निदेशक मात्तेओ ब्रूनी ने इस बात की पुष्टि दी कि मोसिन्योर अंतोनियो याओ शन, परमधर्मपीठ की ओर से अभिषिक्त धर्माध्यक्ष है।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन प्रेस कार्यालय के निदेशक मात्तेओ ब्रूनी ने पत्रकारों के सवालों का उत्तर देते हुए 27 अगस्त को कहा, "मैं इस बात की पुष्टि करता हूँ कि एच. ई. अंतोनियो याओ शन जो भीतरी मंगोलिया (चीन) के जिनिंग/बलंगकाबू के अभिषिक्त धर्माध्यक्ष हैं। उन्हें संत पापा का अध्यादेश प्राप्त है जैसा कि अभिषेक सम्पन्न करने वाले धर्माध्यक्ष ने भी कल 26 अगस्त 2019 को समारोह के दौरान कही थी।"  

उन्होंने कहा, "एच. ए. मोनसिन्योर अंतोनियो याओ का धर्माध्यक्षीय अभिषेक परमधर्मपीठ एवं चीन के बीच अनंतिम समझौते के ढांचे में जगह लेने वाला पहला है जिसपर बिजिंग में 22 सितम्बर 2018 को हस्ताक्षर हुए थे।

अंतोनियो याओ शन आंतरिक मंगोलिया के उत्तरी प्रांत जिलिंग के अभिषिक्त धर्माध्यक्ष हैं जहाँ करीब 70,000 काथलिक रहते हैं। उनके साथ अन्य सह-अभिषिक्त धर्माध्यक्ष हैं, बामेंग धर्मप्रांत के मात्तिया दू जियंग, निंगक्सिया धर्मप्रांत के ली जिंग और ताईयन धर्मप्रांत के पाओलो मेंग निंयोउ। वर्तमान में चीन के सभी काथलिक धर्माध्यक्ष संत पापा के साथ पूर्ण रूप से जुड़े हुए हैं। समारोह में निकटवर्ती क्षेत्रों के सैंकड़ों पुरोहितों एवं धर्मबहनों ने भाग लिया।

धर्माध्यक्ष पाओलो मेंग किंग्लू ने कहा कि समारोह के दौरान संत पापा फ्राँसिस के अध्यादेश को पढ़ा गया। धर्माध्यक्षीय अभिषेक पर एक लेख ग्लोबल टाईम्स में प्रकाशित किया  गया जिसे कई सकारात्मक टिप्पणियाँ मिलीं। चीनी समाचार पत्र में धर्माध्यक्ष ने यह भी कहा कि समारोह विधिपूर्वक, सौहार्द एवं व्यवस्थित महौल में सम्पन्न हुआ।

28 August 2019, 15:58