खोज

Vatican News

स्लोवाकिया के युवाओं से संत पापा: निडर होकर सपने देखें

संत पोप फ्राँसिस स्लोवाकिया में कोशिज़े के लोकोमोतिवा स्टेडियम में युवाओं से मुलाकात की और उनके तीन सवालों का जवाब दिया, एक दूसरे के लिए प्यार और क्रूस के लिए प्यार।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

कोशिज़े, बुधवार 15 सितम्बर 2021 (वाटिकन न्यूज) : अपनी प्रेरितिक यात्रा के तीसरे दिन संत पापा फ्राँसिस का अंतिम पड़ाव कोशिज़े शहर के लोकोमोतिवा स्टेडियम में युवाओं से मुलाकात करना था। इसी स्टेडियम में 2018 में अन्ना कोलेसारोवा को धन्य घोषित किया गया था।

संत पापा फ्राँसिस ने तीन प्रश्नों के उत्तर देते हुए शुरुआत की जो उनसे उपस्थित कुछ युवाओं द्वारा पूछे गए थे। संत पापा ने कहा, "मैं उनके प्रश्नों का जवाब देने की कोशिश करना चाहता हूँ।"

दो लोगों के बीच प्रेम के बारे में पीटर और ज़ुज़्का के प्रश्न का उत्तर देते हुए, संत पापा ने कहा कि "जीवन में सभी महान चीजों की तरह, प्रेम शानदार है, लेकिन आसान नहीं है।" "यह हमारा सबसे बड़ा सपना है," हालांकि इसे "व्याख्या करना आसान नहीं है।" उन्होंने कहा कि सही तरीका है "नई आंखों" से देखना, ऐसी आंखें जो दिखावे में नहीं आती हैं और जो प्यार को तुच्छ नहीं बनाती हैं। संत पापा ने कहा, "क्योंकि प्रेम केवल एक अनुभूति या भावना नहीं है, यह निष्ठा, उपहार और जिम्मेदारी है।"

संत पापा ने कहा, "हमें यहां सिर्फ यूँ जीवन बिताने के लिए नहीं, बल्कि अपने जीवन में कुछ हासिल करने के लिए दिया गया है।" उन्होंने युवाओं से साहसी बनने और "निडर होकर सपने देखने" का आग्रह किया। संत पापा ने कहा, "कृपया, अपने जीवन को यूँ ही न गुजरने दें।"

जड़ें

संत पापा फ्राँसिस ने तब लोकोमोटिवा स्टेडियम में एकत्रित युवाओं से कहा कि वे उन्हें एक और सलाह देना चाहते हैं। "प्यार को फलदायी होने के लिए, अपनी जड़ों को न भूलें, विशेषकर अपने बुजुर्गों को, अपने दादा-दादी, नाना-नानी को। आज, बिना जड़ के बड़े होने का खतरा है, क्योंकि हमें लगता है कि हमें हमेशा चलते रहना है, जल्दी में सब कुछ करना है।" इसके बजाय, उन्होंने समझाया कि उन्हें हमेशा दूसरों के लिए खुला रहना चाहिए।

संत पापा ने कहा, "आज, बहुत सारी विघटनकारी ताकतें हैं, इतने सारे लोग, हर किसी को और हर चीज को दोष देने के लिए तैयार हैं, नकारात्मकता फैलाने वाले, पेशेवर शिकायतकर्ता हैं।" "उन पर ध्यान न दें, क्योंकि निराशावादी और शिकायतकर्ता ख्रीस्तीय नहीं हैं।"

बाधाओं को दूर करना

फिर, पेट्रा के प्रश्न का उत्तर देते हुए कि कैसे युवा लोग ईश्वर की दया के मार्ग में बाधाओं को दूर कर सकते हैं, संत पापा ने कहा कि यह निर्भर करता है कि "हम चीजों को कैसे देखते हैं और वास्तव में क्या मायने रखता है, यह देखने का नजरिया है।"

संत पापा ने वहाँ उपस्थित युवाओं से एक प्रश्न किया,"जब आप पापस्वीकार के लिए जाते हैं तो आप क्या सोचते हैं? मैं निश्चित रुप से कह सकता हूँ कि आपका उत्तर 'हमारे पाप' होगा।" लेकिन पाप वास्तव में पापस्वीकार का केंद्र नहीं हैं। हमारे पिता, जो सब कुछ माफ कर देते हैं, केंद्र में हैं।" संत पापा ने कहा, "हम दंडित और अपमानित होने के लिए पापस्वीकार करने नहीं जाते हैं, लेकिन बच्चों के समान पिता की प्यारी बाहों में, उसका प्रेम पाने के लिए जाते हैं।"

संत पापा ने कहा, "मैं आपको एक छोटी सी सलाह दूंगा। प्रत्येक पापस्वीकार संस्कार ग्रहण करने के बाद, आपको मिली क्षमा को याद करने के लिए कुछ समय बितायें।"

क्रूस को गले लगाना

अंत में, संत पापा फ्राँसिस ने पीटर और लेनका को संबोधित किया, जिन्होंने प्रश्न किया था कि कैसे युवा लोगों को क्रूस को गले लगाने से नहीं डरने के लिए प्रोत्साहित किया जा सकता है। संत पापा ने कहा। "गले लगाने से हमें डर पर काबू पाने में मदद मिलती है", "जब भी कोई हमें गले लगाता है, तो हम अपने आप में और जीवन में विश्वास हासिल करते हैं। तो आइए हम खुद को येसु द्वारा गले लगाने की अनुमति दें। येसु के साथ क्रूस को गले लगाने से येसु की खुशी मिलती है।" अंत में संत पापा ने कहा, "वही खुशी मैं आप सब के लिए चाहता हूँ।"

Photogallery

कोशिज़े के लोकोमोतिवा स्टेडियम में यवाओं को संत पापा का संबोधन
15 September 2021, 12:18