खोज

यूक्रेन में युद्ध यूक्रेन में युद्ध  (ANSA)

यूक्रेन ˸ पास्का युद्धविराम के लिए यूएन की अपील में पोप शामिल

पोप फ्रांसिस और परमधर्मपीठ ने 24 अप्रेल को जूलियन कैलेंडर के अनुसार पास्का महापर्व के अवसर पर "संघर्ष विराम" के लिए संयुक्त राष्ट्र के अनुरोध का स्वागत किया है।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

संयुक्त राष्ट्र महासचिव अंतोनियो गुटेरेस ने ग्रीक काथलिक कलीसिया के प्रमुख धर्माध्यक्ष स्वीतोस्लाव शेवचुक की सहमति से जुलियन कैलेंडर के अनुसार 24 अप्रेल को पास्का पर्व मनाये जानने हेतु युद्धविराम की अपील की है जिसको 19 अप्रेल को जारी किया गया था।  

वाटिकन प्रेस कार्यालय ने 21 अप्रेल को एक विज्ञप्ति जारी कर कहा, "परमधर्मपीठ एवं संत पापा ने संयुक्त राष्ट्र महासचिव अंतोनियो गुटेर्रेस की, ग्रीक काथलिक कलीसिया के प्रमुख धर्माध्यक्ष स्वीतोस्लाव शेवचुक की सहमति से 19 अप्रेल को, जुलियन कैलेंडर के अनुसार 24 अप्रेल को पास्का पर्व मनाने हेतु युद्धविराम की अपील का स्वागत किया है।"

"पास्का नवीनीकरण, पुनरूत्थान और आशा का समय है। यह पीड़ा, बलिदान, मौत और पुनःजन्म पर चिंतन का समय है। यह एक एकजुटता का समय है।"

यूएन के मुख्यालय न्यूयॉर्क में मंगलवार को पत्रकारों से बातें करते हुए अंतोनियो गुट्टेरेस ने कहा, "नये जीवन को मनाने के बदले, यह पास्का पूर्वी यूक्रेन में रूसी आक्रमण के समान है"। उन्होंने कहा कि सैनिकों और गोलाबारी पर अधिक ध्यान लड़ाई को और अधिक हिंसक, खूनी एवं विनाशकारी बना रहा है।" उन्होंने अपील करते हुए कहा कि ऐसा नहीं होने दिया जाएगा। "इसे होने नहीं दिया जा सकता। लाखों लोगों का जीवन अधर में लटक रहा है।"  

यूएन प्रमुख ने कहा, "आज मैं चार दिनों के लिए मानवीय विराम की अपील करता हूँ जिसकी शुरूआत पुण्य बृहस्पतिवार को होगी और पास्का रविवार 24 अप्रेल तक जारी रहेगी ताकि कई मानवीय गालियारों को खोला जा सके।"  

मानवीय जरूरतों की नितांत आवश्यकता है। लोगों के पास भोजन, पानी नहीं है, बीमारों का इलाज नहीं हो पा रहा है अथवा वे सामान्य दिनचार्य के साथ नहीं जी पा रहे हैं।

उन्होंने कहा, "इस जीवन और मरण के कारणों से मैं रूसी और युक्रेनी लोगों से अपील करता हूँ कि वे बंदुक को चुप करें तथा उन बहुत सारे दलों के लिए रास्ता खोलें जो तत्काल खतरे में हैं। चार दिवसीय पास्का की अवधि यूक्रेन में पीड़ा को समाप्त करने के लिए जीवन बचाने और संवाद को आगे बढ़ाने हेतु एकजुट होने का क्षण होना चाहिए।  

खजूर रविवार को संत पापा की अपील

संत पापा फ्राँसिस ने खजूर रविवार को पास्का युद्धविराम की अपील की थी ताकि शांति बहाल किया जा सके। उन्होंने कहा था, "हथियारों को रख दें। पास्का युद्ध –विराम शुरू हो। लेकिन युद्ध को फिर से शुरू करने के लिए नहीं बल्कि वास्तविक बातचीत के माध्यम से शांति तक पहुंचने के लिए, लोगों की भलाई के लिए कुछ त्याग करने हेतु खुला।"

प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है कि "ईश्वर के लिए कुछ भी असंभव नहीं है अतः प्रभु से प्रार्थना की गई है कि जो लोग युद्धग्रस्त क्षेत्रों में फंसे हैं उन्हें बाहर निकाला जा सके एवं शीघ्र शांति बहाल हो।" उन्होंने उन देशों के जिम्मेदार लोगों से अपील की है कि वे लोगों की शांति के लिए पुकार को सुनें।

Thank you for reading our article. You can keep up-to-date by subscribing to our daily newsletter. Just click here

21 April 2022, 16:27