खोज

संत पापा बेनेडिक्ट सोलहवें संत पापा बेनेडिक्ट सोलहवें   (ANSA)

ईश्वर प्रेम हैं- पोप बेनेडिक्ट16वें के परमधर्माध्यक्षीय काल का सार

घोटालों और कैरियर के मध्य सेवानिवृत संत पापा बेनेडिक्ट सोलहवें ने कलीसिया में परिवर्तन, तपस्या और नम्रता का आह्वान करना बंद नहीं किया, उन्होंने कलीसिया को दुनियादारी, भौतिकता और राजनीतिक विशेषाधिकारों से मुक्त रहने की सुझाव प्रस्तुत किये।

अद्रेया तोरनेल्ली

संत पापा बेनेडिक्ट 16वें के परमाध्यक्षीय काल के आकलन के लिए, कोई भी उनके इस्तीफे से शुरू नहीं कर सकता, जिसकी घोषणा उन्होंने अचानक 11 फरवरी 2013 को विस्मित कार्डिनलों के सम्मुख लातीनी भाषा में एक छोटे वाक्यांश के साथ किया। कलीसिया के इतिहास में दो सदियों में कभी ऐसा नहीं हुआ था जब किसी संत पापा ने शारीरिक असमर्थता के कारण परमाध्यक्षीय पदभार का त्याग किया हो। जो भी हो, पत्रकार पीटर सीवाल्ड को तीन साल पहले दिये एक साक्षात्कार, जिसको संसार की ज्योति” शीर्षक किताब में प्रकाशित किया गया है, जिसमें उन्होंने इसका संकेत दिया था, उन्होंने कहा था, “जब एक संत पापा को महसूस हो जाता है कि वह शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक रूप से अपने कर्तव्यों को नहीं कर पा रहा है, तब उसे अधिकार है और कुछ हद तक उसका कर्तव्य भी है कि वह इस्तीफा दे दे।” उनकी सेवानिवृति अत्यन्त महत्वपूर्ण एक ऐतिहासिक मिसाल है, लेकिन संत पापा बेनेडिक्ट को सिर्फ इसी के लिए याद किया जाना भी अपने में न्यायसंगत नहीं होगा।  

महासभा में “किशोर” ईशशास्त्री  

सन् 1927 में जन्में, एक सिपाही के बेटे, बावेरिया के एक साधारण एवं अच्छे काथलिक परिवार में पले-बढ़े, जोसेफ रात्जिंगर, पिछली सदी में कलीसिया के एक महान नायक थे। 1951 में अपने बड़े भाई जॉर्ज के साथ पुरोहित अभिषेक प्राप्त करने के दो साल बाद वे ईशशास्त्र में डॉक्टर की उपाधि हासिल की और सन् 1957 में डॉगमैटिक ईशशास्त्र में शिक्षण योग्यता प्राप्त की। उन्होंने फ्रीजिंगबॉनमुंस्टरट्यूबिंगन और अंत में रेगेन्सबर्ग में शिक्षण का कार्य किया। द्वितीय वाटिकन महासभा के काम में व्यक्तिगत रूप से शामिल होने वाले वे अंतिम संत पापा हैंजिन्होंने उस समय एक बहुत ही युवा और सम्मानित ईशशास्त्री के रूप में, कोलोन के कार्डिनल फ्रिंज के एक विशेषज्ञ के रूप में सुधार विभाग के करीब महासभा में भाग लिया था। वे उन लोगों में से एक हैं जो रोमन कूरिया द्वारा तैयार की गई प्रारंभिक योजना को धर्माध्यक्षों के फैसले पर बदल दिया। युवा ईशशास्त्री रात्जिंगर के लिए, दस्तावेज को “सबसे जरूरी सवालों का जवाब देना चाहिए और जहाँ तक ​​​​संभव हो उन्हें पूरा करना चाहिए, न्याय करने और दोष देने के द्वारा नहीं बल्कि मातृत्व की भाषा का प्रयोग करते हुए। रात्जिंगर ने आनेवाले धर्मविधिक (लिटरजिकल) सुधार और इसकी संभावित अनिवार्यता के कारणों की प्रशंसा की थी। उनका कहना था कि धर्मविधि के सच्चे स्वरूप की पुनः खोज करने के लिए जरूरी है कि “लातीनी (भाषा) की दीवार को फैलाया जाए।”

वायतिला के साथ विश्वास के रक्षक

लेकिन भावी संत पापा बेनेडिक्ट 16वें ने महासभा के बाद के संकट, विश्वविद्यालयों और धार्मिक संकायों में विरोध प्रदर्शन को सीधे रूप में देखा। उन्होंने विश्वास की मूल सच्चाई के सवाल और धर्मविधि के क्षेत्र में उसके गलत प्रयोग को भी देखा। उन्होंने बतलाया कि महासभा समाप्ति के बाद सन् 1966 में, उन्होंने “ख्रीस्तीयता के मूल्यों में न्यूनतम” को भी देखा।

संत पापा पौल छटवें ने 1977 में पच्चास साल की उम्र में उन्हें मोनाको का महाधर्माध्यक्ष नियुक्त किया और कुछ ही सप्ताह बाद कार्डिनल बनाया। नवम्बर 1981 में संत पापा जॉन पौल द्वितीय ने उन्हें विश्वास के सिद्धांत के लिए गठित परमधर्मपीठीय धर्मसंघ के नेतृत्व की जिम्मेदारी सौंपी। यह पोलिश संत पापा और बवेरियन ईशशास्त्री के बीच एक मजबूत सहयोग की शुरुआत थीजो केवल वायतिला (संत पापा जॉन पॉल द्वितीय) की मृत्यु से समाप्त हुईजो खुद को उनसे वंचित नहीं करने के लिए, रात्जिंगर के इस्तीफे को अंत तक अस्वीकार करते। ये ही साल हैं जिनमें विश्वास के सिद्धांत के लिए गठित परमधर्मपीठीय धर्मसंघ ने कई विषयों को पूर्ण विराम दिया। इसने मुक्ति ईशशास्त्र की रफ्तार को धीमा किया जो मार्क्सवादी विश्लेषण का प्रयोग करता तथा प्रमुख नैतिक समस्याओं को उभरने का सामना करता है। उनका सबसे महत्वपूर्ण कार्य निश्चित रूप से काथलिक कलीसिया की नई धर्मशिक्षा हैएक ऐसा कार्य जो छह साल तक चलाजो सन् 1992 में प्रकाशित हुआ।

“दाखबारी के विनम्र कार्यकर्ता”  

संत पापा जॉन पॉल द्वितीय की मृत्यु के बाद, 2005  के कॉन्क्लेव ने 24  घंटे से भी कम समय में सर्व सहमति से 78  वर्षीय एक बुजुर्ग सम्मानित व्यक्ति का चुनाव किया। संत पेत्रुस महागिरजाघर के झरोखे से संत पापा बेनेडिक्ट 16वें खुद को “प्रभु की दाखबारी में एक विनम्र कार्यकर्ता” के रूप में प्रस्तुत करते हैं। वे कहते हैं कि उनके पास कोई "कार्यक्रम" नहीं है, लेकिन वे “पूरी कलीसिया के साथ, प्रभु के वचन और इच्छा को सुनना” चाहते हैं।

ऑशविट्ज़ और रेगेन्सबर्ग

शुरू में शर्मीले, संत पापा बेनेडिक्ट 16वें ने यात्रा करना नहीं छोड़ा: वे भी अपने पूर्ववर्ती की तरह एक भ्रमणशील परमाध्यक्ष बने। सबसे मर्मस्पर्शी क्षण, मई 2006 में ऑशविट्ज़ की यात्रा थी, जर्मन संत पापा कहते हैं: “इस तरह की जगह में शब्द विफल हो जाते हैं, अंत में केवल एक सन्नाटा रह जाता है - एक मौन जो अंदर से ईश्वर के लिए रोता है: आपने यह सब क्यों बर्दाश्त कियाॽ” 2006 रेगेन्सबर्ग मामले का वर्ष भी है, जब मोहम्मद के बारे में एक प्राचीन मुहावरा जिसे संत पापा ने उस विश्वविद्यालय में उद्धृत किया था जहां वे एक शिक्षक थे, इस्लामी दुनिया ने इसपर विरोध किया जाता है। तब से संत पापा ने मुसलमानों के प्रति ध्यान के संकेतों को बढ़ा दिया। संत पापा बेनेडिक्ट 16वें कठिन यात्राओं का सामना करते हैं, गैर-ख्रीस्तीय समाजों के तेजी से बढ़ते धर्मनिरपेक्षीकरण और कलीसिया के भीतर असंतोष का सामना करते हैं। उन्होंने जॉर्ज बुश जूनियर के साथ व्हाइट हाउस में अपना जन्मदिन मनाया और कुछ दिनों बाद, 20 अप्रैल 2008  को,  उन्होंने ग्राउंड ज़ीरो पर  सितंबर 2001 (ट्विन टावर हमला)  के पीड़ितों के रिश्तेदारों को गले लगाते हुए प्रार्थना की।

आनंद पर विश्वपत्र

हालांकि विश्वास के सिद्धांत के लिए गठित परमधर्मपीठीय धर्मसंघ के पूर्व प्रीफेक्ट के रूप में उन्हें अक्सर “पेंजरकार्डिनल” (टैंक कार्डिनल) के रूप में उपनाम दिया गया था, संत पापा के रूप में उन्होंने लगातार “ख्रीस्तीय होने की खुशी” की बात की और ईश्वर के प्यार के लिए अपना पहला विश्वपत्र “देउस कारितास एस्त” (ईश्वर प्रेम है) समर्पित किया। वे लिखते हैं, “एक ख्रीस्तीय होना शुरु में एक नैतिक निर्णय या एक महान विचार नहीं है, लेकिन एक घटना के साथ, एक व्यक्ति के साथ मुलाकात करना है।” उन्होंने येसु नाजरी पर एक किताब लिखने के लिए भी समय निकाला, एक अनूठी कृति जो तीन खंडों में प्रकाशित हुई। संत पापा को याद रखने वाले फैसलों में मोतु प्रोप्रियो शामिल हैं जो पूर्व-परिचित रोमन मिस्सल को उदार बनाता है और अंग्लिकन समुदायों को रोम के साथ एकता में लौटने की अनुमति देने के लिए एक अध्यादेश की स्थापना करता है। जनवरी 2009 में संत पापा ने चार धर्माध्यक्षों के बहिष्कार को हटाने का फैसला किया, जो मोन्सिन्योर मार्सेल लेफेब्वेरे द्वारा अवैध रूप से नियुक्त किए गए थे, जिसमें धर्माध्यक्ष रिचर्ड विलियमसन भी शामिल थे, जो गैस चेंबर को इनकार करते थे। यह यहूदी दुनिया में विवादों का पिटारा खोलता है, इस संदर्भ में संत पापा कलम और कागज उठाते हुए पूरी जिम्मेदारी लेते हुए दुनिया भर के धर्माध्यक्षों को पत्र लिखा।

घोटालओं पर प्रतिक्रिया

संत पापा बेनेदिक्त 16वें के परमधर्माधक्षीय कार्यकाल के अंतिम सालों में पेडोफिलीया और वाटिलीक्स के घोटालें पुनः उभर कर आये, वाटिकन की मेज से दस्तावेजों की चोरी हुई और एक पुस्तक में उसका प्रकाशन किया गया। संत पापा बेनेदिक्त 16वें ने इस समस्याओं के समाधान में दृढ़ता और कठोरता दिखलाई जो कलीसिया के अंदर गंदगी की भांति रहे। उन्हें नाबालिगों के संग दुराचार के संबंध में कठोर कानूनों को पारित करते हुए रोमन कूरिया और धर्माध्यक्षों से आहृवान किया कि वे इन मामलों में अपने मनोभावों को बदलें। इस संबंध में उन्हें यह भी कहा कि कलीसिया में गंभीर सतावट बाहरी शत्रुओं से नहीं आती, बल्कि उसके अंदर व्याप्त पापों के कारण होती है। उनके समय में हम वित्तीय क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण बदलाव को पाते हैं- ये संत पापा बेनेदिक्त 16वें हैं जिन्होंने वाटिकन मनी-लॉन्ड्रिंग विरोधी नियमों की पेशकश की।

“कलीसिया धन और शक्ति से स्वतंत्र”

कलीसिया में घोटालों और कैरियर बनाने के संबंध में, जर्मन बुजुर्ग संत पापा ने निरंतर मन फिराव, तपस्या और नम्रता का आहृवान किया। 2011 के सितम्बर महीने में जर्मनी की अपनी अंतिम यात्रा में उन्हें कलीसिया को इस बात के लिए आहृवान किया कि वह अपने में कम दुनियावी हो- “ऐतिहासिक उदाहरण हमें यह दिखलाते हैं कि “दुनियादारी से अलग एक कलीसिया की प्रेरिताई अपने में सफल दिखलाई देती है”। भौतिक और राजनीतिक बोझ और विशेषाधिकारों से मुक्त, कलीसिया खुद को बेहतर तरीके से समर्पित करते हुए पूरी दुनिया के लिए सच्ची ख्रीस्तीयता का साक्ष्य प्रस्सुत कर करती है, वह सही अर्थ में पूरी दुनिया के लिए खुली हो सकती है ...”।

Thank you for reading our article. You can keep up-to-date by subscribing to our daily newsletter. Just click here

31 December 2022, 13:05