बेटा संस्करण

Cerca

Vatican News
सिनॉड के प्रतिभागी सिनॉड के प्रतिभागी 

युवा बेकार नहीं बल्कि कम शामिल किये जाते, सिनॉड धर्माध्यक्ष

युवाओं पर धर्माध्यक्षीय धर्मसभा की मंगलवार की प्रेस ब्रीफिंग में, फिलिपींस के महाधर्माध्यक्ष कार्डिनल लुईस अंतोनियो ताग्ले ने कहा कि सिनॉड में उपस्थित युवतियों ने सिनॉड को अधिक विस्तृत क्षितिज प्रदान कीं।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन संचार विभाग के अध्यक्ष डॉ. पाओलो रूफिनी ने बतलाया कि अंतिम दस्तावेज को मंगलवार को सिनॉड धर्माचार्यों के सामने प्रस्तुत किया गया जिसका स्वागत उन्होंने लम्बी ताली बजाकर किया। उन्होंने कहा कि धर्माध्यक्ष बुधवार को अंतिम दस्तावेज के समाकलन के प्रस्ताव को आगे बढ़ायेंगे। उन्होंने कहा कि यह दस्तावेज, "इंस्त्रुमेंतुम लाबोरिस" से भिन्न है किन्तु यह इसके कई मुद्दों को रेखांकित करता है। दस्तावेज के लिए प्रतीक चिन्ह है एम्माऊस के रास्ते पर आध्यात्मिक मुलाकात। उन्होंने यह भी कहा कि एक चिट्ठी तैयार की जा रही है जिसमें युवाओं को सम्बोधित किया गया है।

प्रज्ञा एवं शक्ति हमें आगे ले चलते हैं

करीतास अंतरराष्ट्रीय एवं ओसेनिया के प्रतिनिधि जोसेफ सेपाती मोएओनो कोलियो ने कहा कि सिनॉड द्वारा एक अनोखा अनुभव प्राप्त हुआ है। यह एक ऐसा समय है जिसमें कलीसिया ने विश्व के प्रति अपनी प्रतिबद्धता पर चिंतन किया है। उसने कलीसिया की चुनौतियों पर गौर किया है तथा पूर्ण सक्रियता के साथ उन चुनौतियों का सामना करना चाहता है। उन्होंने बतलाया कि सिनॉड में काथलिक सामाजिक शिक्षा तथा युवाओं को आगे बढ़ाने के लिए किस तरह तैयार किया जाए एवं दुनिया की चुनौतियों का सामना करने में युवाओं को किस तरह शामिल किया जाए आदि विषयों पर विचार किया गया।

सेपाती ने कहा कि सिनॉड उनके लिए समुद्र में एक नाव पर वयोवृद्ध एवं युवाओं के सवार होने के समान लगा, जिसमें वयोवृद्ध  नक्षत्रों को पढ़कर नाव चला सकते हैं जबकि युवाओं में उसे आगे बढ़ाने की ताकत होती है।   

सिनॉड एक स्कूल के समान

म्यानमार के कार्डिनल चार्ल्स मौंग बो ने कहा कि सिनॉड के उपरांत वे व्यक्तगत रूप से म्यानमार की कलीसिया में युवाओं पर अधिक ध्यान देंगे। उन्होंने कहा कि उन्हें महसूस हो गया है कि युवाओं को जैसा होना चाहिए उन्हें नहीं सुना गया है। कलीसिया को यह स्वीकार करना चाहिए कि युवा बेकार नहीं बल्कि उन्हें कम शामिल किया गया है। उनकी आशा है कि पूरी कलीसिया अब युवाओं पर ध्यान देगी तथा सिनॉड की  अनुशंसा को महत्व देगी।

कार्डिनल लुईस अंतोनियो ताग्ले ने कहा कि वे सिनॉड की तुलना करना पसंद नहीं करते हैं। उन्होंने जिन सात सभाओं में भाग लिया वे सभी अनुठे थे। उन्होंने कहा कि सिनॉड एक स्कूल के समान रहा, जहाँ युवा अपने स्वप्नों एवं अकांक्षाओं को बांटते हुए उन्हें पढ़ा रहे थे। जिनमें सबसे महत्वपूर्ण बात थी उनकी कहानियों को सुनना।  

सिनॉड में नारियों की सहभागिता

कार्डिनल ताग्ले ने कहा कि यह एक अलग सिनॉड है जहाँ नारियों की आवाज पर विशेष ध्यान दिया गया। उन्होंने कहा कि सिनॉड में कहा गया कि बाईबिल में निहित महिलाओं की व्याख्या आज के युवाओं के संदर्भ में किया जाना चाहिए। सिनॉड में युवतियों के साक्ष्य ने एक विस्तृत क्षितिज प्रदान की। कार्डिनल ने कहा कि जब हम विविधता की बात करते हैं तब यह न केवल संस्कृति की है बल्कि महिलाओं के खास अनुभव की भी है।   

विस्थापन एवं शिक्षा

कोंगो के महाधर्माध्यक्ष बेनवेनू मानामिका बाफौवकौहौ ने सिनॉड में दस्तावेज को पास करने की क्रिया की तुलना सटेलाईट से की जो युवाओं को धरती पर सिग्नल (मार्गदर्शन) प्रदान करेगा।

उन्होंने कहा कि विश्व के विभिन्न हिस्सों के युवाओं के मुद्दे अलग-अलग थे। उन्होंने कहा कि उनके लिए विस्थापन एक खास मुद्दा था। युवा बेहतर जीवन की तलाश करते हैं किन्तु वे अपने घर से बाहर कर दिये जाते एवं अपनी मातृभूमि से भगा दिये जाते हैं। यह बहुराष्ट्रीय कंपनियों द्वारा पारिस्थितिक तंत्र के अपघटन के कारण हो रहा है। उन्होंने कहा कि कोप 21 अपनी हर प्रतिज्ञा के बावजूद, अपने आप में दृढ़ नहीं है।   

उन्होंने कहा कि दूसरी बड़ी चिंता प्रशिक्षण एवं शिक्षा है। यूरोपीय शिक्षा उन्नत है किन्तु कई अफीकी देशों में इसकी गंभीर समस्या है। इसपर ध्यान दिये जाने की आवश्यकता है ताकि युवा विकास कर सकें तथा अफ्रीकी महादेश में समग्र विकास को जगह मिल सके।  

किताब का विमोचन

ब्रीफिंग के दौरान जेस्विट फादर अंतोनियो स्पादारो ने कहा कि आज शाम किताब का विमोचन किया जाएगा जहाँ संत पापा उपस्थित होंगे तथा युवाओं के सवालों का उत्तर देंगे। किताब का शीर्षक है "समय की प्रज्ञा को बांटना"। इसका उद्देश्य है पीढ़ियों के बीच खाई को भरना तथा उन्हें एक-दूसरे से जोड़ना। उन्होंने कहा कि संत पापा किताब के साथ तीन तरह से जुड़े हैं- संत पापा ने इसकी प्रस्तावना लिखी है, उन्होंने एक वयोवृद्ध व्यक्ति के रूप में अपना अनुभव साझा किया है तथा कहानियों के आरम्भ में आध्यात्मिक मार्गदर्शन दिया है।  

24 October 2018, 16:29