खोज

इस्किया द्वीप में भूस्खलन के बाद इस्किया द्वीप में भूस्खलन के बाद  (ANSA)

संत पापा ने इस्किया बाढ़ पीड़ितों, हिंसा पीड़ित महिलाओं को याद किया

देवदूत प्रार्थना के बाद, संत पापा ने उन पीड़ितों, विशेष रूप से इतालवी द्वीप इस्किया के पर बाढ़ पीड़ितों, यौन हिंसा की शिकार महिलाओं और यूक्रेन के शहीद लोगों के याद किया।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, सोमवार 28 नवम्बर 2022 (वाटिकन न्यूज) : देवदूत प्रार्थना के पाठ करने के बाद तीर्थयात्रियों का अभिवादन करते हुए, संत पापा फ्राँसिस ने सभी से उन लोगों को अपनी प्रार्थनाओं में याद रखने के लिए कहा जो इटली के इस्किया द्वीप में भारी बारिश के कारण बाढ़ और कीचड़ धंसने से दो लोगों की मौत हो गई, जबकि ग्यारह अन्य लापता हैं। संत पापा ने कहा कि वे पीड़ितों, पीड़ित लोगों और सभी बचावकर्मियों के लिए प्रार्थना कर रहे हैं।

संत पापा ने महिलाओं के खिलाफ यौन हिंसा की निंदा करने के लिए आज याने रविवार सुबह एक मार्च (प्रदर्शन यात्रा) में भाग लेने वाले प्रतिभागियों को बधाई दी। दुनिया भर के संघर्षों में युद्ध के हथियार के रूप में यौन हिंसा की वैश्विक समस्या पर प्रकाश डालने के लिए ब्रिटिश दूतावास द्वारा वाटिकन मार्च को बढ़ावा दिया गया। पहल इस मुद्दे पर लंदन अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन की पूर्व संध्या पर आयोजित की जाती है और इसे काथलिक महिलाओं के विश्व संघ (डब्ल्यूयूसीडब्ल्यूओ) का समर्थन प्राप्त है। इस मार्च में एथलेटिका वाटिकाना ने भाग लिया। 12.00 बजे प्रतिभागी संत पेत्रुस महागिरजाघर के प्रांगण में संत पापा की अध्यक्षता में देवदूत प्रार्थना में भाग लेने के लिए एकत्रित हुए।

संत पापा ने कहा कि दुर्भाग्य से यह हर जगह एक व्यापक वास्तविकता है और यहां तक कि युद्ध के हथियार के रूप में भी इनका उपयोग किया जाता है। उस मुद्दे पर, उन्होंने सभी से युद्ध को नहीं, हिंसा को नहीं, बल्कि संवाद को हाँ, शांति को हाँ कहने, विशेष रूप से यूक्रेन के शहीद लोगों के लिए,  शनिवार को चिन्हित ‘होलोडोमोर त्रासदी की वर्षगांठ को याद करते हुए अथक प्रयास करने के लिए प्रोत्साहित किया। (होलोडोमोर त्रासदी, 1932-33 में स्टालिन द्वारा कृत्रिम रूप से किए गए भूख का भयानक नरसंहार है।)

संत पापा ने जर्मनी के बेघर बुर्खार्ड शेफ़लर को भी याद किया, जिसकी तीन दिन पहले संत पेत्रुस महागिरजाघऱ के प्रांगण के किनारे बने बड़े खंभों के बीच ठंड से मृत्यु हो गई थी।

इसके बाद संत पापा ने प्रांगण में उपस्थित विभिन्न समूहों को अभिवादन किया, जिसमें काथलिक एक्शन के अंतर्राष्ट्रीय फोरम (एफआईएसी) सचिवालय के सदस्य भी शामिल है, जो रोम में इसकी 8वीं सभा के लिए एकत्रित हुए थे।

Thank you for reading our article. You can keep up-to-date by subscribing to our daily newsletter. Just click here

28 November 2022, 15:57