Cerca

Vatican News
पवित्र आत्मा की तस्वीर पवित्र आत्मा की तस्वीर 

काथलिक करिस्माटिक नवीनीकरण द्वारा नई सेवा की शुरूआत

3 जून को जारी प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है कि कारिस सबसे बढ़कर काथलिक कारिस्माटिक नवीनीकरण की एक सेवा है जिसमें इस समय विश्व के 120 मिलियन काथलिक लोग जुड़े हैं जो बपतिस्मा में प्राप्त पवित्र आत्मा का अनुभव विभिन्न प्रार्थना दलों, समुदायों, सुसमाचार प्रचार के स्कूलों, संचार माध्यमों एवं प्रेरिताई के अन्य कार्यों द्वारा करते हैं।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, मंगलवार, 4 जून 2019 (रेई)˸ लोकधर्मी, परिवार एवं जीवन के लिए गठित परमधर्मपीठीय समिति ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर बतलाया है कि काथलिक करिस्माटिक नवीनीकरण द्वारा एक नई सेवा की शुरूआत की जाएगी। इस सेवा को "कारिस" (काथलिक कारिस्माटिक रिन्यूवाल इनटरनैशनल सर्विस) कहा जाएगा। नई सेवा की शुरूआत आधिकारिक रूप से पेंतेकोस्त के दिन 9 जून को की जाएगी। कारिस की शुरूआत संत पापा फ्राँसिस की इच्छा को ध्यान में रखते हुए की गयी है जो कलीसिया के हृदय में कृपा का माध्यम होगा।

3 जून को जारी प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है कि कारिस सबसे बढ़कर काथलिक कारिस्माटिक नवीनीकरण की एक सेवा है जिसमें इस समय विश्व के 120 मिलियन काथलिक लोग जुड़े हैं जो बपतिस्मा में प्राप्त पवित्र आत्मा का अनुभव विभिन्न प्रार्थना दलों, समुदायों, सुसमाचार प्रचार के स्कूलों, संचार माध्यमों एवं प्रेरिताई के अन्य कार्यों द्वारा करते हैं।

"कारिस" का उद्देश्य 

कारिस का उद्देश्य है सभी लोगों के बीच राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एकता को बढ़ावा देना। यह बपतिस्मा में पवित्र आत्मा की कृपा, ख्रीस्तियों की एकता के कार्यों, गरीबों की सेवा और कलीसिया में सुसमाचार के मिशन में सहभागी होने पर जोर देती है।

कारिस को शुरू करने के उपलक्ष्य में, काथलिक कारिस्माटिक नवीनीकरण के संचालकों की समिति के सदस्यों के लिए, एक अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन, वाटिकन के पौल छटवें सभागार में किया गया है। सम्मेलन 6 और 7 जून को रखा गया है। सम्मेलन के दौरान विश्वभर के करीब 550 संचालक एवं संचालिकाएँ एक साथ आकर प्रार्थना करेंगे एवं पवित्र आत्मा से संचालित होंगे।

8 जून को वे पौल छटवें सभागार में ही संत पापा फ्राँसिस से मुलाकात करेंगे जहाँ संत पापा उन्हें सम्बोधित करेंगे।

अंत में 9 जून को वे वाटिकन स्थित संत पेत्रुस महागिरजाघर के प्राँगण में पेंतेकोस्त पर्व के अवसर पर ख्रीस्तयाग में भाग लेंगे।  

कारिस की स्थापना

कारिस की स्थापना लोकधर्मी, परिवार एवं जीवन के लिए गठित परमधर्मपीठीय परिषद द्वारा की गयी है। इसके पहले अध्यक्ष होंगे बेल्जियम के माननीय जॉन लुक मोएन्स, जो सात बच्चों के पिता हैं और लगभग 45 वर्षों से कारिस्माटिक नवीनीकरण संगठन से जुड़े हैं।        

04 June 2019, 16:46