खोज

एक परिवार के साथ सन्त पापा फ्राँसिस (प्रतीकात्मक तस्वीरः 24.10.2022) एक परिवार के साथ सन्त पापा फ्राँसिस (प्रतीकात्मक तस्वीरः 24.10.2022)  (ANSA)

इताली परिवार संघों के मंच से सन्त पापा फ्राँसिस

संत पापा फ्राँसिस ने शुक्रवार को वाटिकन में इताली परिवार संघों के मंच के सदस्यों से मुलाकात कर इनके प्रति हार्दिक धन्यवाद ज्ञापित किया जो इटली में पारिवारिक मूल्यों के प्रचार के प्रति समर्पित हैं तथा समय-समय पर इताली परिवारों की ज़रूरतों को उजागर करते हैं।

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफर-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शुक्रवार, 2 दिसम्बर 2022 (रेई, वाटिकन रेडियो): संत पापा फ्राँसिस ने शुक्रवार को वाटिकन में इताली परिवार संघों के मंच के सदस्यों से मुलाकात कर इनके प्रति हार्दिक धन्यवाद ज्ञापित किया जो इटली में पारिवारिक मूल्यों के प्रचार के प्रति समर्पित हैं तथा समय-समय पर इताली परिवारों की ज़रूरतों को उजागर करते हैं। 

परिवार का आनन्द

सन्त पापा ने परिवार मंच के सदस्यों से कहा कि वे उनमें परिवार होने के आनन्द का साक्ष्य देखते हैं, जिसका सन्देश सन्त पापा फ्राँसिस ने अपने विश्व पत्र "आमोरिस लेतित्सिया" में देना चाहा है। सन्त पापा ने कहा कि परिवार में सुखी रहने का यह अर्थ नहीं कि सबकुछ कुशलपूर्वक है कि समस्याएं तो बनी ही रहती हैं। उन्होंने कहा कि पारिवारिक जीवन सुख और दुख दोनों का मिलन है, इसमें कठिनाइयाँ आती किन्तु सुखपूर्ण क्षण भी आते हैं। 

सन्त पापा ने कहा कि सुख में और दुख में भी परिवार को एकता में बाँधे रखना एक वरदान है जिसके लिये सतत् प्रार्थना के साथ-साथ समर्पण की आवश्यकता होती है। उन्होंने स्मरण दिलाया कि प्रत्येक परिवार की परिस्थितियाँ भिन्न होती हैं, प्रत्येक परिवार का इतिहास अलग-अलग होता है तथापि परिवार ही वह स्थल है जहाँ बच्चे माता-पिता, नाना-नानी तथा दादा-दादियों से सादगी, सेवा और स्वागत-सत्कार की सीख पाते हैं।  

अच्छी राजनीति को प्रोत्साहन

एक दूसरा पहलू जिसके लिये सन्त पापा ने परिवारों के संघ के प्रति धन्यवाद ज्ञापित किया वह यह कि परिवारों का संघ परिवारों के लिए एक अच्छी राजनीति को प्रोत्साहित करने का काम करता है, एक ऐसी नीति जो कलीसिया के सिद्धान्तों से मेल खाती है। उन्होंने कहा, "अच्छी राजनीति के लिये ज़िम्मेदार संस्थानों के संवाद कर आप किसी एक पार्टी अथवा अभ्यर्थी की सेवा नहीं करते बल्कि सम्पूर्ण समाज की सेवा करते हैं और जिसके लिये काथलिक कलीसिया का आपको पूर्ण समर्थन प्राप्त है।" 

सन्त पापा ने कहा कि परिवारों के संघ का यह दूसरा पहलू पहले का पूरक है। वास्तव में, उन्होंने कहा, "एक ख्रीस्तीय परिवार कभी भी अपने आप में बंद नहीं हो सकता; वह यह नहीं कह सकता: हम ठीक हैं, दूसरे अपने आप को संभालें! उन्होंने कहा, ख्रीस्तीय परिवार घर के बाहर क्या होता है, इसके प्रति उदार और चौकस रहता है, वह आस-पड़ोस की स्थितियों से लेकर सजग रहता तथा हर स्थिति में अन्यों की सहायता को तैयार रहता है, केवल अपने देश के लोगों के लिये ही नहीं अपितु सम्पूर्ण समाज, देशों और अन्य महाद्वीपों के परिवारों के लिये भी उदार रहता है।"

उन्होंने कहा कि परिवार भ्रातृत्व और सामाजिक मित्रता का एक कारक है, जिसकी जड़ें एक क्षेत्र में होते हुए भी सम्पूर्ण विश्व के लिए खुली रहती हैं।

Thank you for reading our article. You can keep up-to-date by subscribing to our daily newsletter. Just click here

02 December 2022, 12:14