बेटा संस्करण

Cerca

Vatican News
धर्मसभा में संत पापा फ्रांसिस धर्मसभा में संत पापा फ्रांसिस  (AFP or licensors)

अंतिम दस्तावेज युवाओं से क्या कहता हैॽ

शनिवार दोपहर को युवा पर चल रही धर्माध्यक्षों की 15वीं धर्मसभा ने 60 पृष्ठों के दस्तावेज को स्वीकृति प्रदान किया जो 3 भागों में विभक्त है जिसमें 12 अध्याय और 167 परिछेद हैं।

दिलीप संजय एक्का-वाटिकन सिटी

“युवा, विश्वास और बुलाहटीय आत्मा-परीक्षण” की विषयवस्तु पर समापदित हुई धर्माध्यक्षों की 15वीं धर्मसभा के अंतिम दस्तावेज को कार्डिनल सेरजियो दा रोका ने धर्मसभा में 27 अक्टूबर को स्वीकार किया।

कार्डिनल रोका ने कहा कि यह दस्तावेज धर्मसभा में सहभागी हुए धर्माध्यक्षों और विश्व के युवाओं का प्रतिनिधित्व कर रहें “विशेष रूप से युवाओं की सहभागिता” में हुए “एकजुटता के कार्य का प्रतिफल है।” इस दस्तावेज में इस तरह 364 परिवर्तन या सुधार निर्देशित किये गये। कार्डिनल ने कहा, “उनमें अधिकतर सटीक और रचनात्मक थे।” धर्माध्यक्षीय धर्मसभा ने इस दस्तावेज को दो तिहाई बहुमत से पारित किया।

युवाओं की विषयवस्तु पर धर्मसभा के अंतिम दस्तावेज की प्रेरणा संत लूकस रचित सुसमाचार, एम्माऊस के शिष्यों की घटना पर आधारित है। दस्तावेज को धर्मसभा के सभागार में कार्डिनल सेरजियो दा रोका, धर्मसभा के विशेष सचिवों पुरोहित जाकोमों कोस्टा और रोसानो साला के आलवे धर्माध्यक्ष ब्रुनो फोर्ते मसौदे आयोग के एक सदस्य ने पढ़ कर सुनाया। तीन उप-खण्डों में विभक्त यह दस्तावेज इन्त्रुमेनतुम लाबोरिस का पूरक है।

प्रथम भागः “वे हमारे साथ चलें”

दस्तावेज का प्रथम भाग ठोस रुप से युवाओं के जीवन पर आधारित है। यह उनके जीवन में विद्यालय और पल्लियों के महत्व पर जोर देता है। यह लोकधर्मियों के परिशिक्षण पर बल देता जिससे वे युवाओं का साथ दे सकें क्योंकि कलीसिया में पुरोहित और धर्माध्यक्ष के ऊपर पहले ही बहुत से उत्तरदायित्वों का बोझ है। यह भाग ख्रीस्तीय प्रशिक्षण संस्थानों की महत्वपूर्ण भूमिका पर बल देता है। इस भाग की में पल्लियों के लिए चुनौती यह है वे प्रेरितिक बुलाहटीय धर्मशिक्षा को प्रभावशाली और नये रुप में किस तरह पेश करें।

इस भाग में युवाओं के संबंध में प्रवास,यौन दुराचार, “फेंकने की संस्कृति” का भी उल्लेख है। यौन दुराचार के संबंध में यह खण्ड कठोर निवारक उपायों को अपनाने के लिए दृढ़ प्रतिबद्धता का जिक्र करता है जिससे इसकी पुनरावृत्ति न हो। यह कलीसिया में नेतृत्व का भार अपने ऊपर लेने वालों के परिशिक्षण की चर्चा करता है। कला की दुनिया, संगीत और खेल-कूद का भी जिक्र इस भाग में है जो प्रेरिताई कार्यो के लिए उपयोगी हैं।  

दूसरा भागः “उनकी आंखें खुल गईं”

धर्मसभा का दस्तावेज युवाओं को “ईशशस्त्रीय स्थल” में बुलाता है जहाँ येसु उनके लिए अपने को प्रस्तुत करते हैं। युवाओं का धन्यवाद क्योंकि वे कलीसिया कलीसिया को अपनी “भारीपन और धीरे जाने की प्रवृति” का परित्याग करने में मदद करते हैं। यह हमारे जीवन को एक बुलाहट के रुप में देखने हेतु मदद करती है।

दस्तावेज के दूसरे भाग में दो बातें मुख्य रुप से देखने को मिलती हैं, प्रेरिताई कार्य के विकास में सहायता और युवा की बुलाहट में साथ देना और उनका आत्मपरीक्षण।

तीसरा भागः “वे शीघ्र चल पड़े”

धर्मसभा के धर्माध्यक्षगण इस भाग में कलीसिया में मरिया मगदलेना के रुप को प्रस्तुत करते हैं जो पुनरूत्थान का प्रथम साक्ष्य देती है। युवा, धर्माध्यक्ष और अन्य जो अपने जीवन में विभिन्न तरह के विचार रखते सभी ईश्वर के हृदय में रहते हैं।

“साथ चलने” को धर्मसभा तीन आयामों में दस्तावेज के तीसरे खण्ड में व्यक्त करता है। धर्मसभा विश्व के धर्माध्यक्षों के सम्मेलनों का आहृवान करते हुए कहा है कि वे आत्म-परीक्षण की प्रक्रिया को जारी रखें जिससे विशिष्ट प्रेरितिक समाधान का विकास किया जा सके। “सिनॉडलिटी” प्रेरिताई की शैली को परिभाषित करते हुए “मैं” को “हम” के रुप में प्रोत्साहित किया गया है जहाँ सभों के लिए एक स्थान है। धर्मसभा में “युवा प्रेरिताई कार्य हेतु दिशा निर्देश” की बात बरांबार दुहराई गई जो राष्ट्रीय स्तर पर पुरोहितों को युवाओं “के लिए” और “के साथ” उनके परिशिक्षण में मदद करेगा।

धर्मसभा ने परिवार और ख्रीस्तीय समुदायों को इस बात की याद दिलाई है कि वे युवाओं में उन्हें मिले यौवन उपहार को खोजने में साथ दें। धर्माध्यक्षों ने इस संबंध में यह स्वीकार किया कि कलीसिया यौवन उपहार के दर्शन को प्रसारित करने में कठिनाई का अनुभव करती है। दस्तावेज कहता है कि यह हमारे लिए अनिवार्य है कि हम इसे उचित रुप में अनुवादित करें जो ठोस रुप में हमारे लिए एक नये मार्ग को विकसित करेगा।

अंत में दस्तावेज अन्य कई बातों का जिक्र करता है जैसे कि पवित्रता के लिए बुलाहट। पवित्रता के द्वारा हम सभी अपने को सुसमाचार के प्रति निष्ठावान बनाये रहेंगे। 

29 October 2018, 17:22