खोज

Vatican News
स्लोवाकिया के सास्तिन शहर में मरियम तीर्थ पर एकत्र हुए श्रद्धालु स्लोवाकिया के सास्तिन शहर में मरियम तीर्थ पर एकत्र हुए श्रद्धालु  (AFP or licensors)

स्लोवाकिया, सन्त पापा फ्राँसिस सास्तिन में

सन्त पापा फ्राँसिस ने बुधवार को ब्रातिस्लावा स्थित परमधर्मपीठीय प्रेरतिक राजदूतावास के धर्माधिकारियों एवं कर्मचारियों से विदा ली तथा लगभग 70 किलो मीटर की दूरी पर स्थित सास्तिन शहर के लिये प्रस्थान किया, जहाँ दुखों की माँ मरियम को समर्पित महागिरजाघर में सन्त पापा फ्राँसिस ने स्लोवाकिया के धर्माध्यक्षों के साथ प्रार्थनाएं अर्पित की।

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफर-वाटिकन सिटी

स्लोवाकिया, बुधवार, 15 सितम्बर 2021 (वाटिकन न्यूज़): हंगरी और स्लोवाकिया में चार दिवसीय प्रेरितिक यात्रा के अन्तिम चरण में बुधवार को सन्त पापा फ्राँसिस ने ब्रातिस्लावा स्थित परमधर्मपीठीय प्रेरतिक राजदूतावास के धर्माधिकारियों एवं कर्मचारियों से विदा ली तथा लगभग 70 किलो मीटर की दूरी पर स्थित सास्तिन शहर के लिये प्रस्थान किया, जहाँ दुखों की माँ मरियम को समर्पित महागिरजाघर में सन्त पापा फ्राँसिस ने स्लोवाकिया के धर्माध्यक्षों के साथ प्रार्थनाएं अर्पित की।

सास्तिन का मरियम तीर्थ 

हंगरी और स्लोवाकिया में सन्त पापा फ्राँसिस की चार दिवसीय प्रेरितिक यात्रा बुधवार को उस समय अपने चरमोत्कर्ष पर पहुँची जब सन्त पापा तथा स्लोवाकिया के विश्वासियों ने सास्तिन नगर स्थित मरियम तीर्थ पर अपनी संरक्षिका दुखों की माँ मरियम का समारोह मनाया।  

यह किसी से नहीं छिपा है कि सन्त पापा फ्राँसिस को पवित्र कुँवारी मरियम की भक्ति से विशेष लगाव है। इसीलिये अपनी सभी प्रेरितिक यात्राओं से पूर्व तथा यात्राओं के उपरान्त वे रोम के मरियम महागिरजाघर की भेंट कर, "सालुस पोपुली रोमानी" शीर्षक से सुसज्जित, मरियम की प्रतिमा के आगे घुटने टेककर, माँ मरियम के ममतामयी संरक्षण की याचना करते हैं।  

इतिहास  

ऐतिहासिक दृष्टि से दुखों की माता मरियम को समर्पित सास्तिन के मरियम तीर्थ की स्थापना सन् 1564 ई. में हुई थी। किंवदन्ती है कि उस युग का एक स्थानीय सामन्त अपनी पत्नी के साथ दुर्व्यवहार किया करता था। बेगम अन्जेलिका बाकिट्स नाम से पहचानी जानेवाली पीड़ित महिला वर्षों माँ मरियम से विनती करती रही थी कि उसके पति का मनपरिवर्तन हो जाये तथा वह दुर्व्यवहार का सिलसिला बन्द कर दे। एक दिन अपने रथ पर सवार पति-पत्नी में किसी बात पर बहस चल गई और दुष्ट पति ने पत्नी अन्जेलिका को रथ से बाहर फेंक डाला। उसी दिन अन्जेलिका ने माँ मरियम से प्रतिज्ञा की कि यदि उसका पति सुधर जायेगा तो वह उनकी एक प्रतिमा को स्थापित कर देगी। इस घटना के तुरन्त बाद चमत्कारी ढंग से दुष्ट पति एक भले व्यक्ति में परिणत हो गया तथा उसने पत्नी अन्जेलिका से अपने दुर्व्यवहारों के लिये क्षमा याचना की। जिस स्थल पर पत्नी को पति ने रथ से बाहर फेंका था, उसी स्थल पर मरियम की एक प्रतिमा स्थापित की गई तथा शनै: शनै: यह एक लोकप्रिय मरियम तीर्थ बन गया।

स्लोवाकिया के सास्तिन में दुखों की माँ को समर्पित मरियम महागिरजघर आज स्लोवाकिया का एक विख्यात मरियम तीर्थ है जहाँ न केवल स्लोवाकिया और यूरोप से बल्कि विश्व के कई देशों से तीर्थयात्री आराधना-अर्चना के लिये पहुँचते हैं। महारानी मरिया तेरेसा तथा उनके पति लोरेन के स्टीफन  सम्राट फ्राँसिस प्रथम की उपस्थिति में मरियम गिरजाघर का अनुष्ठान सम्पन्न हुआ था। सन् 1964 ई. में सन्त पापा पौल षष्टम द्वारा इस गिरजाघर को महागिरजाघर का दर्ज़ा प्रदान किया गया था। सास्तिन के मीडिया मैनेजेर मिरोस्लाव जानक ने वाटिकन न्यूज़ को बताया कि प्रति वर्ष लगभग दो लाख तीर्थयात्री देश-विदेश से सास्किन के मरियम तीर्थ पर श्रद्धार्पण हेतु आते हैं।

सन्त पापा फाँसिस की यात्रा

सन्त पापा फ्राँसिस की भेंट के बारे में मीडिया मैनेजर जानक ने कहा, "सन्त पापा को स्लोवाकिया तथा सास्तिन में देखना एक महान गौरव का विषय है। यह घटना ऐसी है जो पीढ़ी के अन्तराल में एक बार होती है।" तथापि, उन्होंने इस तथ्य को रेखांकित किया कि सन्त पापा फ्राँसिस की यात्रा स्लोवाकिया के लिये एक अत्यधिक कठिन काल में हो रही थी। उन्होंने कहा, "स्लोवाकिय एक बहुत ही मनोरम और आश्चर्यपूर्ण देश है, यहाँ सुखद जीवन के लिये सभी परिस्थितियाँ मौजूद हैं, किन्तु इसके बावजूद यदि आज प्रभु येसु स्वयं स्लोवाकिया आयें तो वे स्लोवाकिया को एकता में सूत्रबद्ध देश नहीं पायेंगे।"

श्री जानक ने कहा कि विगत दो वर्षों से कोविद महामारी की वजह से राष्ट्र और अधिक विभाजित हो गया है तथा कठिनाइयाँ ऊपरी स्थल पर आ गई हैं। उन्होंने कहा कि वे माँ मरियम से प्रार्थना करते हैं तथा उम्मीद करते हैं कि स्लोवाकिया में सन्त पापा फ्राँसिस की उपस्थिति स्लोवाकिया के लोगों को एक दूसरे के प्रति एकात्मता तथा एकता के लिये प्रेरित करेगी।  

 

15 September 2021, 11:46