खोज

संत पापा फ्राँसिस ने "शरणार्थी और आप्रवासी शिक्षा के प्रयास" पर ग्रेगोरियन विश्वविद्यालय सम्मेलन के प्रतिभागियों से मुलाकात की संत पापा फ्राँसिस ने "शरणार्थी और आप्रवासी शिक्षा के प्रयास" पर ग्रेगोरियन विश्वविद्यालय सम्मेलन के प्रतिभागियों से मुलाकात की  (Vatican Media)

पोप ˸ शिक्षण संस्थाएँ सभी के स्वागत एवं एकीकरण के स्थान बनें

संत पापा फ्राँसिस ने बृहस्पतिवार को वाटिकन में "शरणार्थी और आप्रवासी शिक्षा के प्रयास" पर ग्रेगोरियन विश्वविद्यालय सम्मेलन के प्रतिभागियों का स्वागत किया।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

संत पापा ने सम्मेलन को "बच्चों और युवाओं पर विशेष ध्यान देने के साथ-साथ, हमारे आप्रवासी भाइयों और बहनों की जरूरतों पर आधारित" चिंतन के एक नियोजित क्षण के रूप में प्रकाश डाला, जिन्होंने अपनी मूल भूमि में शिक्षा से उखाड़े जाने के बावजूद अपनी शिक्षा को आगे बढ़ाने की इच्छा व्यक्त की है।

इसके बाद संत पापा ने प्रतिभागियों की दक्षताओं से संबंधित तीन क्षेत्रों में उनके योगदान के महत्व पर जोर दिया - अनुसंधान, शिक्षण और सामाजिक प्रचार।

अनुसंधान

संत पापा फ्राँसिस ने तथाकथित "पलायन न करने के अधिकार" पर आगे के अध्ययन की आवश्यकता पर प्रकाश डाला, यह देखते हुए कि आप्रवासी आंदोलनों के कारणों और हिंसा के रूपों पर चिंतन करना महत्वपूर्ण है जो लोगों को अन्य देशों के लिए प्रस्थान करने हेतु मजबूर करते, जिनमें दुनिया में कई क्षेत्रों को तबाह करनेवाले संघर्ष शामिल हैं।

उन्होंने एक अन्य प्रकार की हिंसा की ओर भी इशारा किया - हमारे सामान्य घर के दुरुपयोग की ओर - इस बात पर जोर देते हुए कि पृथ्वी प्रदूषण और पृथ्वी के संसाधनों के अत्यधिक दोहन से तबाह हो गई है।

संत पापा ने शिक्षाविदों और विशेष रूप से काथलिक शिक्षकों से पारिस्थितिक चुनौतियों का उत्तर देने में भूमिका निभाने का आह्वान किया क्योंकि वे हमारे सामान्य घर की देखभाल में नेताओं के निर्णयों को मार्गदर्शन देने और सूचित करने में मदद कर सकते हैं।

शिक्षा

संत पापा ने शरणार्थियों को लाभान्वित करनेवाले शैक्षिक कार्यक्रम स्थापित करने की प्रतिबद्धता को स्वीकार किया। उन्होंने कहा कि बहुत कुछ पहले ही पूरा किया जा चुका है लेकिन अभी भी बहुत कुछ किया जाना बाकी है।

इस बात पर जोर देते हुए कि सबसे अधिक वंचितों को प्राथमिकता दी जानी चाहिए, उन्होंने प्रस्ताव दिया कि संस्थान शरणार्थियों की जरूरतों को पूरा करने वाले पाठ्यक्रमों की पेशकश करे, जैसे दूरस्थ शिक्षा के कार्यक्रम आयोजित करना और उनके पुनर्वास की अनुमति देने के लिए छात्रवृत्ति प्रदान करना।

उन्होंने आगे सुझाव दिया कि विश्वविद्यालय भी, अकादमिक संस्थानों के अंतर्राष्ट्रीय नेटवर्क के संसाधनों का उपयोग करते हुए, आप्रवासियों और शरणार्थियों की डिग्री और पेशेवर योग्यता की पहचान की सुविधा प्रदान कर सकते हैं, आप्रवासियों और उनके मेजबान समाज दोनों की भलाई के लिए।

संत पापा ने कहा, "स्कूल और विश्वविद्यालय न केवल मार्गदर्शन देने के लिए हैं बल्कि मुलाकात और एकीकरण हेतु अच्छा वातावरण प्रदान करने के लिए भी हैं।"

"हम अपनी सामान्य मानवता में विकसित हो सकते हैं और एक साथ मिलकर एक अधिक से अधिक भावना का निर्माण कर सकते हैं। एक-दूसरे के प्रति खुलापन विभिन्न दृष्टिकोणों और परंपराओं के बीच उपयोगी आदान-प्रदान की जगह बनाता है, और नए क्षितिज के लिए दिमाग खोलता है।"

संत पापा ने आप्रवासियों और शरणार्थियों के साथ काम करनेवाले कर्मियों और शिक्षकों को विशिष्ट व्यावसायिक प्रशिक्षण देने का भी आह्वान किया, और इस बात पर प्रकाश डाला कि सार्थक मुलाकातों के अवसरों को बढ़ावा दिया जाना चाहिए, "ताकि शिक्षकों और छात्रों को उन पुरुषों और महिलाएँ की कहानियों को सुनने का अवसर मिल सके जो आप्रवासी, शरणार्थी, विस्थापित व्यक्ति या तस्करी की शिकार हैं।"

संत पापा ने कहा, "उच्च शिक्षा के काथलिक संस्थान अपने छात्रों, जो कल के प्रशासक, उद्यमी और सांस्कृतिक नेता होंगे, उन्हें न्याय, वैश्विक जिम्मेदारी और विविधता में एकता के परिप्रेक्ष्य में, प्रवासन की घटना की स्पष्ट समझ के लिए शिक्षित करने हेतु बुलाये जाते हैं।

सामाजिक बढ़ावा

सामाजिक प्रचार के क्षेत्र में, संत पापा ने विश्वविद्यालयों को ऐसे संस्थानों के रूप में माना है जो उस सामाजिक संदर्भ जिसमें वे काम करते प्रभाव डालते हैं और एक अंतरसांस्कृतिक समाज के निर्माण की नींव की पहचान करने में मदद करते हैं जिसमें "जातीय, भाषाई और धार्मिक विविधता को समृद्धि का स्रोत के रूप में देखा जाता है एवं यह सभी के भविष्य के लिए बाधा नहीं है।" वे शरणार्थियों, शरण चाहनेवालों और कमजोर आप्रवासियों की मदद करने वाले स्वयंसेवकों के साथ काम करने हेतु युवाओं को प्रोत्साहित करते हैं।

स्वागत, रक्षा, प्रोत्साहन और एकीकरण

अपने संबोधन के अंत में, संत पापा ने सम्मेलन में भाग लेनेवालों से आग्रह किया कि वे चार शब्दों द्वारा अनुसंधान, शिक्षण और सामाजिक प्रचार के क्षेत्रों में अपने काम में मार्गदर्शन करें जो कि आप्रवासियों और शरणार्थियों पर कलीसिया की शिक्षाओं को समाहित करता है: स्वागत, रक्षा, प्रोत्साहन और एकीकृत।

उन्होंने जोर देकर कहा कि "हर शैक्षणिक संस्थान को सभी के लिए स्वागत, सुरक्षा, पदोन्नति और एकीकरण का स्थान कहा जाता है।"

अंत में, अपने लिए प्रार्थना के अनुरोध के साथ, संत पापा फ्राँसिस ने प्रतिभागियों को आशीर्वाद दिया और उन्हें अपने प्रयासों में लगे रहने के लिए प्रोत्साहित किया।

Thank you for reading our article. You can keep up-to-date by subscribing to our daily newsletter. Just click here

29 September 2022, 17:28