खोज

Vatican News
देवदूत प्रार्थना का पाठ करते संत पाप फ्रांसिस देवदूत प्रार्थना का पाठ करते संत पाप फ्रांसिस   (AFP or licensors)

देवदूत में संत पापा ˸ क्रूस, आपके अतीत एवं भविष्य को जोड़े

बुडापेस्ट के हिरो प्राँगण में ख्रीस्तयाग अर्पित करने के उपरांत देवदूत प्रार्थना के पूर्व संत पापा फ्राँसिस ने हंगरी के धार्मिक और नागरिक अधिकारियों के प्रति आभार प्रकट किया तथा हंगरी के लोगों को धन्यवाद दिया। उन्होंने उनसे अपील की कि वे क्रूस को अतीत एवं भविष्य के बीच सेतु के रूप में अपनायें।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

बुडापेस्ट, रविवार, 12 सितम्बर 2021 (रेई)- अंतरराष्ट्रीय यूखरीस्तीय सम्मेलन के समापन का मिस्सा अर्पित करने के उपरांत संत पापा ने देवदूत प्रार्थना के पूर्व "यूखरीस्त" शब्द का अर्थ बतलाते हुए कहा कि इसका अर्थ है "धन्यवाद"।

उन्होंने कहा, "इस समारोह के अंत में जो अंतरराष्ट्रीय यूखरीस्तीय सम्मेलन एवं बुडापेस्ट में मेरी यात्रा का समापन है, मैं अपने दिल की गहराई से धन्यवाद देना चाहता हूँ।"

संत पापा ने "महान हंगरी ख्रीस्तीय परिवार" को धन्यवाद दिया और कहा कि "मैं इसकी रीतियों, इतिहास, इसके भाइयों एवं बहनों, दोनों काथलिक एवं दूसरे ख्रीस्तीय समुदायों का आलिंगन करना चाहता हूँ ˸ सभी पूर्ण एकता की ओर आगे आगे बढ़ रहे हैं।"

तत्पश्चात् संत पापा ने हंगरी के सभी लोगों को धन्यवाद दिया। उन्होंने अपनी इच्छा जाहिर की कि क्रूस उनके अतीत एवं भविष्य के बीच सेतु बने।

पोलैंड में धन्य घोषणा

उसके बाद संत पापा ने गौर किया कि आज पोलैंड के वरसाव में क्रूस की सेविकाएँ फ्राँसिसकन धर्मबहनों के संस्थापक कार्डिनल स्तेफन वाएजेस्की और एलिजाबेथ ज़का की धन्य घोषणा हुई।  

संत पापा ने कहा, "दोनों ही क्रूस को पहला स्थान देना जानते थे। उन्होंने बतालाया कि कार्डिनल वाएजेंस्की पोलैंड के धर्माध्यक्ष थे जिन्हें गिरफ्तार कर जेल में रखा गया था। वे एक साहसी चरवाहे, ख्रीस्त के दिल के करीब तथा स्वतंत्रता एवं मानव प्रतिष्ठा के संदेशवाहक थे।" सिस्टर एलिजाबेथ ने एक जवान युवती के रूप में अपनी रोशनी खो दी थी, उन्होंने सारा जीवन दृष्टिहीन लोगों की मदद करने में बिताया।  

अंततः संत पापा ने उपस्थित लोगों देवदूत प्रार्थना का पाठ करने का निमंत्रण दिया तथा अंत में उन्हें अपना प्रेरितिक आशीर्वाद दिया।

Photogallery

बुडापेस्ट के हिरो प्राँगण में ख्रीस्तयाग अर्पित करने के उपरांत देवदूत प्रार्थना
12 September 2021, 16:06