खोज

संत पापा फ्राँसिस बुधवारीय आम दर्शन समारोह में कुछ यूक्रेनियों के साथ संत पापा फ्राँसिस बुधवारीय आम दर्शन समारोह में कुछ यूक्रेनियों के साथ  (ANSA) संपादकीय

शांति के बारे में संत पापा के प्रश्न

रविवार को स्वर्गीय रानी प्रार्थना के बाद अपने में संबोधन में, संत पापा फ्राँसिस ने प्रश्न उठाया कि क्या सैन्य और मौखिक तनाव को रोकने हेतु बातचीत की मेज पर आने के लिए वास्तविक इच्छा है भी या नहीं।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, सोमवार 02 मई 2022 (वाटिकन न्यूज) : "मुझे आश्चर्य है ... कि शांति की वास्तव में खोज की जा रही है ..." संत पापा फ्राँसिस ने सवालों के रूप में उन संदेहों को प्रस्तुत किया क्योंकि यूक्रेन में हो रहे युद्ध में सैनिकों की संख्या में वृद्धि हो रही है। विनाशकारी संघर्ष में सैन्य वृद्धि परेशान करने वाली है जो रक्षाहीन नागरिक आबादी पर अपना असर डाल रही है और यह मौखिक खतरों में वृद्धि, विरोधी के पूर्ण प्रदर्शन और संभावित परमाणु हमलों के बारे में अटकलें भी लगाई जा रही हैं।

यूक्रेन के खिलाफ रूसी सेना द्वारा किए गए आक्रमण की निरंतरता; पुन: शस्त्रीकरण की दौड़; अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मजबूत पहल की कमी, ये सभी दिखाते हैं कि सशस्त्र संघर्ष पर विचार करने वालों की राय, अतीत की वापसी और युद्ध के पुराने 'पैटर्न' (जो हमें उम्मीद थी कि पुराने थे) अपरिहार्य और तेजी से खुद पर जोर दे रहे हैं।

संत पापा ने कहा, "हम मानवता के एक भयानक प्रतिगमन को देख रहे हैं, मुझे आश्चर्य है कि इतने सारे पीड़ित लोगों के साथ, क्या वास्तव में शांति की तलाश की जा रही है? क्या निरंतर सैन्य वृद्धि और मौखिक खतरों से बचने की इच्छा है?  क्या हथियारों को शांत कराने के लिए हर संभव कोशिश की जा रही है?”

संत पापा फ्राँसिस के सवालों का सकारात्मक जवाब देने में कठिनाई है। "हम सभी शांति चाहते हैं," दुनिया के नेताओं का जवाब है। लेकिन शब्दों में व्यक्त यह इच्छा, बिल्कुल भी रचनात्मक दृढ़ संकल्प और बातचीत करने की वास्तविक इच्छा में परिवर्तित नहीं होती है। वे शांति के बारे में बात करते हैं लेकिन संत पापा द्वारा कहे जाने वाले  "युद्ध के पैटर्न" को लागू करना जारी रखते हैं।

कुछ दिनों पहले, कार्डिनल पिएत्रो पारोलिन ने एक नए हेलसिंकी सम्मेलन की आशा व्यक्त करते हुए कहा: "हाल के दशकों में जो कुछ हुआ है उसे देखते हुए हमें अंतर्राष्ट्रीय निकायों और उनके विकास पर अधिक भरोसा करने की आवश्यकता के बारे में आश्वस्त होना चाहिए । उसे एक 'सामान्य घर' के रूप में बनाने का प्रयास करना चाहिए। जहां हर किसी का प्रतिनिधित्व किया जा सके। साथ ही, हमें अंतरराष्ट्रीय संबंधों की एक नई प्रणाली बनाने की आवश्यकता के बारे में आश्वस्त करना चाहिए, जो प्रतिरोध और सैन्य बल पर आधारित नहीं हो: यह एक प्राथमिकता है। और यह एक प्राथमिकता है क्योंकि, यदि हम इस पर विचार नहीं करते हैं, यदि हम इसके लिए काम नहीं करते हैं, तो हम निश्चय ही युद्ध के रसातल की ओर भागना तय करते हैं।”

यही कारण है कि पेत्रुस के उत्तराधिकारी, संत पापा ने यह निवेदन करते हुए अपनी अपील दोहराई, कि हम "हिंसा के तर्क, हथियारों के विकृत सर्पिल के सामने आत्मसमर्पण नहीं करते हैं" और यह कि हम अंत में संवाद और शांति के मार्ग पर चलते हैं।

Thank you for reading our article. You can keep up-to-date by subscribing to our daily newsletter. Just click here

02 May 2022, 16:13