खोज

दक्षिण सूडान में सन्त पापा फ्राँसिस के स्वास्थ्य एवं यात्रा के लिये प्रार्थना समारोह, तस्वीरः 21.06.2022 दक्षिण सूडान में सन्त पापा फ्राँसिस के स्वास्थ्य एवं यात्रा के लिये प्रार्थना समारोह, तस्वीरः 21.06.2022   (South Sudan Catholic Bishops Conference)

सन्त पापा फ्राँसिस कॉन्गो गणराज्य, दक्षिण सूडान की करेंगे यात्रा

वाटिकन स्थित परमधर्मपीठीय प्रेस कार्यालय ने गुरुवार को घोषणा की कि सन्त पापा फ्राँसिस आगामी 31 जनवरी से 05 फरवरी 2023 तक कॉन्गो गणराज्य तथा दक्षिण सूडान की प्रेरितिक यात्रा करेंगे। इस यात्रा को एकतावर्द्धक शांति तीर्थयात्रा का नाम दिया गया है।

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफर-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शुक्रवार, 2 दिसम्बर 2022 (रेई, वाटिकन रेडियो): वाटिकन स्थित परमधर्मपीठीय प्रेस कार्यालय ने गुरुवार को घोषणा की कि सन्त पापा फ्राँसिस आगामी 31 जनवरी  से 05 फरवरी 2023 तक कॉन्गो गणराज्य तथा दक्षिण सूडान की प्रेरितिक यात्रा करेंगे। इस यात्रा को एकतावर्द्धक शांति तीर्थयात्रा का नाम दिया गया है।

ग़ौरतलब है कि कॉन्गो गणराज्य तथा दक्षिण सूडान में सन्त पापा फ्राँसिस की प्रेरितिक यात्रा 2022 के ग्रीष्मकाल में निर्धारित की गई थी किन्तु स्वास्थ्य सम्बन्धी कारणों से यह मुल्तवी कर दी गई थी।

किंगशासा और जूबा में

गुरुवार को प्रकाशित एक वकतव्य में परमधर्मपीठीय प्रेस ने कहा, "कॉन्गो लोकतांत्रिक गणराज्य तथा दक्षिण सूडान के राष्ट्राध्यक्षों और धर्माध्यक्षों के निमंत्रण को स्वीकार करते हुए, सन्त पापा फ्राँसिस 31 जनवरी से 3 फरवरी 2023 तक कॉन्गो लोकतांत्रिक गणराज्य की घोषित प्रेरितिक यात्रा करेंगे तथा किंशासा शहर का दौरा करेंगे। साथ ही, 3 फरवरी से 5 फरवरी तक वे कैंटरबरी के महाधर्माध्यक्ष एवं चर्च ऑफ स्कॉटलैंड की महासभा के मॉडरेटर के साथ दक्षिण सूडान के जूबा शहर में एकतावर्द्धक शांति तीर्थयात्रा को अन्जाम देंगे।"  

कॉन्गो लोकतांत्रिक गणराज्य में सन्त पापा मानवतावादी लोकोपकारी संगठनों के प्रतिनिधियों से मुलाकात करेंगे तथा दक्षिण सूडान में आंतरिक रूप से विस्थापित व्यक्तियों के साथ एक बैठक तथा ख्रीस्तीय एकतावर्द्धक प्रार्थना समारोह उक्त यात्रा के प्रकाशस्तम्भ हैं।

निर्धारित कार्यक्रम

परमधर्मपीठीय प्रेस कार्यालय द्वारा प्रकाशित कार्यक्रम के अनुसार, 31 जनवरी 2023 को सन्त पापा फ्राँसिस रोम से किंशासा शहर के लिये प्रस्थान करेंगे तथा वहाँ कॉन्गो गणराज्य के राष्ट्रपति के साथ औपचारिक मुलाकात के उपरान्त वरिष्ठ प्रशासनिक एवं नागर अधिकारियों तथा देश में सेवारत राजनयिक कोर को अपना सन्देश देंगे।

पहली फरवरी के दिन वे किंशासा के एनदोलो हवाई अड्डे पर युद्ध पीड़ितों एवं उनके परिजनों के लिये ख्रीस्तयाग अर्पित करेंगे तथा लोकोपकारी सेवाओं में संलग्न संगठनों के प्रतिनिधियों से मुलाकात करेंगे। 02 फरवरी को किंशासा में ही युवाओं, धर्मशिक्षकों तथा पुरोहितों, धर्मसमाजियों एवं धर्मसंघियों के संग प्रार्थना समारोह का आयोजन है जिसके उपरान्त सन्त पापा किंशासा स्थित प्रेरितिक राजदूतावास में येसु धर्मसमाज के सदस्यों से मिलेंगे।  

03 फरवरी को किंशासा में कॉन्गो गणराज्य के काथलिक धर्माध्यक्षों से मुलाकात के उपरान्त सन्त पापा फ्राँसिस दक्षिण सूडान की राजधानी जूबा के लिये प्रस्थान करेंगे। जूबा में कैंटरबरी के महाधर्माध्यक्ष एवं चर्च ऑफ स्कॉटलैंड की महासभा के मॉडरेटर भी उनके साथ होंगे। इसी दिन दक्षिण सूडान के राष्ट्रपति तथा देश के वरिष्ठ प्रशासनिक एवं नागर अधिकारियों से मुलाकात तय की गई है।

04 फरवरी को राष्ट्र के धर्माध्यक्षों एवं याजकवर्ग के प्रतिनिधियों के साथ मुलाकात  तथा येसु धर्मसमाज के सदस्यों के साथ मुलाकात निर्धारित है। इसी दिन सन्ध्या सन्त पापा देश में आन्तरिक रूप से विस्थापित हुए लोगों को अपना आशीर्वाद प्रदान कर एक प्रार्थना समारोह की अध्यक्षता करेंगे।

05 फरवरी को प्रेरितिक यात्रा का अन्तिम दिन है। इस दिन सन्त पापा जूबा शहर स्थित जॉन गारांग समाधि स्थल पर ख्रीस्तयाग अर्पित करने के उपरान्त रोम की वापसी यात्रा तय करेंगे। 05 फरवरी की सन्ध्या वे रोम के फ्यूमीचीनो अन्तरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर पुनः लौटेंगे।

Thank you for reading our article. You can keep up-to-date by subscribing to our daily newsletter. Just click here

02 December 2022, 12:05