खोज

Vatican News
गुलाम गुलाम  (©yupachingping - stock.adobe.com)

साहित्य और कला गुलाम श्रम का शोषण न करे

संत पापा फ्राँसिस ने इताली लेखक मौरित्सियो मैगियानी के एक खुले पत्र का जवाब दिया, और सभी लेखकों से यह सुनिश्चित करने का आग्रह किया है कि उनकी पुस्तकें शोषणकारी या दास श्रम का उपयोग करके मुद्रित न हों।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

रोमांस उपन्यास लिखनेवाले इतालवी लेखक मौरिज़ियो मैगियानी ने हाल ही में पाया कि उनकी किताबें पाकिस्तान में गुलाम जैसी परिस्थितियों में लोगों का शोषण करके छपी हैं।

लेखक ने तब संत पापा फ्राँसिस को यह पूछते हुए एक खुला पत्र लिखा था - "क्या दासों के काम के लिए आकर्षण पैदा करना उचित है?"

पोप ने इसके जवाब में अपना एक पत्र लिखा, जिसे शुक्रवार को उसी वेबसाइट पर प्रकाशित किया गया।

सवाल व्यर्थ नहीं

9 अगस्त के पत्र में, संत पापा फ्राँसिस ने लेखक के खुले प्रश्न को उठाया, और एक ऐसी समस्या का साहसपूर्वक सामना करने के लिए उसकी प्रशंसा की, जिसके बारे में "कई लोग चुप रहते हैं।"

पोप ने लिखा, "मैं आपके शब्दों से प्रभावित हुआ, आपका कोई सवाल व्यर्थ नहीं है, क्योंकि जो कुछ दांव पर है वह मानवीय गरिमा है, एक ऐसी गरिमा जिसे आज बहुत बार और आसानी से 'दास श्रम' और कई लोगों की मूक सहभागिता के माध्यम से रौंदा जाता है।"

उन्होंने याद किया कि कैसे पिछले साल के कोविड -19 लॉकडाउन के शुरुआती दिनों में पता चला था कि दिहाड़ी मजदूरों से बहुत अधिक भोजन का उत्पादन किया जा रहा था, जिनके पास बुनियादी अधिकारों की कमी थी।

शोषण और पाप

संत पापा फ्राँसिस ने कहा कि मैगियानी के प्रश्न से और भी अधिक चौंकाने वाली बात सामने आई है,"यहां तक कि साहित्य-आत्माओं की रोटी और मानव आत्मा की अभिव्यक्ति-शोषण की प्रचंडता से घायल है जो छाया में घटित होता एवं चेहरे और नामों को मिटा देता है।"

संत पापा ने कहा कि उनके लिए "अन्याय पैदा करते हुए सुंदर और संपादन योग्य लेखों को प्रकाशित करना एक स्वाभाविक अन्यायपूर्ण कार्य है।"

"और एक ख्रीस्तीय के लिए," "हर प्रकार का शोषण एक पाप है।"

उन्होंने कहा, "फिर भी सौंदर्य का त्याग करना पीछे हटने का एक रूप होगा जो अन्यायपूर्ण है, अच्छाई की चूक होगी।"

रिपोर्ट करने की जिम्मेदारी

पोप ने साहित्य के क्षेत्र में सभी के साथ मैगियानी से किताबों को छापने के लिए दास श्रम का उपयोग करने की प्रथा के खिलाफ कार्रवाई करने का आग्रह किया।

"हालांकि, पेन-या कंप्यूटर कीबोर्ड- हमें एक और संभावना प्रदान करता है: असहज चीजों को रिपोर्ट करने और लिखने के लिए जो हमें अंतरात्मा को उत्तेजित करने हेतु उदासीनता से बाहर कर सकती हैं"।

इताली लेखक मैगियानी "उन लोगों की कहानियाँ लिखते हैं जो चुप हैं, पिछड़े और अपमानित हैं।"

शोषण का परित्याग

संत पापा फ्राँसिस ने सभी से "त्याग" करने का भी आह्वान किया - सांस्कृतिक कार्यों और साहित्य को नहीं - बल्कि "दृष्टिकोण और फायदे को जो ... शोषण की विकृत साजिश को बढ़ावा देते हैं, जो हमारे भाइयों और बहनों की गरिमा को नुकसान पहुंचाते हैं।"

और उन्होंने इस महत्वपूर्ण समस्या की ओर उनका ध्यान खींचने के लिए इतालवी लेखक को धन्यवाद दिया।

"उन सभी को धन्यवाद जो मानव गरिमा को बढ़ावा देने के लिए अच्छा त्याग करते हैं और अंतःकरण की आपत्ति करते हैं।"

"उन सभी को धन्यवाद जो मानव गरिमा को बढ़ावा देने के लिए त्याग करते हैं और अंतःकरण की आपत्ति करते हैं।"

12 August 2021, 15:37