Cerca

Vatican News
नाबालिगों के संरक्षण के लिए बैठक में संत पापा फ्राँसिस नाबालिगों के संरक्षण के लिए बैठक में संत पापा फ्राँसिस  (ANSA)

नारी कलीसिया की छवि है जो माँ है, संत पापा फ्राँसिस

वाटिकन में "कलीसिया में नाबालिगों की सुरक्षा" बैठक के दोपहर के सत्र के दौरान, संत पापा फ्राँसिस ने कलीसिया की छवि के रूप में महिला पर अपने विचारों को साझा किया।

माग्रेट सुनिता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शनिवार, 23 फरवरी 2019 (वाटिकन न्यूज): संत पापा फ्राँसिस ने "कलीसिया में नाबालिगों की सुरक्षा" बैठक के पहले दिन परिचय भाषण के बाद शुक्रवार के दोपहर के सत्र में प्रतिभागियों को संबोधित किया।

दोपहर के सत्र को डॉ लिंडा घिसोनी ने संबोधित किया। वे आम सभा में बोलने वाली पहली महिला थीं। "डॉ घिसोनी की बात सुनकर," संत पापा ने तुरंत ही टिप्पणी करते हुए कहा, "मैंने कलीसिया को अपने बारे में बोलते हुए सुना।" उन्होंने कहा, " कलीसिया के घावों के बारे में बोलने के लिए एक महिला को आमंत्रित करना कलीसिया को अपने बारे में, अपने घावों के बारे में बोलने के लिए आमंत्रित करना है।"

संत पापा ने कहा, “किसी महिला को बोलने के लिए आमंत्रित करना एक विलक्षण नारीवाद की शैली में प्रवेश नहीं करना है, क्योंकि अंत में हर नारीवाद एक नारी के कपड़ों में एक पुरुषवाद बनकर समाप्त होता है। नहीं, कलीसिया के घावों के बारे में बोलने के लिए एक महिला को आमंत्रित करना कलीसिया को अपने बारे में बोलने के लिए आमंत्रित करना है, उसके पास मौजूद घावों के बारे में बोलने के लिए आमंत्रित करना है और मेरा मानना है कि यह वह कदम है जिसे हमें बड़े दृढ़ निश्चय के साथ उठाना चाहिए: महिला कलीसिया की छवि है, महिला दुल्हन है, वह मां है। यही छवि है। इस छवि के बिना हम ईश्वर के लोगों की बात करेंगे, तो एक संगठन या एक ट्रेड यूनियन के रूप में, लेकिन माता कलीसिया से पैदा हुए परिवार के रूप में नहीं।”

आगे संत पापा ने कहा, “ डॉ. घिसोनी के विचारों का तर्क ठीक एक माँ का था और यह उस कहानी के साथ समाप्त हुआ जब एक महिला एक बच्चे को जन्म देती है। यह माता कलीसिया का रहस्य है जो दुल्हन और माँ है। कलीसिया में महिलाओं को अधिक कार्य देने का सवाल नहीं है - हाँ, यह अच्छा है, लेकिन यह नहीं है कि समस्या का हल कैसे हो - यह हमारी सोच में महिला की छवि के रूप में कलीसिया को एकीकृत करना है...और कलीसिया को महिला की श्रेणियों में लाते हुए विचार करना है।”  

अंत में संत पापा ने उनकी गवाही के लिए धन्यवाद दिया।

23 February 2019, 17:46