खोज

Vatican News
दादा-दादी और बुज़ुर्गों के पहले विश्व दिवस पर संत पेत्रुस महागिरजाघर में पवित्र मिस्सा समारोह दादा-दादी और बुज़ुर्गों के पहले विश्व दिवस पर संत पेत्रुस महागिरजाघर में पवित्र मिस्सा समारोह  (Vatican Media)

दादा-दादी हमारे जीवन को पोषित करने वाली रोटियां हैं, संत पापा

दादा-दादी और बुज़ुर्गों के पहले विश्व दिवस पर अपने प्रवचन में, संत पापा फ्राँसिस ने जीवन के अनुबंधों को साझा करने में युवा और बुजुर्गों को एक साथ आने के महत्व पर जोर दिया।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, रविवार 25 जुलाई 2021 (वाटिकन न्यूज) :  जैसा कि कलीसिया ने दादा-दादी और बुजुर्गों के पहले विश्व दिवस को चिह्नित किया, महाधर्माध्यक्ष रिनो फिसिकेला ने संत पेत्रुस महागिरजाघर में संत पापा फ्राँसिस की ओर से पवित्र मिस्सा का अनुष्ठान किया। संत पापा अभी भी सर्जरी के बाद ठीक हो रहे हैं।

महाधर्माध्यक्ष फिसिकेला ने संत पापा फ्राँसिस द्वारा तैयार किए गए उपदेश को पढ़ा, जिसमें संत पापा ने सामान्य काल के सत्रहवें रविवार के सुसमाचार पर चिंतन किया, जहाँ येसु द्वारा पांच रोटियों और दो मछलियों के चमत्कार की चर्चा की गई है।

संत पापा ने सुसमाचार के "तीन पलों" पर विचार किया: "येसु भीड़ की भूख को देखते हैं, येसु ने रोटी बांटी और येसु कहते हैं कि बची हुई रोटियां इकट्ठी की जाए।” उन्होंने कहा, "इन तीन पलों को तीन क्रियाओं में अभिव्यक्त किया जा सकता है: देखना, साझा करना, संरक्षित करना।"

प्रत्येक व्यक्ति की जरूरतों को देखना

संत पापा फ्राँसिस ने कहा, " रोटियों और मछलियों का चमत्कार, येसु की निगाहों से शुरू होता है, जो थकी हुए मानवता द्वारा महसूस की गई भूख को देखने के लिए न तो उदासीन हैं और न ही इतने व्यस्त हैं। इसके बजाय, वे सभी के लिए चिंतित है और प्रत्येक व्यक्ति की जरूरतों को समझते हैं।"

संत पापा ने कहा, "हमारे दादा-दादी हमें उसी तरह देखते हैं, उनका प्यार हमें बढ़ने में मदद किया और बदले में, हम अपने प्यार और ध्यान को साझा करने के लिए बुलाए गए हैं। संत पापा फ्राँसिस ने कहा, "आइए, हम अपनी आँखें उठाएँ और उन्हें देखें, जैसे येसु हमें देखते हैं।"

जीवन के अनुबंधों की साझाकरण

संत पापा ने बताया कि येसु ने एक युवक द्वारा बांटी गई रोटियों और मछलियों से लोगों को खिलाया। उन्होंने कहा, "चमत्कार के केंद्र में हम पाते हैं कि एक युवक जो उसके पास है उसे साझा करने के लिए तैयार है।"

संत पापा फ्राँसिस ने जोर देकर कहा कि "आज हमें युवा और वृद्ध के बीच एक नये अनुबंध की आवश्यकता है। हमें जीवन के खजाने को साझा करने, एक साथ सपने देखने, पीढ़ियों के बीच संघर्ष को दूर करने और एक साथ भविष्य तैयार करने की आवश्यकता है। ” उन्होंने कहा कि "जीवन में अनुबंध की साझेदारी" के बिना, हम भूख से मरने का जोखिम उठाते हैं।

संत पापा ने कहा, "मैंने अक्सर युवा और बुजुर्गों के एक साथ आने के बारे में नबी योएल के शब्दों का उल्लेख किया है।" "युवा लोग, भविष्य के नबियों के रूप में, जो अपने इतिहास को संजोते हैं। बुजुर्ग, जो सपने देखना जारी रखते हैं और अपने अनुभव को युवाओं के साथ साझा करते हैं, उनके रास्ते में खड़े नहीं होते हैं। युवा और बुजुर्ग, परंपरा का खजाना और आत्मा की ताजगी हैं।”

अलग करने का कोई मतलब नहीं

चमत्कार के बाद रोटी के टुकड़े इकट्ठा करने के लिए येसु के निर्देश पर विचार करते हुए, संत पापा ने कहा, "यह ईश्वर के दिल को प्रकट करता है" जो चिंतित है कि "कुछ भी न खोएं, एक टुकड़ा भी नहीं।" यह लोगों के लिए विशेष रूप से सच है, जिन्हें कभी नहीं छोड़ा जाना चाहिए।

उन्होंने कहा, "हमें इस भविष्यवाणी के आह्वान को आपस में और दुनिया को सुनाने की जरूरत है: इकट्ठा करो, देखभाल के साथ संरक्षित करो, रक्षा करो।"

संत पापा फ्राँसिस ने हमारे दादा-दादी की "रक्षा" करने के महत्व पर जोर दिया, क्योंकि जैसे-जैसे हम बड़े हुए उन्होंने हमारी रक्षा की। "आइए हम उनकी रक्षा करें, ताकि उनके जीवन और सपना कुछ भी खो न जाए।"

हमारे जीवन की रोटी

संत पापा फ्राँसिस ने कहा कि दादा-दादी और बुजुर्ग, "वे रोटियां हैं जो हमारे जीवन का पोषण करती हैं।" अपने प्रवचन के अंत में उन्होंने निवेदन किया, "आइए हम उन्हें न भूलें। आइए, हम उनके साथ अपने आप को प्रतिबद्ध करें," ताकि, "युवा और बुजुर्ग समान रूप से" "ईश्वर द्वारा आशीषित होकर, बांटने की मेज पर पूर्णता पाएं।"

बुजुर्ग को फूल देती हुई एक युवा
बुजुर्ग को फूल देती हुई एक युवा

पवित्र मिस्सा के समापन पर महागिरजाघर में उपस्थित युवाओं ने बुजुर्गों को फूल भेंट की।

25 July 2021, 21:50