खोज

संत पापा फ्राँसिस संत पापा फ्राँसिस  (AFP or licensors)

संत पापा यूक्रेन के लोगों से कहते हैं कि उन लोगों का दर्द, उनका दर्द है

यूक्रेन पर रूसी आक्रमण के नौ महीने बाद, संत पापा फ्राँसिस ने एक पत्र लिखा जिसमें उन्होंने यूक्रेन के "महान और शहीद" लोगों के प्रति अपना दुख और सामीप्य व्यक्त किया।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, सोमवार 28 नवम्बर 2022 (वाटिकन न्यूज) : संत पापा फ्राँसिस एक प्रेमी पिता के रुप में अपने बच्चों के साथ दुःखी होते हुए लिखते हैं, साथ ही एक चरवाहे के दर्द के साथ जो "विनाश और दर्द, भूख, प्यास और ठंड" से घायल अपने लोगों को देखता है।

संत पापा फ्राँसिस ने "युद्ध के बेतुके पागलपन" के ठीक नौ महीने बाद यूक्रेन के लोगों के लिए एक पत्र लिखा। इन महीनों में उन्होंने "शहीद" राष्ट्र के लिए एक सौ से अधिक अपील की है। यह पत्र सभी को संबोधित है: हिंसा की शिकार महिलाओं या युद्ध-विधवाओं को; युद्ध के पहले लाइन में भेजे गए युवकों को; बूढ़े लोगों के लिए जो अकेले रह गए हैं; उनके लिए जो शरणार्थी या विस्थापित हो गए हैं; स्वयंसेवकों और पुरोहितों के लिए और देश के अधिकारियों के लिए।

रोम के धर्माध्यक्ष यह कहते हुए अपना सामीप्य व्यक्त करते हैं कि यह पत्र उन सभी के लिए है जो कठिनाई और परीक्षण के समय में साहस नहीं खोते हैं, और उनके लिए अपनी "प्रशंसा" व्यक्त करते हैं, क्योंकि जैसा कि इतिहास ने पहले ही प्रदर्शित किया है, वे "एक मजबूत लोग" हैं। वे पीड़ित है और प्रार्थना करते है, रोते हैं और संघर्ष करते हैं, प्रतिरोध करते हैं और आशा करते हैं: वे महान और शहीद लोग हैं।”

खून और आंसुओं की नदियां

संत पापा फ्राँसिस का पत्र एक स्पष्ट यथार्थवादी तस्वीर पेश करता है। यह उन भयावहताओं की सूची से शुरू होता है जो 24 फरवरी 2022, रूसी आक्रमण के पहले दिन से पूर्वी-यूरोपीय राष्ट्र में दैनिक रोटी बन गए हैं।

"आपके आसमान में, विस्फोटों की भयावह गर्जना और सायरन की अशुभ ध्वनियों की लगातार गड़गड़ाहट है। आपके नगरों पर बमों का प्रहार किया जा रहा है, क्योंकि मिसाइलों की बौछार की वजह से मृत्यु, विनाश और पीड़ा, भूख, प्यास और सर्दी सहना पड़ रहा है। कई लोगों को अपने घरों और प्रियजनों को छोड़कर अपने सड़कों से भागना पड़ा है। आपकी महान नदियों के किनारे प्रतिदिन रक्त और आंसुओं की नदियाँ बहती हैं।

आत्मा में अंकित क्रूर चित्र

संत पापा यूक्रेन के लोगों के आँसुओं में अपने आँसुओं को जोड़ते हैं: "ऐसा कोई दिन नहीं है जब मैं आपके करीब नहीं हूँ और आपको अपने दिल और अपनी प्रार्थनाओं में नहीं रखता। आपका दर्द मेरा दर्द है।" आज मैं आपको "येसु के क्रूस में" देखता हूँ। आगे वे लिखते हैं, "आज मैं आपको इस आक्रमण से आतंकित देखता हूँ। हाँ, जिस क्रूस ने प्रभु को सताया वह फिर से शरीरों पर पाई जाने वाली यातनाओं में जीवित है, विभिन्न शहरों में खुली हुई सामूहिक कब्रों में, उन और कई अन्य खूनी छवियों में जो हमारी आत्मा में प्रवेश कर चुकी हैं,

विभिन्न शहरों में खुली सामूहिक कब्रों में, उन और कई अन्य खूनी छवियों में जो हमारी आत्मा में प्रवेश कर चुकी हैं, जो हमें रुला देता है: क्यों? पुरुष अन्य पुरुषों के साथ इस तरह का व्यवहार कैसे कर सकते हैं?"

बच्चे मारे गए, घायल हुए, अनाथ हुए

आज की त्रासदी संत पापा की स्मृति में उन नाटकों को फिर से जगाती है जो दुनिया में वर्षों से चल रहे हैं। सबसे पहले, सबसे छोटे लोगों में से एक, मिसाइल हमले से इस दुनिया से चली गई एक बच्ची और एक 4 साल की बच्ची के दो मामलों का हवाला देते हुए, संत पापा कहते हैं: “कितने बच्चे मारे गए, घायल हुए या अनाथ हुए, अपनी माँ से बिछुड़ गए! मैं आपके साथ हर उस छोटे से बच्चे के लिए रोता हूँ, जिसने इस युद्ध के कारण अपना जीवन खो दिया है, ओडेसा में किरा, विन्नित्सा में लिसा और उन सैकड़ों अन्य बच्चों की तरह: उनमें से प्रत्येक में पूरी मानवता हार गई है। अब वे ईश्वर के साथ हैं, वे आपके दुखों को देखते हैं और आपके लिए प्रार्थना करते हैं।

 मारियुपोल में अपने परिजनों के लिए रोती महिला
मारियुपोल में अपने परिजनों के लिए रोती महिला

माताओं और लोगों का दर्द

संत पापा फ्राँसिस कहते हैं, "कैसे कोई उनके लिए और निर्वासित किए गए युवा और वृद्धों के लिए पीड़ा महसूस नहीं कर सकता है? यूक्रेनी माताओं का दर्द असंख्य है।" इसके बाद वे उन नौजवानों से बात करते हैं जिन्हें "अपनी मातृभूमि की साहसपूर्वक रक्षा करने में सक्षम होने के लिए" "सपनों के बजाय" हथियारों को गले लगाना पड़ा है, और वे उन लोगों की पत्नियों से बात करते हैं जो युद्ध में मारे गए हैं: "आप मौन में जहर का घूंट पीते हुए अपने बच्चों के लिए अपना बलिदान करते हुए गरिमा और दृढ़ संकल्प के साथ आगे बढ़ें। संत पापा वयस्कों से करते हैं, 'जो अपने प्रियजनों की रक्षा के लिए हर तरह से प्रयास करते हैं। और बुजुर्गों से कहते हैं, "जो एक शांत सूर्यास्त के बजाय युद्ध की अंधेरी रात में फेंक दिये गये हैं। संत पापा महिलाओं के लिए लिखते है: 'आपने हिंसा झेली है और अपने दिलों में बड़ा बोझ लिए हुए हैं।

"मैं आपके बारे में सोचता हूँ और इस तरह के कठिन परीक्षणों का सामना करने के लिए स्नेह और प्रशंसा के साथ में आपके करीब हूँ।"

अपने पत्र में, संत पापा स्वयंसेवकों को नहीं भूलते हैं, जो हर दिन खुद को लोगों के लिए समर्पित करते हैं। संत पापा सभी धर्माध्यक्षों, पुरोहितों और धर्मबहनों को याद करते हैं, जो "अक्सर सुरक्षा के लिए बड़े जोखिम" लेते हुए अपने लोगों के साथ रहते हैं, उनके लिए "रचनात्मक रूप से सामुदायिक स्थानों और मठों को आश्रयों में बदल दिया है जहां कठिन परिस्थितियों में आतिथ्य, राहत और भोजन की व्यवस्था की जा सकती है।"

अधिकारियों के लिए प्रार्थना

संत पापा के विचार शरणार्थियों और आंतरिक रूप से विस्थापित व्यक्तियों के लिए भी जाते हैं, "अपने घरों से बहुत दूर, उनमें से कई नष्ट हो गए।" अंत में, संत पापा ने अधिकारियों के लिए प्रार्थना करते हुए उनसे अपील की: “दुखद समय में देश पर शासन करने और शांति के लिए दूरदर्शी निर्णय लेने, शहर के साथ-साथ ग्रामीण इलाकों में इतने महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचे के विनाश के दौरान अर्थव्यवस्था को विकसित करना उनका कर्तव्य है।”

होलोडोमोर की स्मृति

बुराई और दर्द के इस समुद्र में, संत पापा फ्राँसिस यूक्रेनी लोगों द्वारा झेली गई एक और बड़ी त्रासदी, होलोडोमोर नरसंहार को याद करते हैं, जिसकी 90वीं वर्षगांठ 26 नवंबर को पड़ती है। एक "भयानक" घटना, जिसका उन्होंने पहले ही अंतिम आम दर्शन समारोह में उल्लेख किया था, जिसे संत पापा यूक्रेनियो के "अच्छे जुनून" के लिए अपनी प्रशंसा व्यक्त करने के लिए याद करते हैं।

"इस भीषण त्रासदी के बावजूद, यूक्रेनी लोगों कभी भी हतोत्साहित नहीं हुए। दुनिया ने साहसी और मजबूत लोगों को पहचाना है, एक ऐसे लोग जो पीड़ित हैं और प्रार्थना करते हैं, रोते हैं और संघर्ष करते हैं, विरोध करते हैं और आशा करते हैं: एक महान और शहीद लोग।

"मैं," संत पापा फ्राँसिस" अपने दिल और प्रार्थनाओं के साथ, मानवतावादी चिंता के साथ आपके करीब रहना जारी रखता हूँ, ताकि आप साथ महसूस कर सकें, ताकि आप युद्ध के अभ्यस्त न हों, ताकि आप अकेले न रहें। आज, और विशेष रूप से कल, जब शायद आप अपने दुखों को भूलने की कोशिष करेंगे।"

क्रिसमस और दर्द का कोलाहल

संत पापा आने वाले महीनों की ओर देखते हुए अपने पत्र का समापन करते हैं, "जिसमें जलवायु की कठोरता आपके अनुभव को और भी दुखद बना देती है": "मैं चाहूँगा कि कलीसिया के प्यार, प्रार्थना की शक्ति और दुनिया के हर कोने से उदार दिल वाले कई भाईयों और बहनों का स्नेह आपको मिले।", यह संत पापा की आशा है। वे कहते हैं, "कुछ ही हफ्तों में, क्रिसमस समारोह होगा तथा दर्द का कोलाहल और भी अधिक महसूस किया जाएगा। लेकिन मैं आपके साथ बेथलहम वापस जाना चाहूंगा, वह कठिन परिस्थिति जिसका सामना पवित्र परिवार को उस रात करना पड़ा था।" , जो केवल ठंडा और अंधेरा था। इसके बजाय, प्रकाश आया: मनुष्यों से नहीं, बल्कि ईश्वर से; पृथ्वी से नहीं, बल्कि स्वर्ग से।

इसलिए, वे यूक्रेन को माता मरियम को सौंपते हैं। संत पापा ने रूस और यूक्रेन दोनों को माता मरियम के निष्कलंक हृदय को समर्पित किया है।

मानवीय गलियारों की मांग करते हुए मारियुपोल में एक रैली
मानवीय गलियारों की मांग करते हुए मारियुपोल में एक रैली

Thank you for reading our article. You can keep up-to-date by subscribing to our daily newsletter. Just click here

28 November 2022, 15:23