खोज

Vatican News
मेक्सिको में एक बुजुर्ग वैक्सीन लेने के लिए पहुँची मेक्सिको में एक बुजुर्ग वैक्सीन लेने के लिए पहुँची  (AFP or licensors)

संत पापा : महामारी देखभाल की संस्कृति का आह्वान करती है

सामाजिक और स्वास्थ्य कल्याण सेवाएं प्रदान करने वाली एक इतालवी सामाजिक और कार्य सहकारी संस्था ओएसए के साथ एक साक्षात्कार में, संत पापा अंधेरे में रहने वाले कई लोगों को "अकेला महसूस न करने के लिए" सहायता के लिए अपना प्रोत्साहन प्रदान करते हैं।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, बुधवार 8 दिसम्बर 2021 (वाटिकन न्यूज) : रोम स्थित ओएसए सहकारी संस्था, जो जरूरतमंद लोगों, पुनर्वास, अस्पताल सेवाओं और सामाजिक-कल्याण सेवाओं के लिए घर और संस्थागत सहायता को बनाए रखने में सक्रिय है,संस्था  एक पत्रिका भी तैयार करती है, जिसमें सहायता प्राप्त लोगों की कहानियाँ रहती है। इन्हीं पन्नों पर संत पापा फ्राँसिस देखभाल की संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए एक चिंतन और निमंत्रण देते हैं।

कोमलता

"कोमलता" की क्षमता और आवश्यकता पर प्रकाश डालते हुए, संत पापा ने कहा कि कोमलता न केवल निकटता को इंगित करती है, बल्कि क्षमता या योग्यता के माध्यम से लोगों के ठोस जीवन में भागीदारी का आह्वान करती है। "यह एक निकटता है जिसे साझा करने, देखभाल और प्यार के रूप में समझा जाता है। मुझे उम्मीद है कि महामारी में हमने अकेलेपन का अनुभव किया है, महामारी ने हमें अपने बीच एक नई निकटता के लिए प्रेरित किया है। एक नई कोमलता।”

बच्चों और बुजुर्गों पर फोकस

संत पापा ने तब उत्पादकता पर केंद्रित समाज के, "अस्तित्व की परिधि के मुख्य नागरिक" बच्चों और बुजुर्गों पर अपना ध्यान केंद्रित किया। संत पापा ने कहा कि ऐसे समाज में बच्चों और बुजुर्गों का जीवन बेकार माना जाता है। इसके बजाय, वे कहते हैं, कि बच्चों और बुजुर्गों के बीच पीढ़ीगत मुलाकात एक ऐसी संस्कृति होनी चाहिए जो इन कमजोरों को एक साथ लाना और एकीकृत करना जानता हो।" यह "मानवता का सवाल है।"

केवल जब हम हाशिये पर रहने वालों की देखभाल करेंगे, सबसे ऊपर सच्चे बदलाव का संकेत देंगे, ताकि कोई पीढ़ीगत संघर्ष न हो, तभी हम युवा और बूढ़े एक साथ रहने का साहस पा सकेंगे और तभी हम समाज में रहने की एक नई गुणवत्ता का अनुभव करेंगे।"

देखना, सुनना और परवाह करना

ओएसए सहकारी संस्था लोगों को अपने घरों में सदस्यों के बीच आपसी घनिष्ठता बनाये रखने में सहायता प्रदान करता है। संत पापा कहते हैं कि घर "सिर्फ एक जगह नहीं है, यह सब से ऊपर एक रिश्ता है" जो जीवन की कठिनाइयों का सामना करने हेतु ताकत प्रदान करता है, संत पापा फ्रांसिस करते हैं, "इसका मतलब यह नहीं है, कि स्वास्थ्य देखभाल सुविधाएं बेकार हैं, ये सुविधाए बीमारी और पीड़ा में अंतिम उपाय बनना चाहिए।" संत पापा ओएसए कार्यकर्ताओं द्वारा किए गए कार्यों की प्रशंसा करते हैं "क्योंकि वे दर्द और बीमारी के अनुभव को ऐसे वातावरण में संभव बनाता है जो अधिक स्वागत योग्य, अधिक मानवीय और जीवन में कठिन समय को मानवीय बनाने में अधिक सक्षम है" अस्पताल में अपने हाल के अनुभव के आलोक में, संत पापा फ्राँसिस स्वास्थ्य देखभाल कर्मियों के लिए उनकी सेवा और काम को मानवीय तरीके से करने के प्रयास में कुछ सरल नियमों का सुझाव देते हैं। "लोगों की आंखों में देखें, उन्हें कभी भी तुच्छ समझे बिना उनके दुखों पर विचार करें और उनकी बातें सुनें ताकि "ये लोग अपने जीवन की पीड़ा, अपनी कठिनाइयों को किसी को सौंप सकें।" अंत में, देखभाल "जिसे सहायता, समर्थन देने के तरीके के रुप में अनुवादित किया जाना चाहिए। पेशेवर सेवाएं जो कभी हिंसक नहीं होतीं, कभी पूर्वानुमानित नहीं होतीं और कभी यांत्रिक नहीं होतीं।"

 क्रूस ढोने में सिरिनी की मदद

संत पापा को पूछा गया अंतिम प्रश्न दर्द और मृत्यु से संबंधित है। संत पापा फ्राँसिस इस बात पर जोर देते हैं कि येसु का नाम लिए बिना भी उनके अनुभव की उपेक्षा करना असंभव है। वे याद करते हैं कि अक्सर "मदद या सांत्वना के बजाय भाषण और भी अधिक पीड़ा देते हैं," यह आवश्यक है परीक्षण के क्षणों में, "भागना नहीं, लेकिन निकट रहना है।" हमें खुद को अलग-थलग करने के प्रलोभन से बचना चाहिए, क्योंकि "जितना अधिक हम पीड़ा सहते हैं, उतना ही हमें लगता है कि हमें अपने क्रूस को ले जाने में मदद करने के लिए एक सिरीनी सिमोन की भी आवश्यकता है।"

संत पापा ने कहा, "ईश्वर हमेशा हमारे जीवन में खुद को उपस्थित करने का एक तरीका ढूंढते हैं, तब भी जब हमें लगता है कि वे बहुत दूर है या हम परित्यक्त महसूस करते हैं। यह हमारी ताकत है। और भले ही हम इसे नहीं जानते हों, ईस्टर पहले से ही उस अंधेरे में काम कर रहा है। समय के साथ ही हमें पता चलता है कि गहनतम अंधकार में भी एक प्रकाश छिपा है। जैसा कि हम इसे महसूस करने के लिए इंतजार कर रहे हैं, हमारे आगे बढ़ने का एकमात्र तरीका है एक दूसरे की मदद करना।"

संत पापा ने अंत में कहा, "आप जो करते हैं उसके लिए धन्यवाद,", "क्योंकि आप अंधेरे से गुजरने वाले कई लोगों को अकेला महसूस करने नहीं देते, निराश होने नहीं देते और उस चीज़ का सामना करने में सक्षम होने में मदद करते हैं जो वे कभी अकेले में सामना नहीं कर पाते।"

08 December 2021, 15:57