खोज

क्यूबेक के नोट्रे-डेम महागिरजाघर में संध्या प्रार्थना में संत पापा फ्राँसिस क्यूबेक के नोट्रे-डेम महागिरजाघर में संध्या प्रार्थना में संत पापा फ्राँसिस  (Vatican Media)

संत पापा ने धर्मनिरपेक्षता की चुनौतियों का सामना करने हेतु किया आह्वान

गुरुवार को नॉट्रे-डेम डी क्यूबेक महागिरजाघर में संध्या प्रार्थना में संत पापा फ्राँसिस ने कनाडा के धर्माध्यक्षों, पुरोहितों, धर्मबहनों, गुरुकुल के छात्रों और प्रेरितिक कार्यकर्ताओं को उन चुनौतियों से निपटने के लिए आमंत्रित किया जो विश्वास की खुशी की घोषणा में बाधा डालती हैं। संत पापा ने कलीसिया के कुछ सदस्यों द्वारा नाबालिग और कमजोर लोगों पर किये गये यौन शोषण के लिए क्षमा मांगी।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

क्यूबेक, शुक्रवार 29 जुलाई 2022 (वाटिकन न्यूज) : कनाडा की अपनी प्रेरितिक यात्रा के पांचवें दिन संत पापा फ्राँसिस ने गुरुवार शाम को नॉट्रे-डेम डी क्यूबेक महागिरजाघर में संत पापा फ्राँसिस ने कनाडा के धर्माध्यक्षों, पुरोहितों, धर्मबहनों, गुरुकुल के छात्रों और प्रेरितिक कार्यकर्ताओं के साथ संध्या प्रार्थना की अध्यक्षता की।

अपने प्रवचन के दौरान, संत पापा ने महागिरजाघर में बैठक के महत्व पर प्रकाश डाला, जिसके पहले धर्माध्यक्ष, संत फ्रांसिस डी लावल ने 1663 में सेमिनरी खोला और पुरोहितों के प्रशिक्षण हेतु खुद को समर्पित किया।

उन्होंने बताया कि संध्या प्रार्थना के लिए निर्धारित पाठ चरवाहों के बारे में बात करता है। संत पेत्रुस ने उन्हें स्वेच्छा से ईश्वर के झुंड की देखभाल करने का आग्रह किया और इसलिए, कलीसिया के पुरोहितों को "झुंड की देखभाल करने में उसी उदारता को दिखाने के लिए" आमंत्रित किया जाता है। ताकि सभी के लिए येसु की चिंता और प्रत्येक के घावों के लिए उसकी करुणा प्रकट हो।"

नोट्रे-डेम डी क्यूबेक में संध्या प्रार्थना
नोट्रे-डेम डी क्यूबेक में संध्या प्रार्थना

चरवाहे, मसीह के प्रतीक

संत पापा ने कहा, "चरवाहों को अपने झुण्ड की देखभाल भक्ति और कोमल प्रेम के साथ करनी चाहिए" - जैसा कि संत पेत्रुस आग्रह करते हैं, “इसका मार्गदर्शन करें और इसे भटकने न दें, क्योंकि "हम मसीह के प्रतीक हैं।" धर्माध्यक्षों को यह एक कर्तव्य के रूप में नहीं, बल्कि पेशेवर धार्मिक कर्मियों या धर्माधिकारियों की तरह "जोश एवं एक चरवाहे के दिल के साथ स्वेच्छापूर्वक करनी चाहिए।"

संत पापा ने कहा कि धर्माध्यक्ष भी मसीह के दयालु प्रेम से "प्रवृत्त" हैं और ईश्वर की निकटता को महसूस करते हैं। उन्होंने पुष्टि की, "यह सेवा के आनंद का स्रोत और विश्वास के सभी आनंद से ऊपर है।"

ख्रीस्तीय आनंद

संत पापा ने कहा, "ख्रीस्तीय आनंद शांति का अनुभव है जो हमारे दिलों में बना रहता है, यहां तक ​​कि जब हम परीक्षणों और कष्टों से घिरे होते हैं," तब हम जानते हैं कि हम अकेले नहीं हैं, बल्कि एक ऐसे ईश्वर के साथ हैं जो हमारे दुखों के प्रति उदासीन नहीं है।”

नोट्रे-डेम डी क्यूबेक में संध्या प्रार्थना
नोट्रे-डेम डी क्यूबेक में संध्या प्रार्थना

उन्होंने समझाया कि यह एक "सस्ती खुशी" नहीं है या धन, आराम और सुरक्षा के बारे में जैसा कि दुनिया कभी-कभी प्रस्तावित करती है, , बल्कि, "यह एक मुफ्त उपहार है, यह जानने की निश्चितता है कि हम जीवन की हर परिस्थिति में मसीह द्वारा प्यार और निरंतर गले लगाए गए हैं।”

 "तो, आइए हम अपने आप से प्रश्न पूछें: जब आनंद की बात आती है तो हम क्या कर रहे हैं? क्या हमारी कलीसिया सुसमाचार के आनंद को व्यक्त करती है? क्या हमारे समुदायों में ऐसा कोई विश्वास है जो उस आनंद की ओर आकर्षित हो सकता है जो यह संचार करता है?"

विश्वास की खुशी के लिए खतरा

हमारे समुदायों में सुसमाचार की खुशी पर विचार करते हुए, संत पापा ने धर्मनिरपेक्षता को उन कारकों में से एक के रूप में इंगित किया जो "विश्वास के आनंद को खतरे में डालते हैं और इस प्रकार इसे कम करने और ख्रीस्तीय के रूप में हमारे जीवन से समझौता करने का जोखिम उठाते हैं।"

संत पापा ने अफसोस जताया कि धर्मनिरपेक्षता ने समकालीन पुरुषों और महिलाओं की जीवन शैली को बहुत प्रभावित किया है, जो ईश्वर को पृष्ठभूमि में ले जाते हैं। संत पापा ने कहा, "ऐसा लगता है कि ईश्वर क्षितिज से गायब हो गए हैं और उनका वचन अब हमारे जीवन, हमारे बुनियादी निर्णयों, हमारे मानवीय और सामाजिक संबंधों का मार्गदर्शन करने वाला एक कम्पास नहीं है।"

नोट्रे-डेम डी क्यूबेक में संध्या प्रार्थना
नोट्रे-डेम डी क्यूबेक में संध्या प्रार्थना

परिवेश की संस्कृति को ध्यान में रखते हुए, संत पापा फ्राँसिस ने "निराशावाद या आक्रोश का शिकार होने, तुरंत नकारात्मक निर्णय लेने या व्यर्थ पुरानी यादों में जाने" के प्रति सावधान किया। संत पापा ने दुनिया के दो संभावित दृष्टिकोण पर टिप्पणी की: "नकारात्मक दृष्टिकोण" और "विवेकात्मक दृष्टिकोण।"

नकारात्मक एवं विवेकात्मक दृष्टिकोण

पहला नकारात्मक दृष्टिकोणः यह "अक्सर एक ऐसे विश्वास से पैदा होता है जो हमले के तहत महसूस करता है और यह "कवच" के रूप में सोचता है, दुनिया के खिलाफ हमारी रक्षा करता है।" संत पापा ने कहा, यह दृष्टिकोण शिकायत करता है कि" दुनिया बुराई है, पाप राज्य करता है" और खुद "धर्मयुद्ध की आत्मा" में ढालने का जोखिम उठाता है।

संत पापा इसके खिलाफ चेतावनी देते हैं, क्योंकि यह "ख्रीस्तीय नहीं" और "ईश्वर का मार्ग नहीं है।" वे जोर देते हुए कहते हैं कि ईश्वर सांसारिकता से घृणा करते हैं और दुनिया के बारे में एक सकारात्मक दृष्टिकोण रखते हैं, हमारे जीवन को आशीर्वाद देते है और ऐतिहासिक परिस्थितियों में खुद मनुष्य बनकर धरती पर आये, ताकि "ईश्वर के राज्य के बीज को उन स्थानों पर विकसित किया जा सके जहां अंधकार की जीत होती है।"

संत पापा फ्राँसिस ने जोर देकर कहा, "हम ईश्वर के समान दृष्टिकोण रखने के लिए बुलाये गये हैं, हमें आत्म परख करना है जो अच्छा है और लगातार अच्छाई की खोज करना है। यह कोई भोला-भाला दृष्टिकोण नहीं है, बल्कि एक ऐसा दृष्टिकोण है जो वास्तविकता को स्वीकार करता है।"

धर्मनिरपेक्षवाद और धर्मनिरपेक्षता

धर्मनिरपेक्ष दुनिया के बारे में हमारी समझ को परिष्कृत करने के लिए, संत पापा फ्राँसिस ने संत पापा पॉल षष्टम से प्रेरणा लेने की सिफारिश की, जिन्होंने ईश्वर द्वारा प्रत्यारोपित धर्मनिरपेक्षता को "अपने आप में न्यायसंगत और वैध और किसी भी तरह से विश्वास या धर्म के साथ असंगत नहीं" तथा वास्तविकता एवं मानव जीवन को नियंत्रित करने वाले कानूनों की खोज के रूप में देखा। संत पापा पॉल षष्टम ने धर्मनिरपेक्षवाद और धर्मनिरपेक्षता के बीच भी अंतर किया जो उपभोक्ता समाज सहित सूक्ष्म और विविध "नास्तिकता के नए रूपों" को उत्पन्न करता है, एक सर्वोच्च मूल्य के रूप में स्थापित आनंद, शक्ति और वर्चस्व की इच्छा और सभी प्रकार के भेदभाव को जन्म देता है।

संत पापा कहते हैं कि कलीसिया के रूप में और ईश्वर के लोगों के चरवाहों एवं प्रेरितिक कार्यकर्ताओं के रूप में, यह हम पर निर्भर है कि हम "इन भेदों को समझें" और इसपर चिंतन करें। यदि हम नकारात्मक दृष्टिकोण के सामने झुकते हैं, तो हम गलत संदेश भेजने का जोखिम उठाते हैं। - जैसे कि धर्मनिरपेक्षता की आलोचना "एक पवित्र दुनिया के लिए उदासीनता, एक बीता हुआ समाज जिसमें कलीसिया और उसके अधिकारों की शक्ति और अधिक सामाजिक प्रासंगिकता थी।" “ईश्‍वर नहीं चाहते कि हम दास बनें, परन्‍तु हम बेटे-बेटियाँ हैं, वे हमारे लिए निर्णय नहीं लेना चाहते, या धार्मिक कानूनों द्वारा शासित दुनिया में प्रयोग की जाने वाली एक पवित्र शक्ति के साथ हमें प्रताड़ित नहीं करना चाहते। नहीं! उसने हमें स्वतंत्र बनाया है और वे हमें जीवन और समाज में परिपक्व और जिम्मेदार व्यक्ति बनने के लिए कहते हैं।"

नोट्रे-डेम डी क्यूबेक में संध्या प्रार्थना
नोट्रे-डेम डी क्यूबेक में संध्या प्रार्थना

धर्मनिरपेक्षता: प्रेरितिक कल्पना के लिए एक चुनौती

संत पापा ने आगे कहा कि, धर्मनिरपेक्षता, "मांग करता है कि हम समाज में हो रहे उन परिवर्तनों पर चिंतन करें जो लोगों के सोचने और अपने जीवन को व्यवस्थित करने के तरीके को प्रभावित किया है।"

अतः, "धर्मनिरपेक्षता हमारी प्रेरितिक कल्पना के लिए एक चुनौती का प्रतिनिधित्व करती है," और "आध्यात्मिक जीवन को नए रूपों में और मौजूदा के नए तरीकों के पुनर्गठन के लिए एक अवसर है।" इस प्रकार, एक विवेकपूर्ण दृष्टिकोण "हमें सुसमाचार प्रचार के लिए एक नया जुनून विकसित करने, नई भाषाओं और अभिव्यक्ति के रूपों की तलाश करने, कुछ प्रेरितिक प्राथमिकताओं को बदलने और जो अति आवश्यक है उसपर ध्यान केंद्रित करने के लिए प्रेरित करता है।"

विश्वास की खुशी का संचार

संत पापा फ्राँसिस आज के पुरुषों और महिलाओं के लिए सुसमाचार और विश्वास की खुशी को संप्रेषित करने के महत्व पर जोर देते हुए कहा कि यह "अनमोल प्रेम के साक्ष्य" की घोषणा है जिसे "व्यक्तिगत और कलीसियाई जीवन शैली में आकार लेना चाहिए" जो प्रभु के लिए अपनी इच्छा को फिर से जगा सकता है, आशा पैदा कर सकता है और विश्वास एवं विश्वसनीयता का प्रसार कर सकता है।"

प्रार्थना और प्रेरितिक सेवा को आकार देने वाली तीन चुनौतियों का संकेत देते हुए, संत पापा ने कहा, पहली चुनौतीः "लोग येसु के बारे में जानें," और धर्मनिरपेक्षता एवं उदासीनता द्वारा बनाए गए आध्यात्मिक रेगिस्तान के बीच प्रारंभिक उद्घोषणा की ओर लौटें। उन्होंने कहा कि हमें उन लोगों के लिए सुसमाचार की घोषणा करने के नए तरीके खोजने होंगे जिन्होंने अभी तक मसीह को जान नहीं पाया है और "एक प्रेरितिक रचनात्मकता लोगों तक पहुंचने में सक्षम है जहां वे रहते हैं, सुनते हैं, उनके बीच संवाद और मुलाकात का अवसर मिले।"

 धर्मांतरण का अवसर

संत पापा ने कहा, “दूसरी चुनौती गवाही है। हमें विश्वसनीय होने की आवश्यकता है, क्योंकि सुसमाचार का प्रचार वचन और अपने स्वंय के जीवन साक्ष्य द्वारा किया जाता है। जो स्वतंत्रता को प्रकट करता है और दूसरों को स्वतंत्र करता है, करुणा जो बदले में कुछ नहीं मांगती है, दया जो मौन में मसीह के बारे में बोलती है।"

संत पापा ने कनाडा की कलीसिया के बारे में सोचा, जो अपने कुछ बेटों और बेटियों द्वारा की गई बुराई से आहत होने के बाद एक नया रास्ता स्थापित किया गया है। संत पापा ने नाबालिगों और कमजोर लोगों के यौन शोषण के घोटालों की भी बात की।

संत पापा ने कहा, “आपके साथ मैं एक बार फिर सभी पीड़ितों से क्षमा मांगना चाहूंगा। हम जो दर्द और शर्म महसूस करते हैं, वह परिवर्तन का अवसर बने: यह घटना फिर कभी नहीं! ... फिर कभी ख्रीस्तीय समुदाय खुद को इस विचार से संक्रमित होने की अनुमति नहीं दे सकता है कि एक संस्कृति दूसरों से श्रेष्ठ है, या यह कि दूसरों को मजबूर करने के तरीकों को नियोजित करना वैध है।"

बहिष्कार की संस्कृति को हराने के लिए, संत पापा फ्राँसिस कहा कि धर्माध्यक्ष और पुरोहित स्वंय खुद से शुरुआत करें और खुद को अपने भाइयों और बहनों से श्रेष्ठ महसूस न करें। इसी तरह, प्रेरितिक कार्यकर्ता "सेवा को शक्ति के रूप में समझें।"

तीसरी चुनौती है भाईचारा। कलीसिया को "सुसमाचार के लिए एक विश्वसनीय साक्ष्य बनना है, जितना अधिक इसके सदस्य एकता को शामिल करेंगे, ऐसे अवसर और परिस्थितियाँ पैदा करें, जहाँ सभी का स्वागत हो, उनकी बातें सुनी जाए, आपसी संवाद हो और गुणवत्तापूर्ण संबंधों को बढ़ावा मिले।"

"कलीसिया बिना सीमाओं के इस प्रेम को मूर्त रूप देने के लिए बुलायी गई है, ताकि उस सपने को साकार किया जा सके जो ईश्वर ने मानवता के लिए रखा है: हम सभी भाई और बहनें हैं।"

नोट्रे-डेम डी क्यूबेक में संध्या प्रार्थना

 

Thank you for reading our article. You can keep up-to-date by subscribing to our daily newsletter. Just click here

29 July 2022, 14:57