खोज

Vatican News
रोम के त्रास्तेरे क्षेत्र में स्कोलास समुदाय की भेंट के बाद की तस्वीरः 20.05.2021 रोम के त्रास्तेरे क्षेत्र में स्कोलास समुदाय की भेंट के बाद की तस्वीरः 20.05.2021   (ANSA)

पांच महाद्वीपों के स्कोलास से मिलेंगे सन्त पापा फ्राँसिस

सन्त पापा फ्राँसिस गुरुवार 25 नवम्बर को रोम स्थित मरिया मात्तेर एकलेज़िये परमधर्मपीठीय विश्वविद्यालय में पाँच महाद्वीपों के 41 राष्ट्रों से आये 71 स्कोलास अर्थात स्कूली समुदाय के युवाओं से मुलाकात करेंगे।

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफर-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, बुधवार, 24 नवम्बर 2021 (रेई,वाटिकन रेडियो): सन्त पापा फ्राँसिस गुरुवार 25 नवम्बर को रोम स्थित मरिया मात्तेर एकलेज़िये परमधर्मपीठीय विश्वविद्यालय में पाँच महाद्वीपों के 41 राष्ट्रों से आये 71 स्कोलास अर्थात स्कूली समुदाय के युवाओं से मुलाकात करेंगे।

वाटिकन द्वारा बुधवार को प्रकाशित एक प्रेस विज्ञप्ति में बताया गया कि स्कोलास समुदाय के युवा सन्त पापा फ्राँसिस के साथ इस मुद्दे पर विचार करेंगे कि किस प्रकार कोविद महामारी ने लोगों में स्वतः के बारे में नवीन चेतना जाग्रत की है। इसके साथ ही स्कोलास युवा समुदाय सन्त पापा फ्राँसिस के विश्व पत्र फ्रात्तेल्ली तूती से प्रेरित अपनी नवीन राजनैतिक योजना की भी प्रस्तावना करेगा।    

स्कोलास समुदाय की विज्ञप्ति

स्कोलास समुदाय द्वारा प्रकाशित एक विज्ञप्ति में बताया गया कि रोम स्थित मरिया मात्तेर एकलेज़िये परमधर्मपीठीय विश्वविद्यालय में 25 नवम्बर को 16 से 27 वर्ष की उम्र के युवा उपस्थित होंगे। स्कोलास अन्तरराष्ट्रीय सम्मेलन के प्रतिभागी विभिन्न संस्कृतियों और धार्मिक विश्वासों से संबंधित हैं। इनमें, यहूदी, इस्लाम, ख्रीस्तीय, हिन्दू, बौद्ध और साथ ही अज्ञेयवाद को मानने वाले युवा भी शामिल हैं। यह भी कहा गया कि इनमें विश्वविद्यालयीन छात्रों के साथ साथ शरणार्थी तथा शिक्षा प्रणाली से बाहर रहनेवाले युवा भी उपस्थित होंगे। रोम में 23 से 28 नवम्बर तक जारी सम्मेलन में स्कोलास समुदाय के युवा महामारी के दौरान अब तक के विभिन्न अनुभवों और अपने अलग-अलग समुदायों में सीखे गए पाठों को साझा करेंगे।     

विज्ञप्ति में कहा गया कि सन्त पापा फ्राँसिस के साथ स्कोलास की मुलाकात का उद्देश्य उस विश्व के बारे में विचार करना है जिसकी युवा कल्पना करते हैं और कैसे वे अपने दृष्टिकोण को अपने देशों में लौटने पर ठोस कार्यों में परिवर्तित करेंगे। यह भी बताया गया कि उक्त युवाओं में से 50 युवा सन्त पापा फ्राँसिस के विश्व पत्र फ्रात्तेल्ली तूती पर आधारित एक वर्षीय मानवीय एवं राजनैतिक प्रशिक्षण आरम्भ करेंगे ताकि समय की चुनौतियों का सामना करने हेतु समाधान को खोजा जा सके।

24 November 2021, 10:22