खोज

ओडेसा में तीन हाइपरसोनिक मिसाइलों ने एक होटल को मार गिराया ओडेसा में तीन हाइपरसोनिक मिसाइलों ने एक होटल को मार गिराया  (ANSA)

संत पापा: अगर एक साल तक हथियार नहीं बनाए गए, तो दुनिया की भूख खत्म हो जाएगी

संत पापा फ्राँसिस ने लैटिन अमेरिकी रब्बिनिकल सेमिनरी के एक प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात करते हुए हथियार उद्योग की अपनी निंदा दोहराई और याद दिलाया कि यूक्रेन में मरने वाले लोगों की कीमत पर नए हथियारों का परीक्षण किया जा रहा है। फिर वे कहते हैं कि बाइबिल में न्याय ईश्वर की आराधना करना और दूसरों की सेवा करना है।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, सोमवार 05 दिसम्बर 2022 (वाटिकन न्यूज) : पिछले 2 दिसंबर को वाटिकन में अर्जेंटीना से आने वाले लैटिन अमेरिकी रब्बिनिकल सेमिनरी के एक प्रतिनिधिमंडल से संत पापा फ्राँसिस ने मुलाकात की।  स्पेनिश में दिये गये संत पापा फ्राँसिस के तत्काल भाषण में वर्तमान घटनाओं का एक संदर्भ है। उनके शब्दों में, यूक्रेन में युद्ध के लिए दु:ख है।

संत पापा ने कहा, “यह युद्ध मुझे कष्ट देता है। भाई भाइयों के खिलाफ, लेकिन इतना ही नहीं। यह सोचना कि एक शताब्दी में तीन विश्व युद्ध हुए हैं: 1914 से 1198 तक, 1939 से 1945 तक और अब यह एक। यह सोचना कि अगर एक साल तक कोई हथियार नहीं बना तो दुनिया की भूख खत्म हो जाएगी, क्योंकि मुझे लगता है कि यह सबसे बड़ा उद्योग है। यह सोचें कि युद्ध छेड़ा जाता है जब एक साम्राज्य कमजोर महसूस करता है, इसलिए यह मजबूत महसूस करने के लिए दूसरों को मारता है और नए हथियार बनाने के लिए इसे बेचने या देने के लिए हथियारों का उपयोग करता है। मुझे उन ड्रोनों को देखकर दुख होता है जो यूक्रेन के ऊपर चक्कर लगा रहे होते हैं। लोगों के मरने की कीमत पर वे कौन से नए हथियारों का परीक्षण कर रहे हैं।

भाईचारे की मिसाल

वह प्रश्न जो रोम के धर्माध्यक्ष स्वयं से मनुष्य की नम्रता के बारे में पूछते हैं, उसका उत्तर नबी यिरमियाह के ग्रंथ में पाते हैं। भाइयों के रूप में काम करने का निमंत्रण प्रबल है। क्रूरता की संस्कृति के खिलाफ, आदमी के लिए भेड़िये की संस्कृति के खिलाफ, हम इन पवित्र पुस्तकों के साथ और भाईचारे की मिसाल कायम करते हुए, अपने विश्वास से शुरू करते हैं।

आराधना करना, सेवा करना, मदद करना

संत पापा उन लोगों पर भी ध्यान देते हैं, जो उनके शब्दों पर विचार करते हुए, उन्हें "समाजादी" कहते हैं, क्योंकि वे ईश्वर के बारे में बात करने के बजाय "सामाजिक चीजों के बारे में बात करते हैं।" इसके बजाय, वे रेखांकित करते हैं कि "हृदय का न्याय" बाइबिल में मौजूद है, "यह हमेशा ईश्वर और पड़ोसी के साथ है" इसलिए हम आराधना करते हैं और हम एक दूसरे की सेवा करते हैं और मदद करते हैं।

जो केवल मदद करता है और आराधना नहीं करता है वह एक अच्छा नास्तिक है, इससे ज्यादा कुछ नहीं। जो कोई भी प्यार करता है और मदद नहीं करता है वह निंदक है, झूठा है। दोनों चीजें एक साथ चलती हैं और हमें इसके लिए लड़ना चाहिए, ताकि हमारा विश्वास कार्य बन जाए और हमारे कर्म हमें विश्वास की ओर ले जाएँ। यह एक चक्र है।

नए सामाजिक नेताओं का प्रशिक्षण

संत पापा के साथ मुलाकात के दौरान लैटिन अमेरिकी रैब्बिनिकल सेमिनरी प्रतिनिधिमंडल के "मार्शल टी. मेयर" ने संत पापा को एक सामान्य आध्यात्मिक दृष्टिकोण वाले नेताओं के प्रशिक्षण के माध्यम से सामाजिक परिवर्तन का प्रस्ताव पेश किया। यह परमधर्मपीठ के साथ शैक्षिक केंद्रों, आध्यात्मिकता केंद्रों और युवा आंदोलनों के माध्यम से प्राप्त किया जाने वाला लक्ष्य है। वाटिकन न्यूज के साथ एक साक्षात्कार में लैटिन अमेरिकी रैबिनिकल सेमिनरी के रेक्टर अर्जेंटीना के रब्बी एरियल स्टोफेनमाकर ने रेखांकित किया कि "प्रस्ताव इस दुनिया की जरूरतों को समझने और पर्यावरण की रक्षा, गरीबों पर ध्यान देने के संदर्भ में इन जरूरतों के बारे में संत पापा के दृष्टिकोण के साथ करना है।" इसलिए "भेदभाव, गरीबी, काम की कमी और लिंग आधारित हिंसा जैसे समाज के संकट" को निर्णायक रूप से संबोधित करने के लिए "शिक्षा के माध्यम से परिवर्तन के एजेंट" बनने की आवश्यकता है।

लैटिन अमेरिकी रब्बिनिकल सेमिनरी लैटिन अमेरिका में यहूदी आध्यात्मिकता और शिक्षा का प्रमुख केंद्र है। इसकी स्थापना 1962 में रब्बी मार्शल टी. मेयर द्वारा ब्यूनस आयर्स शहर में की गई थी और इसके कार्यालय मोंतेवीडियो और संत्यागो डे चिली में हैं।

Thank you for reading our article. You can keep up-to-date by subscribing to our daily newsletter. Just click here

05 December 2022, 15:19