खोज

फिलीपींस के बच्चे रोजरी विन्ती करते हुए फिलीपींस के बच्चे रोजरी विन्ती करते हुए  (ANSA)

रोजरी माला विन्ती के अभियान को पोप फ्राँसिस का समर्थन

संत पापा फ्राँसिस ने विश्वासियों को प्रोत्साहन दिया है कि वे विश्वभर के बच्चों के साथ रोजरी माला विन्ती में भाग लें जो शांति के लिए प्रार्थना कर रहे हैं।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, मंगलवार, 18 अक्तूबर 2022 (रेई) ˸ संत पापा फ्राँसिस ने विश्व शांति हेतु रोजरी माला विन्ती करने की याद दिलायी है एवं विश्वासियों को इसमें भाग लेने का प्रोत्साहन दिया।

उन्होंने ट्वीट के माध्यम से कहा, "आइये, हम सभी महादेशों के बच्चों के साथ प्रार्थना करें, जो आज विश्व में शांति हेतु रोजरी माला विन्ती कर रहे हैं। आइये, हम हमारी माता मरियम की मध्यस्थता में यूक्रेन एवं दूसरे जगह के पीड़ित लोगों को समर्पित करें जो युद्ध, हिंसा और दयनीय स्थिति का सामना कर रहे हैं।"

रोजरी प्रार्थना अभियान संत पियो दा पेत्रेलचिना (पाद्रे पियो) के विचारों की याद दिलाता है, जिन्होंने कहा था, "जब एक मिलियन बच्चे रोजरी प्रार्थना करेंगे तो दुनिया बदल जायेगी।" संत लूकस के सुसमाचार में येसु ने शिष्यों से कहा था, "जब तक तुम एक छोड़े बालक जैसे नहीं हो जाते, तुम स्वर्ग राज में प्रवेश नहीं करोगे।"

इस वर्ष प्रार्थना अभियान की विषयवस्तु विश्व शांति और एकता के लिए समर्पित है जिसको दुनिया के लिए पिता के प्रेम पर केंद्रित किया गया है।

संत पापा फ्राँसिस ने रविवार को देवदूत प्रार्थना के उपरांत विश्वभर के बच्चों का आह्वान किया था कि वे यूक्रेन एवं युद्धग्रस्त क्षेत्रों में शांति हेतु रोजरी प्रार्थना करें। यह "एक मिलियन बच्चों द्वारा रोजरी प्रार्थना" करने की पहल का हिस्सा है। जिसको परमधर्मपीठीय फाऊँडेशन एड टू द चर्च इन नीड हर साल आयोजित करती है तथा इसके द्वारा पल्लियों, स्कूलों एवं परिवारों को शांति हेतु रोजरी प्रार्थना करने के लिए आमंत्रित करती है।

एड टू द चर्च इन नीड (जरूरत में कलीसिया की मदद) के अनुसार, "एक मिलियन बच्चों की रोजरी" प्रार्थना अभियान का विचार वेनेजुएला के काराकस में 2005 में उत्पन्न हुआ था।

पोप फ्राँसिस ने 11 अक्टूबर 2020 को देवदूत प्रार्थना के दौरान, "इस खूबसूरत प्रार्थना को प्रोत्साहन दिया था, जिसमें दुनिया भर के बच्चे भाग लेते हैं।"

Thank you for reading our article. You can keep up-to-date by subscribing to our daily newsletter. Just click here

18 October 2022, 16:55