बेटा संस्करण

Cerca

Vatican News
संत पापा फ्राँसिस संत पापा फ्राँसिस  (AFP or licensors)

ड्रग्स और उत्पीड़न-धर्मसभा में भूले हुए मुद्दे, प्रेस ब्रीफिंग

दैनिक प्रेस ब्रीफिंग के दौरान भूल गए दो मुद्दों को वहाँ मौजूद सिनॉड के धर्मध्यक्षों ने संबोधित किया।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, बुधवार,17 अक्टूबर 2018 ( वाटिकन न्यूज) :  मंगलवार 6 अक्टूबर को धर्मसभा के प्रेस ब्रीफिंग के दौरान वाटिकन संचार  विभाग के प्रीफेक्ट डा. पावलो रुफिनी ने कहा कि इंन्सट्रुमेंटुम लबोरिस के दूसरे भाग पर काम पूरा हो गया। उन्होंने प्रवासन, स्वतंत्रता, यौन नैतिकता, दुनिया में बुराई का रहस्य, न्याय और मानव गरिमा के लिए लड़ाई जैसे मुद्दों का उल्लेख किया। उन्होंने यह भी कहा कि युवा लोगों को पाखंड पसंद नहीं है। उन्होंने कहा कि कुछ विचार साझा किए गए थे जैसे दुनिया के विभिन्न हिस्सों से पल्लियों को एक साथ लाना ताकि विभिन्न स्थानों के युवा लोग अपनी जानकारी साझा कर सकें और विभिन्न संदर्भों के बारे में जान सकें। उन्होंने यह भी कहा कि एक सुझाव था कि पल्ली की संरचनाएं बदली जाएं ताकि युवा लोगों को स्थानीय पल्ली में घर-सा माहौल मिले।

ड्रग्स

ब्राजील के महाधर्माध्यक्ष जैम स्पेंगलर ओ.एफ.एम. ने कहा कि सिनॉड ने कई चीजों के बारे में बात की है लेकिन ड्रग्स के मुद्दे को पर्याप्त रूप से संबोधित नहीं किया है। ब्राजील में यह मुद्दा कई लोगों और परिवारों को प्रभावित करता है। उन्होंने कहा कि यद्यपि तुलना करना उतना ठीक नहीं है फिर भी इस बात को बताना जरुरी है कि सीरिया के युद्ध में जितने लोगों को मार दिया जाता है उससे कहीं ज्यादा ब्राजील में ड्रग्स लोगों को मार रहा है। युवा लोग ड्रग्स के शिकार हैं।

महाधर्माध्यक्ष जैम ने कहा कि सरकार कुछ प्रकार के ड्रग्स की छूट देना चाहती है। यह व्यसन को बढ़ावा देने की तरह है। राज्य और समाज पीड़ित युवाओं की मदद करने के लिए प्रतिबद्ध नहीं है। कई युवा ड्रग्स को छोड़ना चाहते हैं पर इसे छोड़ना बहुत मुश्किल लगता है।

उन्होंने कहा कि कलीसिया इस क्षेत्र में असाधारण काम कर रही है और युवा लोगों को ड्रग्स को छोड़ने में मदद करने का हर संभव प्रयासरत है। उन्होंने आग्रह किया कि सिनॉड ड्रग्स की क्रूर वास्तविकता को न भूलें। उन्होंने कहा कि नशीली दवाओं के डीलर मौत को लाते हैं। वहाँ एक भी परिवार को ढूंढना मुश्किल है जो इस समस्या का सामना न करता हो।

धर्मसतावट

बाबुल की खलदेई कलीसिया के प्रमुख कार्डिनल लुई राफेल साको ने कहा कि इंस्ट्रूमेंटुम लबोरिस में कई मुद्दों पर चर्चा की गई पर उसे दुःख है कि सताए गए युवा ख्रीस्तियों का कोई जिक्र नहीं है।

सताए गए ख्रीस्तियों की सहायता पर उठे सवाल पर कार्डिनल ने कहा कि उनकी सहायता के लिए कई वादे किये गये, लेकिन कुछ भी ठोस रुप से कार्य नहीं हुआ है। उन्होंने कहा कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय को ख्रीस्तियों को वहाँ रहने में मदद करनी चाहिए, उनके घरों की मरम्मत करने और काम शुरु करने में मदद करें और उन्हें आशा दें। इराक की तरह देशों को खाली करना एक प्राणघातक पाप है। यदि ख्रीस्तीय अपना देश छोड़ना जारी रखते हैं तो वे अपनी पहचान और विरासत खो देंगे। उन्होंने कहा कि हंगरी ने इराक और सीरिया में ख्रीस्तियों को अपने घरों, स्कूलों और गिरजाघरों का पुनर्निर्माण करने में महत्वपूर्ण योगदान दिया है।

उन्होंने कहा कि धर्माध्यक्षों और पुरोहितों की सबसे बड़ी ज़िम्मेदारी सभी युवाओं के सपनों, आशाओं और दुःखों को सुनना है।

कार्डिनल साको ने कहा कि युवा लोग पुरोहिताई या धर्मसंघी जीवन या शादी जीवन के प्रति प्रतिबद्धता से डरते हैं। उन्हें डर है कि उनकी प्रतिबद्धता असफल हो जाएगी।

एक स्कूल या नियमावली के रूप में सिनॉड

कार्डिनल साको ने कहा कि सिनॉड एक ऐसे स्कूल की तरह है जिसमें हर कोई एक दूसरे से सीखता है। उन्होंने कहा कि सिनॉड एक भाषा की तलाश कर रही है जो युवाओं से बात कर सके। उन्होंने ध्यान दिलाया कि अक्सर कलीसिया पारंपरिक भाषा का उपयोग करती है लेकिन इस परिवेश में युवाओं के लिए नई भाषा की आवश्यकता है। कार्डिनल ने चिंता व्यक्त की कि सिनॉड में बहुत कम युवा लोग हैं। उन्हें और अधिक युवाओं के उपस्थित होने की उम्मीद थी।

समग्र मानव विकास हेतु गठित परमधर्मपीठीय विभाग के अध्यक्ष कार्डिनल पीटर टर्कसन ने सिनॉड के काम का वर्णन करने के लिए "नियमावली" की छवि का उपयोग किया। सिनॉड एक सभा की तरह है जिसमें धर्माध्यक्षों के साथ युवा लोग जीवन के लिए नियमों को लिख रहे हैं। उन्होंने कहा कि युवा लोग नियमावली लिखते हैं, इसलिए उन्हें काथलिक सामाजिक शिक्षा जैसे मूल्यों द्वारा निर्देशित किया जाता है। उन्होंने कहा कि इन सिद्धांतों से उन्हें अपने जीवन के लिए बुनियादी आधार हेतु मदद मिलेगी।

17 October 2018, 16:10