खोज

इटली के काथलिक अक्शन दल के युवा पोप से मुलाकात करते हुए इटली के काथलिक अक्शन दल के युवा पोप से मुलाकात करते हुए  (ANSA)

पोप ने काथलिक युवा अक्शन को समाज के खमीर बनने का प्रोत्साहन दिया

संत पापा फ्राँसिस ने इटली के काथलिक अक्शन दल के युवा नेताओं को पल्ली में उनके कार्यों के लिए प्रोत्साहन दिया तथा आग्रह किया कि वे कलीसिया के भ्रातृत्व में विकास को सहयोग दें।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शनिवार, 29 अक्टूबर 2022 (रेई) ˸ संत पापा फ्राँसिस ने शनिवार को इटली के काथलिक एक्शन दल के करीब 2000 युवाओं ने वाटिकन के पौल षष्ठम सभागार में मुलाकात की।

ऐसे समय में जब युवा कलीसिया से दूर हो रहे हैं संत पापा ने काथलिक एक्शन दल के युवाओं की सराहना की जो पल्ली को प्यार करते हैं तथा कहा कि विश्वास की यात्रा और इसमें बढ़ने के लिए पल्ली का अनुभव महत्वपूर्ण है। पल्ली सुसमाचार सुनने, प्रभु येसु को जानने, दूसरों की मदद करने, अपनी योजनाओं एवं प्रयासों को साझा करने, एक दूसरे से बातचीत करने, सहयोग देने एवं समुदाय में प्रार्थना करने का एक अच्छा माहौल देता है।

संत पापा ने कहा, "अनुभव से सीखना बहुत महत्वपूर्ण है कि बपतिस्मा के द्वारा हम सभी भाई बहन हैं; कि हम सभी इसके सदस्य हैं और जिम्मेदार हैं; कि हमें विभिन्न प्रकार की क्षमताएँ प्राप्त हैं और ये सभी समुदाय की अच्छाई के लिए हैं; कि जीवन येसु का अनुसरण करने के लिए एक बुलावा है; कि विश्वास एक वरदान है जिसे बांटा जाना है और साक्ष्य देना है।"

कलीसिया के भाईचारा में बढ़ने हेतु सहयोग

संत पापा ने काथलिक अक्शन दल के युवाओं को सलाह दी कि वे कलीसिया को भाईचारा में बढ़ने में मदद दें।

सबसे पहले उन्होंने उन्हें नहीं डरने का परामर्श दिया, चाहे समुदाय का आयाम कमजोर क्यों न हो। जो महामारी के कारण अधिक कमजोर हुआ है। उन्होंने गौर किया कि कई युवा, बैठकों और सभाओं में भाग लेना नहीं चाहते है। जैसा कि 50 साल पहले हुआ करता था। किन्तु यह एक अच्छी बात है, कि "काथलिक अक्शन दल को सभा में भाग नहीं लेना है और कलीसिया सभाओं से आगे नहीं बढ़ती।"

हालांकि उन्होंने चेतावनी दी कि व्यक्तिवाद, छोटे दलों में बंद और दूर से सम्पर्क रखने की प्रवृति ने भी कलीसियाई समुदाय को प्रभावित किया है, अतः हमें अपने आप पर काम करते हुए जवाब देने की आवश्यकता है।

अपने आप पर काम करना

संत पापा ने इसे "काम" कहा क्योंकि यह एक चुनौतिपूर्ण यात्रा है और स्थिरता की मांग करता है" क्योंकि भाईचारा में सुधार नहीं होता, न ही यह भावनाओं, नारों और कार्यक्रमों द्वारा इसे स्थापित किया जा सकता है। बल्कि यह एक कार्य है जिसको हरेक व्यक्ति प्रभु एवं पवित्र आत्मा के साथ मिलकर पूरा करता है जो विविधता में सामंजस्य लाते हैं। इस संदर्भ में काथलिक अक्शन दल के नेताओं को संत पापा ने सलाह दी कि वे प्रेरितिक प्रबोधन ख्रीस्तुत विवित के "भाईचारा का रास्ता" भाग को पढ़ें।

संत पापा ने कहा कि हमारे लिए मौलिक आधार है कि हम कलीसिया में यूखरिस्त के द्वारा ख्रीस्त की क्रियाशीलता को महसूस करते हैं। वे अपने आपसे निकलकर हमारे पास आते हैं ताकि हम भी अपने आप से बाहर निकलकर उनके साथ संयुक्त हों। हम उनमें अपने आपको एक नया, स्वतंत्र, मुफ्त, आज्ञाकारी पूर्ण एकता को पाते हैं। 

"कलीसिया में भाईचारा ख्रीस्त पर स्थापित है, हमारे बीच उनकी उपस्थिति में। उनके कारण हम एक-दूसरे का स्वागत करते, एक-दूसरे को सहन करते और क्षमा देते हैं।"

समाज में खमीर

तब संत पापा ने बतलाया कि ख्रीस्तीय किस अर्थ में समाज में खमीर बनते हैं, उन्होंने कहा कि यदि वे ख्रीस्त से संयुक्त होते एवं उनकी आत्मा से प्रेरित होते हैं तो वे मानवता के खमीर कैसे नहीं बन सकते, क्योंकि येसु एक पूर्ण व्यक्ति हैं और उनका सुसमाचार एक मानव को बल प्रदान करना है।

संत पापा ने दल को "इस दुनिया में गूँथा हुआ" बतलाते हुए कहा कि यह "शरीरधारण का सिद्धांत" हैं और नया जीवन लाने हेतु येसु का रास्ता।

संत पापा ने युवाओं से अपील की कि वे खमीर को खमीर रहने दें, नमक को नमक और दीपक को दीपक एवं चेतावनी दी कि हम दुनियावी बनने के खतरे में पड़कर ख्रीस्त की नवीनता को खो देते हैं, इस तरह हमारे पास कहने और देने के लिए कुछ नहीं रह जाता। येसु यही कहना चाहते थे, जब उन्होंने कहा, "तुम पृथ्वी के नमक हो।" और तुरन्त चेतावनी देते हैं, "सावधान रहो, अपना स्वाद न खो दो।" (मती.5,13)

संत पापा ने अक्टूबर माह में रोजरी माला विन्ती करने की याद दिलाते हुए युवाओं को येसु के रहस्य को, माता मरियम की तरह हृदय में रखने और उसपर चिंतन करने का प्रोत्साहन दिया। इस तरह वे साधारण चीजों में असाधारण रूप से जी सकते हैं  अर्थात् पवित्र आत्मा की नवीनता एवं सुसमाचार की नवीनता में। संत पापा ने युवाओं को आशीष प्रदान करते हुए उन्हें आनन्द एवं साहस के साथ आगे बढ़ने का प्रोत्साहन दिया। 

Thank you for reading our article. You can keep up-to-date by subscribing to our daily newsletter. Just click here

29 October 2022, 17:32